Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
व्यवसाय
व्यवसाय

खिलौना उद्योग में नोएडा से मिलेगी चीन को कड़ी टक्कर

अब चीन के खिलौना उद्योग को नोएडा से कड़ी टक्कर मिलेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंशा के अनुसार योगी सरकार नोएडा के सेक्टर 33 में टॉय पार्क का निर्माण करवाया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(PIB)

अब चीन के खिलौना उद्योग को नोएडा से कड़ी टक्कर मिलेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंशा के अनुसार योगी सरकार नोएडा के सेक्टर 33 में टॉय पार्क का निर्माण करवाया है। इस पार्क में खिलौना बनाने की फैक्ट्री लगाने के लिए 134 उद्योगपतियों ने भूखंड लिया है। यह 134 उद्योगपति 410.13 करोड़ रुपए का निवेश कर जल्दी ही टॉय पार्क में अपनी फैक्ट्री स्थापित करेंगे। इन खिलौना फैक्ट्रियों में 6157 लोगों को स्थायी रोजगार मिलेगा।

बीते वर्ष ‘मन की बात’ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खिलौना कारोबार में दुनिया में देश की हिस्सेदारी बढ़ाने का आहवान किया था। जिसका संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री ने खिलौना कारोबार को बढ़ावा देने के लिए कई फैसले लिए। इसी क्रम में यूपी का पहला पहला खिलौना क्लस्टर (टॉय पार्क ) यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक प्राधिकरण क्षेत्र में विकसित करने का निर्णय लिया गया। इसके बाद यीडा के सेक्टर 33 में टॉय पार्क के लिए सौ एकड़ से अधिक जमीन खिलौना उत्पादन करने वाली इकाईयां के लिए चिन्हित की गई। इस पार्क में उद्योगपतियों को अपनी फैक्ट्री स्थापित करने के लिए आमंत्रित किया गया। यीडा के अधिकारियों के अनुसार, राज्य में औद्योगिक निवेश को बढ़ावा देने के लिए तैयार कराई गई इंवेस्टर फ्रेंडली नीतियों के चलते खिलौना कारोबार में कार्यरत कई बड़ी कंपनियों ने टॉय पार्क में अपनी फैक्ट्री स्थापित करने के लिए कदम बढ़ाए हैं। अब तक 134 कंपनियों को टॉय पार्क में खिलौना फैक्ट्री स्थापित करने के लिए जमीन आवंटित की गई है। जमीन पाने वाली कंपनियां जल्दी ही टॉय पार्क में फैक्ट्री लगाने की कार्रवाई शुरू करेंगी। पार्क में जमीन लेने वाली देश की प्रमुख कंपनियों में फन जू टॉयज इंडिया, फन राइड टॉयस एलएलपी, सुपर शूज, आयुष टॉय मार्केटिंग, सनलार्ड अप्पारेल्स, भारत प्लास्टिक, जय श्री कृष्णा, गणपति क्रिएशन और आरआरएस ट्रेडर्स प्रमुख हैं।


चीन का झंडा । (Wikimedia Commons )

अधिकारियों का कहना है, “टॉय पार्क में प्लास्टिक और लकड़ी से बने बैटरी से चलने वाले खिलौने बनेंगे, अभी चीन में बने ऐसे खिलौने देश में छोटे बच्चे खेलते हैं। टॉय पार्क में खिलौना फैक्ट्री लगाने के लिए आगे आयी ये कंपनियां चीनी में बने खिलौनों की मार्केट को चुनौती देंगी। अभी देश में खिलौना बनाने वाली करीब चार हजार से ज्यादा इकाइयां हैं।”

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों के अंतर्गत आने वाली इन इकाइयों में से 90 फीसद असंगठित हैं। यही इनकी तथा देश की सबसे बड़ी कमजोरी है। जिसका संज्ञान लेते हुए ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खिलौना उद्योग को बढ़ावा दिया है। एक अनुमान के मुताबिक वर्ष 2024 तक भारत का खिलौना उद्योग 147-221 अरब रुपये का हो जाएगा। दुनियाभर में जहां खिलौने की मांग में हर साल औसत करीब पांच फीसद का इजाफा हो रहा है, वहीं भारत की मांग में 10-15 प्रतिशत का। निर्यात की बात करें तो सिर्फ 18-20 अरब रुपये के खिलौने का निर्यात हो पाता है। भारत में जहां खिलौना निमार्ता असंगठित हैं, वहीं खिलौने की गुणवत्ता भी बड़ी चुनौती है।

यह भी पढ़े : आईएटीए : क्षमता, किराया नियम भारत के विमानन क्षेत्र में सुधार को धीमा कर रहे हैं .

