तालिबानी आतंकियों का कहर: 15 वर्ष से ज्यादा की लड़कियों और विधवाओं की मांगी लिस्ट

तालिबान ने जिन इलाकों पर नियंत्रण हासिल कर रखा है, उन इलाकों के मौलवियों के लिए तालिबान ने नया फरमान जारी किया है। (NewsGramHindi)
तालिबान ने जिन इलाकों पर नियंत्रण हासिल कर रखा है, उन इलाकों के मौलवियों के लिए तालिबान ने नया फरमान जारी किया है। (NewsGramHindi)

अफगनिस्तान में तालिबानी आतंकियों का कहर जारी है। ये आतंकी, अफगानिस्तान (Afghanistan) पर अपना कब्जा करना चाहते हैं। जिसे रोकने के लिए अफगान सुरक्षा बल पूरी कोशिश में जुटी है। तालिबान ने अपने जंग को अल्लाह का पाक काम बताया है। आपको बता दें कि अभी हाल ही में तालिबान की तरफ से एक नया फरमान जारी किया गया है। जिसमें कहा गया है कि उसको 15 साल से ज्यादा उम्र की सभी लड़कियों और 45 साल से कम उम्र की सभी विधवा महिलाओं की लिस्ट मुहैया कराई जाए। "तालिबान ने कहा है कि वह अल्लाह का नेक काम कर रहा है, इसलिए अफगानिस्तान के लोग अल्लाह के काम के वास्ते उसके साथ आएं और अपने घर की बेटियों को अल्लाह के काम में लगाने के लिए तालिबान के हवाले कर दें।" तालिबान ने जिन इलाकों पर नियंत्रण हासिल कर रखा है, उन इलाकों के मौलवियों के लिए तालिबान ने नया फरमान जारी किया है। 

तालिबान (Taliban) ने अपने बयान में कहा है कि वो अपने लड़कों से उन लड़कियों को शादी करवाएगा, ताकि तालिबान मजबूत हो सके। तालिबान ने यह भी वादा किया है कि वह अपने लड़कों से निकाह करवाने के बाद इन महिलाओं को पाकिस्तान के वजीरिस्तान में भेज देगा और अगर लड़की मुस्लिम नहीं है तो उसका धर्म भी परिवर्तित कराया जाएगा। आपको बता दें कि यह पहली बार नहीं है। इससे पहले भी तालिबान इस तरीके के बदसुलूकी कर चुका है। यह सब अफगानिस्तान के लोगों का उत्पीड़न करने का उन्हें गुलाम बनाने का एक जरिया है। तालिबान पूरे अफगानिस्तान पर अपना कब्जा स्थापित करना चहता है। हालांकि 85 फीसदी क्षेत्रों पर वह पहले से ही अपना अधिकार जमाया हुआ है। 

तालिबान का यह आतंक कब थमेगा यह बताना बहुत मुश्किल है। (Pixabay)

तालिबान के हमले तब से तेज हो गए हैं जब अमेरिका (America), ब्रिटेन और अन्य देशों के सैनिक अफगानिस्तान से पीछे हट चुके थे। इसी मौके का फायदा उठा तालिबान अपने इरादों को पूरा करने में लगा है। और इसमें वह कुछ हद तक आगे भी बढ़ चुका है। तालिबान ने ईरान, पाकिस्तान, उज़्बेकिस्तान और तजाकिस्तान के साथ लगे कई प्रमुख जिलों और सीमा चौकसी पर अपना नियंत्रण हासिल कर लिया है।

तालिबान के इस फरमान के बाद से तालिबान नियंत्रित इलाकों में रहने वाले लोगों में डर का माहौल बना हुआ है। लोगों का लड़कियों और महिलाओं का अकेले घर से निकलना तक मुश्किल हो गया है। इसके अतिरिक्त तालिबान ने अफगानिस्तान के उत्तरपूर्व प्रांत पर कब्जा करने के बाद उस जिले में नए कानून जारी किए है। जिसके तहत महिलाओं के अकेले घर से निकलने पर पाबंदी लगा दी गई है। वहीं पुरुषों को दाढ़ी बढ़ाने का आदेश दिया गया है। तालिबान द्वारा नियंत्रित इलाकों में कई तमाम सेवाओं को भी रोक दिया गया है। 

बहराहल तालिबान का यह आतंक कब थमेगा यह बताना बहुत मुश्किल है। लेकिन जिस तेजी से तालिबान, अफगानिस्तान पर अपना कब्जा स्थापित करने की कोशिश कर रहा है, आने वाले समय में अफगानिस्तान और वहां के मासूम लोगों को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। (SM)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com