हाल के दिनों में टेस्ट क्रिकेट के महान प्रमोटर हैं शास्त्री , कोहली : टेलर

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (instagram , virat kohali)
भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (instagram , virat kohali)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का लोहा इन दिनों हर जगह माना जा रहा है । इसी क्रम में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री हाल के दिनों में टेस्ट क्रिकेट के महान समर्थक और प्रमोटर हैं। साथ ही उन्होंने कोहली की तारीफ भी की खेल को प्राथमिकता देते हुए वो वास्तव में टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहते हैं।"
ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने इस बात पर अपनी चिंता व्यक्त की ,कि भविष्य में टेस्ट क्रिकेट कब तक प्राथमिकता में रहेगा। उन्होंने कहा, "चिंता यह है कि यह कब तक जारी रहेगा। उनका यह भी कहना है किइसमें कोई संदेह नहीं है कि जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं और नई पीढ़ी आती है, मेरे जैसे लोगों को जिस तरह टेस्ट क्रिकेट से प्यार है यह कम हो सकता है और यह हमारी पुरानी पीढ़ी के लिए चिंता का विषय है।"

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और वर्तमान कोच रवि शास्त्री (wikimedia commons)

आप को बता दे की 56 वर्षीय पूर्व खिलाड़ी ने उम्मीद जताई कि मैनचेस्टर में इंग्लैंड और भारत के बीच पांचवें और अंतिम टेस्ट को जो रद्द करने का निर्णय लिया गया था वो , इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2021 संस्करण के दूसरे चरण को प्राथमिकता देने के लिए नहीं किया गया था।
साथ ही उनका यह भी कहना है कि, "मुझे नहीं लगता कि कोई भी खिलाड़ियों के खिलाफ किसी भी तरह की कोई शिकायत नहीं करेगा, जो खेल नहीं खेलना चाहते हैं, जब उन्हें कोरोना संक्रमण के बारे में असली चिंता हो। उन्होंने कहा मुझे लगता है कि अब हम कुछ निरंतरता देखना चाहते हैं। टेस्ट मैच से बाहर होना क्रिकेट के खेल के लिए बहुत बड़ी बात है।"

मार्क टेलर ने यह भी कहा, "जब खिलाड़ी जब कोई खिलाडी इसके खिलाफ जाता है तो वह अपने स्वास्थ्य की भी चिंता करता है । लेकिन लोगों को खेल की सेहत का ध्यान रखना होता है। उनका कहना है की यह विशेष रूप से टेस्ट क्रिकेट के खेल पर दबाव डालता है और फिर आपके पास टी20 का खेल है, उसे भी खेलना है और साथ ही एक घरेलू सीरीज आ रही है जिसमें वे सभी खिलाड़ी खेलना चाहते हैं।"(आईएएनएस-PS)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com