मुश्किलों में फंसे वीर दास के बचाव में आए थरूर, सिब्बल, लेकिन सिंघवी ने की कॉमेडियन की बुराई

मुश्किलों में फंसे वीर दास के बचाव में आए थरूर, सिब्बल, लेकिन सिंघवी ने की कॉमेडियन की बुराई
वीर दास , कॉमेडियन [Wikimedia Commons]

कॉमेडियन वीर दास के कैनेडी सेंटर, वाशिंगटन, डीसी में उनके 'आई कम फ्रॉम टू इंडियाज' का वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद, उन्हें कांग्रेस से समर्थन मिला है। नेता कपिल सिब्बल और शशि थरूर उनके समर्थन में प्रतिक्रियाएँ दी हैं, जबकिं कांग्रेस के दूसरे नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने वीर दास के खिलाफ तीखी प्रतिक्रिया देकर उनकी खिंचाई की है। सिब्बल ने बुधवार को ट्वीट किया, "कोई भी संदेह नहीं कर सकता कि दो भारत हैं। बस हम नहीं चाहते कि कोई भारतीय दुनिया को इसके बारे में बताए। हम असहिष्णु और पाखंडी हैं।"

तिरुवनंतपुरम के सांसद और प्रसिद्ध लेखक शशि थरूर ने भी ट्विटर पर कहा, "एक स्टैंड-अप कॉमेडियन जो 'स्टैंड अप' शब्द का वास्तविक अर्थ जानता है, वह शारीरिक नहीं बल्कि नैतिक है, उन्होंने 6 मिनट में लाखों लोगों के लिए यह बात की है। उन दो भारतों पर, जहां से वह ताल्लुक रखते हैं और जिसके लिए खड़े हैं।"

थरूर ने दास की पंक्ति को उद्धृत किया, "यह एक मजाक है, लेकिन यह मजाकिया नहीं है।"

ये प्रतिक्रियाएं सिंघवी से बहुत अलग थीं, जिन्होंने ट्वीट किया, "कुछ व्यक्तियों की बुराइयों को सामान्य बनाना और दुनिया के सामने पूरे देश को बदनाम करना ठीक नहीं है! जिन लोगों ने भारत को पश्चिम के सामने औपनिवेशिक शासन के दौरान 'सपेरा' और 'लुटेरा' के रूप में चित्रित किया था, उनका अस्तित्व समाप्त नहीं हुआ है।"

छह मिनट के इस वीडियो के खिलाफ दिल्ली और मुंबई में पुलिस में शिकायत दर्ज की गई हैं। अपने वीडियो में उन्होंने कहा था, "मैं ऐसे भारत से आता हूं जहां हम दिन में महिलाओं की पूजा करते हैं और रात में उनका सामूहिक बलात्कार करते हैं।" उन्होंने हाल के कुछ मुद्दों कोविड -19 महामारी से लेकर किसानों के विरोध तक का भी उल्लेख किया, जिनका भारत सामना कर रहा है।

वीर दास के इन पंक्तियों के लिए उनपर भारत के विरुद्ध 'अपमानजनक बयान' देने का आरोप लगाया गया है।

कॉमेडियन ने बाद में ट्विटर पर कहा कि 'आई कम फ्रॉम टू इंडियाज' का मकसद देश का अपमान करना नहीं था।

उन्होंने बयान में कहा, वीडियो दो अलग-अलग भारत के द्वंद्व के बारे में एक व्यंग्य है जो बहुत अलग चीजें करते हैं, जैसे किसी भी राष्ट्र में अच्छाई और बुराई दोनों है, इनमें से कोई भी रहस्य नहीं है।(आईएएनएस)

Input : IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com