Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

बॉन्ड, जेम्स बॉन्ड – कहने वाले को आखिरी सलाम

दिग्गज अभिनेता सर शॉन कॉनरी का 90 साल की उम्र में निधन हो गया है। बॉन्ड सीरीज की पहली पांच फिल्मों में वह शीर्षक भूमिका में काम कर चुके हैं।

दिवंगत अभिनेता शॉन कॉनरी। (Wikimedia Commons)

दिग्गज अभिनेता सर शॉन कॉनरी का 90 साल की उम्र में निधन हो गया है। बीबीसी डॉट कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस स्कॉटिश अभिनेता के निधन की खबर उनके परिवारवालों ने दी। हालांकि निधन होने की वजह को लेकर अभी तक कोई आधिकारिक सूचना साझा नहीं की गई है।

लगभग पांच दशक लंबे अपने करियर में कॉनरी ने हॉलीवुड फिल्म जेम्स बॉन्ड के किरदार में अपनी एक गहरी छाप छोड़ी है। बॉन्ड सीरीज की पहली पांच फिल्मों में वह शीर्षक भूमिका में काम कर चुके हैं।


साल 1962 में सीरीज की पहली फिल्म ‘डॉक्टर नो’ के साथ वह पहली बार बॉन्ड के किरदार में नजर आए थे। इसके बाद ‘फ्रॉम रशिया विद लव’ (1963), ‘गोल्डफिंगर (1964)’, ‘थंडरबॉल’ (1965), ‘यू ओनली लिव ट्वाइस’ (1967), ‘डायमंड्स आर फॉरेवर’ (1971) और ‘नेवर से नेवर अगेन’ (1983) के साथ उनका यह सिलसिला चलता रहा।

अमेरिकन फिल्म इंस्टीट्यूट ने सिनेमा के इतिहास में कॉनरी द्वारा निभाए गए जेम्स बॉन्ड को तीसरे सबसे महान हीरो के तौर पर चुना था।

यह भी पढ़ें – कोरोना ने चबाई सर्कस की रौनक

फिल्म ‘द अनटचेबल्स’ में अपने किरदार के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सह-कलाकार का ऑस्कर दिया गया था। (Wikimedia Commons)

हालांकि बॉन्ड के अलावा भी हॉलीवुड में अपने करियर में उन्होंने दर्शकों को और भी कई सारी बेहतरीन फिल्में दीं, जिनमें ‘द नेम ऑफ द रोज’ (1986), ‘द अनटचेबल्स’ (1987), ‘इंडियाना जोंस एंड द लास्ट क्रूसेड’ (1989), ‘द हंट फॉर रेड अक्टूबर’ (1990), ‘द रशिया हाऊस’ (1990), ‘राइजिंग सन’ (1993), ‘ड्रैगनहार्ट’ (1996), ‘द रॉक’ (1996), ‘इंट्रैपमेंट’ (1998), ‘फाइंडिंग फॉरेस्टर’ (2000) और ‘द लीग ऑफ एक्स्ट्राऑर्डिनरी जेंटलमैन’ (2003) सहित कई शामिल रही हैं।

ब्रायन डी पाल्मा के निर्देशन में बनी फिल्म ‘द अनटचेबल्स’ में कॉनरी द्वारा निभाए गए जिम मालोन के किरदार के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सह-कलाकार का ऑस्कर भी मिल चुका है। अपने करियर में वह दो बाफ्टा अवॉर्ड और तीन गोल्डन ग्लोब से सम्मानित हो चुके हैं।

साल 2000 में होलीरूड पैलेस में कॉनरी को रानी द्वारा नाइट की उपाधि भी दी गई है। (आईएएनएस)

Popular

अमिताभ बच्चन के साथ बातचीत करते हुए, भारत के गोलकीपर पीआर श्रीजेश (IANS)

केबीसी यानि कोन बनेगा करोड़पति भारतीय टेलिविज़न का एक लोकप्रिय धारावाहिक है । यहा पर अक्सर ही कई सेलिब्रिटीज आते रहते है । इसी बीच केबीसी के मंच पर भारत की हॉकी टीम के गोलकीपर पीआर श्रीजेश पहुंचे । केबीसी 13' पर मेजबान अमिताभ बच्चन के साथ बातचीत करते हुए, भारत के गोलकीपर पीआर श्रीजेश 41 साल बाद हॉकी में ओलंपिक पदक जीतने को लेकर बात की। श्रीजेश ने साझा किया कि "हम इस पदक के लिए 41 साल से इंतजार कर रहे थे। साथ उन्होंने ये भी कहा की वो व्यक्तिगत रूप से, मैं 21 साल से हॉकी खेल रहे है। आगे श्रीजेश बोले मैंने साल 2000 में हॉकी खेलना शुरू किया था और तब से, मैं यह सुनकर बड़ा हुआ हूं कि हॉकी में बड़ा मुकाम हासिल किया, हॉकी में 8 गोल्ड मेडल मिले। इसलिए, हमने खेल के पीछे के इतिहास के कारण खेलना शुरू किया था। उसके बाद हॉकी एस्ट्रो टर्फ पर खेली गई, खेल बदल दिया गया और फिर हमारा पतन शुरू हो गया।"

जब अभिनेता अमिताभ बच्चन ने एस्ट्रो टर्फ के बारे में अधिक पूछा, तो उन्होंने खुल के बताया।"इस पर अमिताभ बच्चन ने एस्ट्रो टर्फ पर खेलते समय कठिनाई के स्तर को समझने की कोशिश की। इसे समझाते हुए श्रीजेश कहते हैं कि "हां, बहुत कुछ, क्योंकि एस्ट्रो टर्फ एक कृत्रिम घास है जिसमें हम पानी डालते हैं और खेलते हैं। प्राकृतिक घास पर खेलना खेल शैली से बिल्कुल अलग है। "

इस घास के बारे में आगे कहते हुए श्रीजेश ने यह भी कहा कि "पहले सभी खिलाड़ी केवल घास के मैदान पर खेलते थे, उस पर प्रशिक्षण लेते थे और यहां तक कि घास के मैदान पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी खेलते थे। आजकल यह हो गया है कि बच्चे घास के मैदान पर खेलना शुरू करते हैं और बाद में एस्ट्रो टर्फ पर हॉकी खेलनी पड़ती है। जिसके कारण बहुत समय लगता है। यहा पर एस्ट्रो टर्फ पर खेलने के लिए एक अलग तरह का प्रशिक्षण होता है, साथ ही इस्तेमाल की जाने वाली हॉकी स्टिक भी अलग होती है।" सब कुछ बदल जाता है ।

Keep Reading Show less

कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। (IANS)

वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बड़े खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को घोषणा की कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ेंगे। उनका ये एलान करोड़ो दिलो को धक्का देने वाला था क्योंकि कोहली को हर कोई कप्तान के रूप में देखना चाहता है । कई दिनों से चल रहे संशय पर विराम लगाते हुए कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। कोहली ने बताया कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 के कप्तानी पद को छोड़ देंगे।

ट्वीट के जरिए उन्होंने इस यात्रा के दौरान उनका साथ देने के लिए सभी का धन्यवाद दिया। कोहली ने बताया कि उन्होंने यह फैसला अपने वर्कलोड को मैनेज करने के लिए लिया है। उनका वर्कलोड बढ़ गया था ।

Keep Reading Show less

मंगल ग्रह की सतह (Wikimedia Commons)

मंगल ग्रह पर घर बनाने का सपना हकीकत में बदल सकता हैं। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आँसुओ की मदद से कंक्रीट जैसी सामग्री बनाई है, जिसकी वजह से यह संभव हो सकता है। मंगल ग्रह पर छोटी सी निर्माण सामग्री लेकर जाना भी काफी महंगा साबित हो सकता है। इसलिए उन संसाधनों का उपयोग करना होगा जो कि साइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के अध्ययन में यह पता लगा है कि मानव रक्त से एक प्रोटीन, मूत्र, पसीने या आँसू से एक यौगिक के साथ संयुक्त, नकली चंद्रमा या मंगल की मिट्टी को एक साथ चिपका सकता है ताकि साधारण कंक्रीट की तुलना में मजबूत सामग्री का उत्पादन किया जा सके, जो अतिरिक्त-स्थलीय वातावरण में निर्माण कार्य के लिए पूरी तरह से अनुकूल हो।

Keep reading... Show less