Tuesday, June 15, 2021
Home देश बिहार में कोरोना मरीजों के लिए बना 'कोविड नाव एंबुलेंस', देखें तस्वीर

बिहार में कोरोना मरीजों के लिए बना ‘कोविड नाव एंबुलेंस’, देखें तस्वीर

राघोपुर के अंचल पदाधिकारी राणा अक्षय प्रताप सिंह ने आईएएनएस को बताया कि कोविड-19 के दौर में और बाढ को देखते हुए प्रशासन ने पहले ही नाव को एंबुलेंस बनाने की योजना बनाई थी। इसके तहत कई गांव के लोगों को जांच के लिए स्थानीय अस्पतालों में लाया जा रहा है।

बिहार के वैशाली जिले के राघोपुर के कई क्षेत्र ऐसे हैं जहां के लोगों को अस्पताल आने के लिए एकमात्र सहारा नाव है। ऐसे में कोविड-19 मरीजों को अस्पताल लाने के लिए जिला प्रशासन ने अनोखी पहल की है और नाव को ही स्पेशल कोविड एंबुलेंस में तब्दील कर दिया। इस नाव में वो सारी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं, जो एक एंबुलेंस में होती हैं।

वैशाली जिले के राघोपुर के दियारा क्षेत्र के कई ऐसे गांव हैं, जहां के लोगों के लिए पीपा पुल खुल जाने के बाद प्रखंड मुख्यालय आने के लिए एकमात्र सहारा नाव ही होती है। ऐसे में बाढ़ की आशंका और कोरोना संक्रमित मरीजों को नजदीकी अस्पताल पहुंचाने के लिए वैशाली जिला प्रशासन ने ‘नाव एंबुलेंस’ की व्यवस्था शुरू की गई है।

या भी पढ़ें: दिल्ली: कोरोना से 4100 मौत, आधे से ज्यादा कोरोना रोगी होम आइसोलेशन में

इस नाव एंबुलेंस पर सभी तरह की स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ मेडिकल टीम मौजूद है, जो इमरजेंसी मरीजों को चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध करा रही है।

राघोपुर के अंचल पदाधिकारी राणा अक्षय प्रताप सिंह ने आईएएनएस को बताया कि कोविड-19 के दौर में और बाढ को देखते हुए प्रशासन ने पहले ही नाव को एंबुलेंस बनाने की योजना बनाई थी। इसके तहत कई गांव के लोगों को जांच के लिए स्थानीय अस्पतालों में लाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह नाव जेठुली घाट और तेतर घाट के बीच चलाई जा रही है।

नाव एंबुलेंस पर पीपीई किट में जांच दल के साथ एक डॉक्टर, एक असिस्टेंट के अलावा मेडिकल टीम की व्यवस्था की गई है। इस पर स्ट्रेचर, बेड, अक्सीजन सिलेंडर, दवा, स्लाईन की सुविधा है। राघोपुर के एक चिकित्सक कहते हैं कि नाव एंबुलेंस पर डक्टर एवं मेडिकल टीम की ड्यूटी लगाई गई है।

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी को फिर से कांग्रेस अध्यक्ष बनाने की उठी मांग

उल्लेखनीय है कि बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से वृद्घि देखी जा रही है। बिहार में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 82,741 तक पहुंच गई है। राहत की बात है कि राज्य में अब तक 54,139 संक्रमित स्वस्थ हो चुके हैं। बिहार राज्य में कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की रिकवरी रेट 65़.43 फीसदी है।

वैशाली जिले में अब तक 2,548 कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है, जिसमें 1,336 लोग ठीक होकर वापस घर जा चुके हैं। फिलहाल यहां 1,197 सक्रिय मरीज हो चुके हैं। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी