तेजी से टाइपकास्ट हो जाते हैं टेलीविजन अभिनेता

अभिनेता सुधांशु पांडेय(Sudhanshu Pandey, Instagram)
अभिनेता सुधांशु पांडेय(Sudhanshu Pandey, Instagram)

टीवी शो 'अनुपमा' में वनराज शाह के रूप में नजर आ रहे अभिनेता सुधांशु पांडे का मानना है कि चूंकि टेलीविजन में अभिनेताओं को रोजाना एक ही भूमिका निभाते हुए देखा जाता है, इसलिए वे आसानी से टाइपकास्ट हो जाते हैं। अभिनेता ने आईएएनएस से कहा, "टेलीविजन कलाकार थोड़े तेजी से टाइपकास्ट हो जाते हैं क्योंकि उन्हें हर दिन एक दैनिक शो में देखा जाता है। आप वर्षों से हर दिन एक ही किरदार निभा रहे हैं, इसलिए आप टाइपकास्ट हो जाते हैं।"

अभिनेता सुधांशु दो दशकों से ज्यादा समय से शोबिज का हिस्सा हैं। हालांकि, उन्हें लगता है कि एक रास्ता है। "मुझे लगता है कि इससे अलग होने की गुंजाइश हमेशा रहती है क्योंकि दर्शकों की याददाश्त हमेशा के लिए नहीं होती है। आप कुछ अलग करते हैं, उन्हें अलग-अलग किरदारों के माध्यम से एक अलग तरह का मनोरंजन देते हैं और वे आपके अतीत को भूल जाएंगे। यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप करना चाहते हैं या नहीं। एक ही बात या आप एक अलग चरित्र में जाना चाहते हैं। यह एक व्यक्तिगत पसंद है।"

'एक वीर की अरदास..वीरा', 'तमन्ना' और अन्य जैसे हिट शो का हिस्सा रह चुके सुधांशु का कहना है कि वह ऐसी स्क्रिप्ट पसंद करते हैं जो उन्हें एक केंद्रीय या महत्वपूर्ण भूमिका प्रदान मिले। वे कहते हैं, "पटकथा बहुत अच्छी होनी चाहिए और मुझे लगता है कि किसी भी अभिनेता के लिए यह देखना बहुत स्वाभाविक है कि उसके चरित्र को पटकथा में क्या देना है, इसलिए मैं हमेशा उसकी तलाश करता हूं । मैं यह सुनिश्चित करता हूं कि अगर मैं एक चरित्र का चयन करता हूं तो वह पूरी तरह से कहानी के लिए केंद्रीय और महत्वपूर्ण होना चाहिए तभी मैं चरित्र का चयन करता हूं।"(आईएएनएस-SHM)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com