योगी ने गांधी परिवार को ‘दुर्घटनावश हिंदू’ करार दिया

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File Photo)
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File Photo)

उत्तर प्रदेश (UP) में चुनाव का समय जितना करीब आता जा रहा, उतना ही राजनैतिक पार्टियों का एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला बढ़ता जा रहा है। कांग्रेस और बीजेपी एक दूसरे पर आक्रामक होते दिख रहे हैं। इसी बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कांग्रेस नेताओं को 'दुर्घटनावश हिंदू' करार दिया है। वहीं उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य ने उन्हें 'चुनावी हिंदू' कह डाला है।

उन्होंने सोमवार को अमेठी (Amethi) में एक सभा को संबोधित किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कांग्रेस (Congress) नेताओं पर तंज कसते हुए कहा कि चुनाव के दौरान ये नेता हिंदू बन जाते हैं और चुनावों में ही उन्हें मंदिर तथा अमेठी की याद आती है।

योगी (Yogi Adityanath) ने राहुल गांधी की अमेठी यात्रा के दौरान मंदिर में पूजा अर्चना में गलत तरीके से बैठने पर निशाना साधते हुए कहा कि वह यह भी नहीं जानते हैं कि मंदिर में किस प्रकार बैठा जाता है और न ही उन्हें 'हिंदू धर्म या हिंदुत्व' के बारे में कोई जानकारी है।

उन्होंने कहा, अमेठी के पूर्व सांसद गुजरात में चुनाव के दौरान एक बार मंदिर गए और वहां नमाज की मुद्रा में बैठ गए, तब पुजारियों ने उन्हें बताया कि मंदिर में किस प्रकार बैठकर पूजा अर्चना की जाती है।

उन्होंने गांधी परिवार पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे केवल चुनाव आने पर ही अमेठी को याद करते हैं।

उन्होंने कहा, जब इस जिले के लोगों ने उन्हें चुनाव जिताकर जनता की सेवा का मौका दिया, तो उन्होंने कुछ नहीं किया और अब चुनाव आ गए हैं, तो वे यहां फिर से आ रहे हैं।

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) पर धोखाधड़ी करने का आरोप लगाते हुए योगी ने कहा, कोविड (Covid-19) महामारी के दौरान जब हम आम आदमी का जीवन बचाने के लिए काम कर रहे थे तो दोनों भाई और बहन ने लोगों को रोडवेज बसों के फर्जी नंबर दिए।

उन्होंने कहा, वे लोगों के जीवन से खेल रहे थे और हमने उनके खिलाफ कार्रवाई की थी क्योंकि वे सरकार के काम में व्यवधान डाल रहे थे।

आपको बता दें कि हाल ही में अपने अमेठी यात्रा के दौरान, राहुल गांधी ने खुद को 'हिंदू' और भाजपा नेताओं को 'हिंदुत्ववादी' के अनुयायी बताते हुए 'हिंदू' और 'हिंदुत्व' के बीच अंतर करने की कोशिश की थी।

वहीं उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य ने कहा कि जिन लोगों ने कार सेवकों पर गोलियां चलाईं और कांवड़ियों को लाठियों से पिटवाने में कोई गुरेज नहीं किया, वे अचानक भगवान राम को याद करने लगे हैं। लोगों को ऐसे चुनावी हिंदुओं से सावधान रहना चाहिए।

ब्राह्मणों के प्रति समाजवादी पार्टी के मोह पर मौर्य ने कहा, जो राम का न हुआ वो परशुराम का क्या होगा ?

उन्होंने कांग्रेस और समाजवादी पार्टी (SP) के नेताओं पर चुनाव के समय में हिंदुत्व को याद करने का आरोप लगाते हुए कहा कि इन नेताओं को चुनाव के दौरान ही हिंदुओं और मंदिरों की याद आती है। (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com