शोधकर्ताओं ने ऑस्ट्रेलिया में युद्ध की भांति मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने वाली डर के लिए महामारी को कारण बताया।

(NewsGram Hindi)
(NewsGram Hindi)

By: Phil Mercer

विशेषज्ञों का कहना है कि दुनिया में कहीं भी COVID-19 लॉकडाउन के कारण तनाव, चिड़चिड़ापन, भय और थकान को बढ़ सकता है। परिवार और दोस्तों से अलगाव की स्थिति पैदा हो सकती है, जिससे अकेलापन आ सकता है। अनिश्चितता भी आ सकती है। ऑस्ट्रेलिया में, मानसिक स्वास्थ्य(Mental Health) चैरिटी ने अनुमान लगाया कि पिछले साल देश के सबसे लंबे और सबसे सख्त लॉकडाउन के दौरान मेलबर्न में लगभग एक तिहाई लोगों को किसी न किसी तरह के डिप्रेशन(Mental Health) का सामना करना पड़ा। शोध में यह भी पाया गया है कि लॉकडाउन कुछ ऑस्ट्रेलियाई बच्चों को स्कूल जाने के लिए भी बेचैन कर रहा है।

ऑस्ट्रेलिया में जनजीवन सामान्य होने लगा था। लेकिन हाल ही में, कई राज्यों और क्षेत्रों में अत्यधिक संक्रामक डेल्टा वेरिएंट के मिलने के कारण इसपर खतरा मंडराने लगा है। सिडनी, पर्थ, ब्रिस्बेन और डार्विन में लॉकडाउन लगाया गया और लाखों ऑस्ट्रेलियाई लोग अपने घरों में रहने के आदेश के आधीन हैं। स्वाइनबर्न सेंटर फॉर मेंटल हेल्थ के एक संज्ञानात्मक न्यूरोसाइकोलॉजिस्ट प्रोफेसर सुसान रॉसेल ने COVID-19 संकट के कारण उतपन्न हुई मानसिक स्वास्थ्य(Mental Health) परिणामों की तुलना, संघर्ष से की है।

"बहुत कम महामारियाँ हैं जो इतने लंबे समय तक चली हैं। इसलिए, युद्धों की तुलना में, विशेष रूप से बहुत लंबे समय तक चलने वाला यह युद्ध है," रॉसेल ने कहा। "संघर्ष के दौरान यानि महामारी के समय, इसने तनाव और चिंता, अकेलापन, भ्रम, खराब गुणवत्ता को बढ़ा दिया है। जीवन की वह सभी चीजें जो हम इस समय देख रहे हैं।"

विश्व को कुछ और समय तक कोरोना परेशान कर सकता है। (Pixabay)

मानसिक स्वास्थ्य(Mental Health) विशेषज्ञों ने कहा है कि चिंता भविष्य में कई ऑस्ट्रेलियाई लोगों को "परेशान" करेगी क्योंकि अनिश्चितता धीमी टीकाकरण रोलआउट को घेरती है और संभावना है कि अंतरराष्ट्रीय सीमाएं एक और वर्ष के लिए बंद रहेंगी जिस वजह से कई परिवारों को विदेशों में रिश्तेदारों से अलग कर देगी।

अभी और करना पड़ सकता है संघर्ष!

मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा है कि चिंता भविष्य में कई ऑस्ट्रेलियाई लोगों को "परेशान" करेगी क्योंकि अनिश्चितता धीमी टीकाकरण रोलआउट को घेरती है और संभावना है कि अंतरराष्ट्रीय सीमाएं एक और वर्ष के लिए बंद रहेंगी, परिवारों को विदेशों में रिश्तेदारों से अलग कर देगी। पर्थ, ब्रिस्बेन और डार्विन में हाल के दिनों में लॉकडाउन हटा लिया गया था, लेकिन ऑस्ट्रेलिया का सबसे अधिक आबादी वाला शहर 'सिडनी' के लोगों को कम से कम शनिवार तक घर में रहने के आदेश के तहत रहता है। सिडनी हवाई अड्डे पर एक अंतरराष्ट्रीय उड़ान चालक दल के परिवहन के बाद डेल्टा संस्करण से संक्रमित होने वाले लिमोसिन चालक से जुड़े एक COVID-19 प्रकोप को रोकने के लिए अधिकारी दौड़ रहे हैं।

लॉकडाउन में लोग काम के लिए, किराने का सामान खरीदने, व्यायाम करने, किसी रिश्तेदार की देखभाल करने या COVID-19 वैक्सीन प्राप्त करने के लिए अपने घर छोड़ सकते हैं। महामारी शुरू होने के बाद से ऑस्ट्रेलिया ने सिर्फ 31,000 COVID-19 संक्रमण दर्ज किए हैं। 910 लोगों की मौत हो चुकी है। 25 मिलियन की आबादी में से केवल 7% को ही पूरी तरह से टीका लगाया जाता है।(VOA)

(हिंदी अनुवाद शान्तनू मिश्रा द्वारा!)

(धर्म, संस्कृति, देश और दुनिया से जुड़े महत्वपूर्ण खबरों के लिए न्यूज़ग्राम हिंदी को फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें।)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com