लंदन के वैज्ञानिकों ने मानव रक्त  माइक्रोप्लास्टिक की खोज की

लंदन के वैज्ञानिकों ने मानव रक्त  माइक्रोप्लास्टिक की खोज की

वैज्ञानिकों की एक टीम ने पहली बार यह प्रदर्शित किया है कि हमारे दैनिक जीवन से प्लास्टिक के कण जैसे पानी की बोतलें, किराने की थैलियां, खिलौने और डिस्पोजेबल कटलरी, हमारे रक्त प्रवाह में पता लगाने योग्य स्तरों में समाप्त हो सकते हैं।
वैज्ञानिक पत्रिका एनवायरनमेंट इंटरनेशनल में प्रकाशित शोध से पता चलता है कि हमारे रहने वाले वातावरण से प्लास्टिक के छोटे-छोटे टुकड़े मानव रक्तप्रवाह में अवशोषित हो जाते हैं।

पॉलीएथिलीन टेरेफ्थेलेट (पीईटी), पॉलीएथाइलीन और स्टाइरीन के पॉलिमर रक्त के नमूनों में पाए जाने वाले प्लास्टिक के सबसे सामान्य प्रकार थे, इसके बाद पॉली (मिथाइल मेथैक्रिलेट) थे। पॉलीप्रोपाइलीन का भी विश्लेषण किया गया था लेकिन एक सटीक माप के लिए कन्संट्रेशन बहुत कम थी।
पीईटी आमतौर पर सोडा और पानी की बोतलों (कंटेनर) में पाया जाता है। दूध और घरेलू क्लीनर के लिए बोतलों में पॉलीथीन (ब्लो-एक्सटड्रेड किराना बैग, कैप और खिलौने) जबकि स्टाइरीन के पॉलिमर डिस्पोजेबल कटलरी, प्लास्टिक मॉडल, सीडी और डीवीडी मामलों में पाए जाते हैं।

एम्स्टर्डम में व्रीजे यूनिवर्सिटिट के इकोटॉक्सिकोलॉजिस्ट हीथर लेस्ली ने कहा, "हमने अब यह साबित कर दिया है कि हमारे रक्तप्रवाह, हमारी जीवन की नदी जैसे भी है, उसमें प्लास्टिक है।" टीम ने मानव रक्त में सूक्ष्म और नैनोप्लास्टिक कणों के ट्रेस स्तर को स्थापित करने के लिए एक विश्लेषणात्मक विधि विकसित की है। अध्ययन में 22 प्रतिभागियों को शामिल किया गया था, जिनके रक्त की जांच प्लास्टिक के निर्माण खंड, पांच अलग-अलग पॉलिमर की उपस्थिति के लिए की गई थी। टीम ने कहा कि तीन-चौथाई परीक्षण विषयों के खून में प्लास्टिक पाया गया।

जबकि इसके लिए पहले के संकेतक प्रयोगशाला प्रयोगों से आए थे। नए शोध से पता चलता है कि लोग अपने दैनिक जीवन में अपने पर्यावरण से माइक्रोप्लास्टिक को अवशोषित करते हैं और यह मात्रा उनके रक्त में मापने योग्य होती है। 22 दाताओं के रक्त में प्लास्टिक कणों की कुल कन्संट्रेशन औसतन 1.6 माइक्रोग्राम/मिली लीटर (यूजी/एमएल) थी, जो 1,000 लीटर पानी (10 बड़े बाथटब) में एक चम्मच प्लास्टिक के बराबर है।

परीक्षण किए गए दाताओं में से एक चौथाई के रक्त में किसी भी प्रकार के प्लास्टिक कणों का पता लगाने योग्य मात्रा नहीं थी।
टीम अब यह पता लगाना चाहती है कि इन कणों का रक्तप्रवाह से मस्तिष्क जैसे अंगों तक ऊतकों में जाना कितना आसान है।

–आईएएनएस{NM}

यहां क्लिक करें:

राष्ट्रीयअंतर्राष्ट्रीयव्यापार/अर्थव्यवस्थासिनेमा/मनोरंजन/फैशनखेलअपराध/आपदा/दुर्घटनाराजनीतिसमाज/धर्म/जीवनशैलीकूटनीति/प्रवासीआतंकवादमौसम/पर्यावरण/वन्यजीवशिक्षा/कला/संस्कृति/किताबेंस्वास्थ्य/विज्ञान/प्रौद्योगिकीआव्रजन/ कानून/ अधिकाररक्षा/सुरक्षाफीचरकोरोना वायरसपाकिस्तान पर नजर सी वोटरग्लोबल देसीकोरोना मुक्त होता भारत इंडिया पॉजिटिवआईएएनएस सी-वोटर कोविड ट्रेकरआतंक की धुरी: अफगान-पाक-चीन का गठजोड़राज्यों की वित्तीय स्थितियूक्रेन – रूस युद्ध स्टार्टअप स्पेशलयूक्रेन युद्ध : भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव कश्मीरी पंडित : जो भुला दिए गए आईएएनएस न्यूज प्वाइंट

Related Stories

No stories found.