मौलवी के पुराने वीडियो ने बताई बांग्लादेश के मंदिरो की स्थिति!

मौलवी के पुराने वीडियो ने बताई बांग्लादेश के मंदिरो की स्थिति!
बांग्लादेश में लगातार दस दिनों से जारी है हिंदुओं के खिलाफ हिंसा(twitter)

लगातार दस दिनों से जारी बांग्लादेश के हिंदुओं पर नरसंहार बंद होने का नाम नहीं ले रहा है कि इसी बीच सोशल मीडिया में एक मौलवी का बयान वायरल हो रहा है जिसने बांग्लादेश के हिंदुओं(Bangladesh Hindu) और वहां के मंदिरों की स्थिति बता दी है। आज हम आपको इसी मौलवी के बयान के बारे में बताएंगे।

हमारे पड़ोसी देश बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति दिन प्रतिदिन बदतर होती जा रही है। वहां पर हिंदुओं(Bangladesh Hindu) के धार्मिक स्थल पर इस्लामिक कट्टरपंथियों द्वारा तोड़फोड़ अभी भी जारी है। इसी बीच एक बांग्लादेशी मौलवी का वीडियो वायरल हो रहा है। जो वहां के मंदिरों की स्थिति बयां कर रहा है। दरअसल, वीडियो में मौलवी कह रहा है कि हम मुसलमान हैं, हमने मूर्तियों को नष्ट करने के लिए जन्म लिया है न कि बनाने के लिए। कायरों, मैं अपने इन हाथों से चित्र या मूर्तियाँ नहीं लटकाऊँगा। आपको याद रखना चाहिए कि मैं उस समुदाय से आता हूं जहां मूर्तियों को नष्ट करने की विचारधारा हमारे खून में चलती है। यह हमारी त्वचा में मिश्रित होता है।"


আমরা মুসলিম মুর্তি ভাঙ্গতে জন্মেছি মুর্তি গড়তে জন্মিনি by Abdur Razzak Bin Yousuf

youtu.be

आपको बता दें यह वीडियो लगभग 5 साल वर्ष पुराना बताया जा रहा है। यह मौलवी बांग्लादेश(Bangladesh) का रहने वाला है और इसका खास काम हिंदुओं के खिलाफ जहर उगलना है। लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि यह कई बार भारत में भी आकर हिंदुओं(Bangladesh Hindu) के खिलाफ जहर उगल चुका है। अब आप कल्पना करिए यह तो केवल एक ही मौलाना है जिसका वीडियो सामने आया है। इसके जैसे और कितने मौलाना और मौलवी होंगे जो सनातन संस्कृति के खिलाफ निरंतर जहर उगलते चले आ रहे हैं।

हिंदुओं पर जारी नरसंहार पर बांग्लादेश सरकार ने क्या उठाया है कदम?

बांग्लादेश पर जारी हिंदुओं(Bangladesh Hindu) का नरसंहार पर सभी हिंदू न्याय चाहते हैं इसलिए आज हम आपको बांग्लादेश सरकार ने इस स्थिति पर क्या कदम उठाए हैं, यह बताएंगे।

बांग्लादेश में दंगों के पीछे कारण दुर्गा पंडाल में कुरान का होना था जिसके बाद से जगह-जगह हिंदुओं पर नरसंहार हो रहे थे जिस इस्लामिक कट्टरपंथियों ने इस कृत्य को अंजाम दिया उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। उसकी पहचान इकबाल हुसैन के रूप में हुई है जिसकी उम्र 35 वर्ष बताई जा रही है। इसके अलावा मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो, इस नरसंहार के सिलसिले में कोमिल्ला पुलिस ने चार मामले दर्ज किए हैं और 41 गिरफ्तारियां की हैं। गिरफ्तार किए गए लोगों में से चार लोग इकबाल हुसैन के सहयोगी भी बताए जा रहे हैं। लेकिन इस खबर के पीछे भी ट्वीस्ट आ ही गया दरअसल, इकबाल की मां अमीना बेगम ने बताया कि वह एक ड्रग एडिक्ट है और लगभग 10 साल पहले कुछ पड़ोसियों द्वारा उसके पेट में छुरा घोंपने के बाद से मानसिक रूप से बीमार है। शायद आप लोग समझ गए होंगे मानसिक रूप से बीमार क्यों बताया जा रहा है। अब प्रश्न उठता है कि यह संयोग है या प्रयोग है?

Input: Various Source; Edited By: Lakshya Gupta

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com