एमएसएमई के अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने बताया, “खिलौना उद्योग में भारत की हिस्सेदारी अभी तक नाममात्र की है। अधिकांश खिलौने चीन से आयात किये जाते हैं। यह महंगे होते हैं। इनकी गुणवत्ता भी ठीक नहीं होती है। देश में क्लस्टर में उत्पादन होने से यह सस्ते भी होंगे और गुणवत्ता में बेहतर होंगे। निवेश भी आएगा। स्थानीय स्तर पर रोजगार सृजित होंगे। सरकार ने इसे बढ़ावा देने के लिए झांसी का ओडीओपी घोषित किया है।”

–(आईएएनएस-PS)

Popular

घरेलू उड्डयन क्षेत्र को कोविड -19 द्वारा उत्पन्न आर्थिक उथल-पुथल से बचाने के लिए केंद्र के नियमों को उचित ठहराया गया(pixabay)

वैश्विक एयरलाइंस संघ आईएटीए ने मंगलवार को कहा कि क्षमता उपयोग पर केंद्र के नियमों के साथ-साथ घरेलू उड्डयन क्षेत्र में किराया,उद्योग की रिकवरी को धीमा कर रही है। विशेष रूप से, घरेलू उड्डयन क्षेत्र को कोविड -19 द्वारा उत्पन्न आर्थिक उथल-पुथल से बचाने के लिए केंद्र के नियमों को उचित ठहराया गया है।

हालांकि, आईएटीए के महानिदेशक विली वॉल्श ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि नियम बाजार के विकास का समर्थन करने के बजाय बाजार को विकृत कर रहे हैं।

Keep Reading Show less
माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला (wikimedia commons)

माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला ने कहा है कि उनकी कंपनी अब वैश्विक स्तर पर लाखों गेमर्स तक पहुंचने के लिए अपनी गेमिंग रणनीति का विस्तार कर रही है। नडेला ने कहा कि मनोरंजन उद्योग में गेमिंग सबसे बड़ी श्रेणी है और कंपनी का लक्ष्य दुनिया के 3 अरब गेमर्स तक पहुंचना है, जहां भी वे खेलते हैं।

नडेला ने मंगलवार को एक अनिर्ंग कॉल के दौरान कहा, हम सभी खेलों में शामिल हैं। पिछले महीने ई 3 में, हमने 27 नए खिताबों की घोषणा करते हुए अपने अब तक के सबसे बड़े गेम लाइनअप को लॉन्च किया, जो सभी गेमर्स के लिए उपलब्ध होगा।

Keep Reading Show less
यूट्यूब प्लेटफॉर्म(pixabay)

अल्फाबेट और गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने कहा है कि यूट्यूब शॉर्ट्स, एक टिकटॉक जैसा शॉर्ट फॉर्म वीडियो ऐप है, जिसे पिछले साल भारत में पहली बार लॉन्च किया गया था। इसके यूजर्स 15 अरब से ज्यादा हो गए है। पिचाई ने जून तिमाही में रिकॉर्ड दर्ज करने के कंपनी की कमाई कॉल के दौरान कहा, ऐप गति प्राप्त करना जारी रखता है। हम इसे दुनिया भर में 100 से अधिक देशों में यूट्यूब पर उपलब्ध करा रहे हैं।

यूट्यूब शॉर्ट्स प्लेटफॉर्म ने हाल ही में यूट्यूब वीडियो से ऑडियो का नमूना लेने के लिए शॉर्ट्स निमार्ताओं की क्षमता को जोड़ा और कहा कि यह शॉर्ट्स से यूट्यूब वीडियो के जल्दी लिंक की पेशकश करने के तरीके तलाश रहा है, जिनसे उन्होंने नमूने लिए हैं।

Keep reading... Show less