रेशमा खान का मानना वर्जित हो बुर्क़ा प्रथा !

रेशमा खान का मानना वर्जित हो बुर्क़ा प्रथा !
ऑल इंडिया रेडियो (आकाशवाणी) की प्रोग्राम हेड रेशमा खान । (Social Media)

By अर्चना शर्मा

ऑल इंडिया रेडियो (आकाशवाणी) की प्रोग्राम हेड रेशमा खान भारत में प्रगतिशील महिलाओं की आवाज का प्रतिनिधित्व करती हैं, जो निडर और बुद्धिमान हैं, हाजिरजवाब, विनोदी हैं फिर भी संवेदनशील हैं और जिनका मकसद माता-पिता के सिखाए मूल्यों का अनुसरण करते हुए प्रगति और तरक्की की सीढ़ी चढ़ना है।

रेशमा ने अपनी डिक्शन, आवाज, स्पष्ट पंक्चुएशन, धार प्रवाह बोलन के साथ ब्रॉडकास्टिंग में एक छाप छोड़ी है।

पिछले 33 वर्षो में, उन्होंने कई बड़ी हस्तियों का साक्षात्कार लिया है और प्रसिद्ध व्यक्तित्वों के जीवन को करीब से देखा है और विभिन्न दृष्टिकोणों से उनकी जीवन शैली के बारे में बात की है।

हालांकि, उनके दिल को एक बात जो चुभती है, वो है महिलाओं को बुर्का और हिजाब पहने हुए देखना, यहां तक कि चिलचिलाती गर्मी में भी।

उन्होंने कहा, "अगर मैं एक दिन के लिए प्रधानमंत्री बनती, तो देश में महिलाओं के लिए बुर्का और हिजाब पर प्रतिबंध लगा देती।"

रेशमा ने आगे कहा, "सवाई माधोपुर में अपनी पोस्टिंग के दौरान, मैं बुर्का पहने महिलाओं को चिलचिलाती गर्मी में चार बच्चों और अपने पति के साथ सड़कों पर से गुजरते देखती थी।"

उन्होंने कहा, "यह देखना बहुत खराब लगता था, क्योंकि उनका बेशर्म पति उनके साथ फिजूल के एक दंभ के साथ चलते थे। मैं हमेशा सोचती थी कि क्या मैं इन महिलाओं के लिए बुर्का पर प्रतिबंध लगा सकती हूं।"

रेशमा खान अजमेर में एक उदारवादी और प्रगतिशील सोच वाले परिवार में पली-बढ़ी हैं। इस परिवार में कोई लैंगिक पक्षपात नहीं था और हर किसी को मानवता के सिद्धांतों का पालन करते हुए एक-दूसरे का सम्मान करना सिखाया जाता था।

कॉन्वेंट शिक्षित रेशमा, जो बाद में आकाशवाणी से जुड़ गईं, ने कहा, "आज, ऐसा लगता है कि हम सोशल टैबू पर वापस जा रहे हैं- लड़कियों और लड़कों के बारे में बहुत ज्यादा बात कर रहे हैं। यहां जेंडर के बारे में बहुत ज्यादा बात की जा रही है। इसके अलावा, जाति भी एक मुद्दा है, जो आरक्षण को लेकर एक हॉट टॉपिक बन गया है।"

उन्होंने कहा, "1992 में मंडल आयोग मुद्दे पर हंगामा मचने तक–हमने जाति और धर्म के मामले में कभी नहीं जाना कि कौन क्या है, लेकिन अब यह जगजाहिर है, जो अच्छा नहीं है।"

रेशमा ने कहा, "वास्तव में, मैं अपनी दो बेटियों को अच्छा इंसान बनना सिखा रहा हूं। कुछ साल पहले जातिगत पूर्वाग्रह भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच और वेज और नॉन-वेज अंतर तक सीमित था। हालांकि, अब यह विभाजन बड़ा है।"

रेशमा सवाल करती हैं कि मुस्लिम भाइयों का अध्ययन उसी तरह क्यों नहीं हो सकता, जैसे अन्य सभी जातियों और धर्मो के लोगों का होता है और आगे बढ़ते हैं। वे मदरसों के चंगुल से बाहर क्यों नहीं आ रहे।

उन्होंने कहा कि उनकी परवरिश एक ऐसे परिवार में हुई है, जहां वह निजर और आत्मविश्वासी बनी हैं।

अपनी उदार परवरिश पर बात करते हुए रेशमा ने कहा, "एक मुस्लिम परिवार से होने के बावजूद, मेरी दादी ने कभी परदा नहीं किया और वह मेरे दादा के साथ शिकार के लिए जाती थीं और तैराकी में अच्छी थीं। साहसी और प्रगतिशील विचारधारा के साथ, उन्होंने अपने सभी 10 बच्चों की परवरिश गुणों, मूल्यों और सिद्धांतों के साथ यह सुनिश्चित करने के लिए की थी कि वे गर्व के साथ अपना जीवन जिएं और सफलता हासिल करें। मेरी मां एनसीसी कैडेट और घुड़सवार भी थीं।"

रेशमा का मानना है कि बुर्क़ा पहनना और न पहनना धर्म के प्रति आस्था को नहीं जताता। (सांकेतिक चित्र ,Pixabay)

उन्होंने कहा, "पांच-छह दशक पहले 10 के बीच मेरी सभी छह चाची स्नातक और पोस्ट-ग्रेजुएट थीं। परिवार की विरासत को आगे बढ़ाते हुए, मेरे परिवार के सदस्यों ने मुझे सबसे अच्छी शिक्षा दी।"

रेशमा ने कहा, "मेरे पिता एक अधिकारी एक अद्भुत वक्ता थे और उन्होंने हमें समाचारपत्रों, पत्रिकाओं और अच्छी पुस्तकों को पढ़ने के लिए जोर दिया।"

रेशमा कहती हैं, "कम उम्र में, मैं एक बहुत पढ़ी-लिखी लड़की बन गई और इन सभी गुणों ने मुझे जो कुछ भी चाहिए था, उसे प्राप्त करने में मदद की – ऑल इंडिया रेडियो में मैं आगामी फरवरी में 33 साल पूरे करूंगी।"

रेशमा के पति एक आईएएस अधिकारी हैं, जो झुंझुनू के जिला कलेक्टर के रूप में सेवारत हैं। उन्होंने बताया कि उनके पति ने हमेशा उनका सपोर्ट किया है।

उनकी बड़ी बेटी किरोड़ीमल कॉलेज से अर्थशास्त्र की पढ़ाई कर रही हैं और विभिन्न प्रोजेक्ट पर अपने स्कूल के दिनों में अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जर्मनी की यात्रा की है। छोटी बेटी सेंट जेवियर्स में पढ़ती हैं।

रेशमा ने कहा, "मैं चाहती हूं कि मेरी बेटियों को वही एनर्जी और माहौल मिले जो जो हमें बचपन में दिया गया था।"

हालांकि, उनकी दोनों बेटियों का मानना है कि हिजाब और बुर्का पहनना या नहीं पहनना एक महिला का अपना फैसला होना चाहिए। (आईएएनएस)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com