विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन में महिलाओं ने युवाओं से जलवायु परिवर्तन से निपटने के प्रयासों से जु​ड़ने का आह्वान किया

विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन में महिलाओं ने युवाओं से जलवायु परिवर्तन से निपटने के प्रयासों से जु​ड़ने का आह्वान किया
विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन में महिलाओं ने युवाओं से जलवायु परिवर्तन से निपटने के प्रयासों से जुड़ने का आह्वान किया। (Wikimedia Commons)

पेरिस जलवायु समझौते(Paris Climate Agreement) के प्रमुख वास्तुकार सहित वरिष्ठ महिला जलवायु कार्यकर्ताओं(Female Climate Activists) ने विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन (World Sustainable Development Summit) के 21वें संस्करण को दूरस्थ रूप से संबोधित करते हुए महिलाओं और युवाओं को वैश्विक जलवायु कार्रवाई(Global Climate Action) में भाग लेने के लिए सशक्त बनाने का आह्वान किया।

'वीमेन लीडरशिप एंड अवर कॉमन फ्यूचर' पर पूर्ण सत्र के दौरान, विश्व बैंक और संयुक्त राष्ट्र में वरिष्ठ जलवायु पदों पर रहीं, टफ्ट्स विश्वविद्यालय में फ्लेचर स्कूल के अब डीन, राहेल कायटे ने महिलाओं से अन्य युवा महिलाओं के लिए मार्ग प्रशस्त करने का आग्रह किया। "हम एक लंबा सफर तय कर चुके हैं। हम ऐसी कई महिलाओं के कंधों पर खड़े हैं जिन्होंने हमारे लिए एक रास्ता बनाया है। अब यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम उन महिलाओं के लिए मजबूत, चौड़े कंधे प्रदान करें जो जरूरतमंद हैं और उनके लिए एक द्वार खोलें।

कायटे डब्ल्यूएसडीएस 2022 के दूसरे दिन 'महिला नेतृत्व और हमारा साझा भविष्य' पर एक पूर्ण सत्र में बोल रहे थे। अपने संबोधन के दौरान, उन्होंने 1992 में रियो डी जनेरियो में आयोजित पर्यावरण और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCED) में अपने समय को याद किया। उन्होंने साझा किया कि बेला अबज़ुग और वंगारी मथाई सहित कायटे और उनकी साथी महिला कार्यकर्ताओं ने महिलाओं और बच्चों के सतत विकास पर अपनी शर्तों पर बातचीत करने के लिए कितना संघर्ष किया। "तब से, हमने दुनिया भर में महिलाओं द्वारा असाधारण सक्रियता को देखा है कि हम सतत विकास को कैसे समझते हैं, इसकी सीमाओं को पीछे धकेलते हैं," कायटे ने कहा।

जलवायु परिवर्तन ग्रह पर हर व्यक्ति को प्रभावित करता है लेकिन अध्ययनों ने साबित किया है कि यह महिलाओं को अधिक प्रभावित करता है। (Wikimedia Commons)

जलवायु परिवर्तन ग्रह पर हर व्यक्ति को प्रभावित करता है लेकिन अध्ययनों ने साबित किया है कि यह महिलाओं को अधिक प्रभावित करता है। संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के मुताबिक, जलवायु परिवर्तन से विस्थापित होने वाले लोगों में करीब 80 फीसदी महिलाएं हैं। प्राथमिक देखभाल करने वालों और भोजन और ईंधन के अग्रणी प्रदाताओं के रूप में उनकी भूमिका को देखते हुए, बाढ़ या सूखा होने पर महिलाएं अधिक असुरक्षित होती हैं।

इस वास्तविकता को 2015 के पेरिस समझौते में मान्यता दी गई थी, जिसमें जलवायु निर्णय लेने में विभिन्न अभिनेताओं, मुख्य रूप से महिलाओं के अधिक प्रतिनिधित्व की मांग की गई थी। आज, बोर्डरूम से लेकर नीति निर्माताओं तक, विज्ञान से लेकर सक्रियता तक, महिलाएं अपनी आवाज का इस्तेमाल कर रही हैं और जलवायु परिवर्तन पर कार्रवाई करने का आह्वान कर रही हैं।


चीन के कर्ज में डूबे श्री लंका की भारत से गुहार | Sri Lanks Crisis | Sri lanks China News | Newsgram

youtu.be

2015 के पेरिस समझौते को तैयार करने वाले फ्रांसीसी राजनयिक लॉरेंस टुबियाना, जो अब यूरोपीय जलवायु फाउंडेशन के मुख्य कार्यकारी हैं, ने कहा, "महिलाएं विद्रोही मोर्चे पर भी जलवायु नेतृत्व का नेतृत्व कर रही हैं, जहां वे सरकारों, वैश्विक नेताओं, नीति निर्माताओं पर दबाव डालने के लिए दबाव डाल रही हैं। जलवायु परिवर्तन की दिशा में ठोस कदम।"

महिला पारिस्थितिक नारीवाद के मुद्दे पर जोर देते हुए, टुबियाना ने आगे कहा, "हमें महिला पारिस्थितिकवाद का समर्थन करना जारी रखना चाहिए क्योंकि वे बड़े दृढ़ संकल्प के साथ बोल रही हैं। विश्व स्तर पर, वनों की कटाई और शहरीकरण के कारण, 14 प्रतिशत महिलाएं अधिक से अधिक प्रभावित हो रही हैं। सबसे ज्यादा पीड़ित गर्भवती महिलाएं हैं जिन्हें वायु प्रदूषण और अन्य कार्बन उत्सर्जन से जूझना पड़ता है। इसलिए, हमें संसद में और नीति निर्माताओं के रूप में अधिक से अधिक महिलाओं की आवश्यकता है जो इस मुद्दे से संबंधित हो सकें और सतत विकास नीतियां तैयार कर सकें जो महिलाओं के लिए सुरक्षित हों।

पूर्ण सत्र में हेलेन क्लार्कसन, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, द क्लाइमेट ग्रुप, केट हैम्पटन, सीईओ, चिल्ड्रन इन्वेस्टमेंट फंड फाउंडेशन, मर्सी वंजा करुंडिटू, उप कार्यकारी निदेशक, द ग्रीन बेल्ट मूवमेंट, और ज़िए बस्तीदा, सह-संस्थापक, रे पृथ्वी पहल ने भी भाग लिया।

Input-IANS; Edited By-Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com