Monday, May 10, 2021
Home व्यवसाय क्या Work from Home एक बेहतर विकल्प नहीं हो सकता ?

क्या Work from Home एक बेहतर विकल्प नहीं हो सकता ?

जब दुनिया भर में कोरोनावायरस के संक्रमण बढ़ रहे थे तब तमाम कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम (घर से काम करने) की इजाजत दी। दरअसल, कोरोनावायरस की वजह से लॉकडाउन लगाया गया और लॉकडाउन की वजह से वर्क फ्रॉम होम की परंपरा ने तेजी पकड़ी। इसने हमारी कार्य संस्कृति को बदलकर रख दिया। कई टेक फर्मों ने अपने सभी कर्मचारियों को अनिश्चित काल तक रिमोट वर्क की अनुमति दी है। लेकिन कई लोग ऐसा मानते हैं कि ऑफिस से बाहर काम करना उत्पादकता में कमी लाता है जबकि यह पूरी तरह गलत है। अमेरिका के स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में हुए 2 साल का शोध कहता है और दावा करता है कि घर से काम करना असल में कर्मचारी संतुष्टि के साथ-साथ उत्पादकता भी बढ़ाता है।

जब हमारे पास इसका प्रमाण है, तो हम में से ज्यादा लोग वर्क फ्रॉम होम क्यों नहीं करते? ऐसा इसलिए है क्योंकि असल में हम ऐसा करना नहीं चाहते। घर से काम करने का अभी कुछ समय तक इतना प्रचलित ना होने का सीधा कारण ये है कि इंसान एक सामाजिक प्राणी है, और हममें से कई जिन्होंने घर से काम करके देखा है, अकसर अपने आपको अकेला पाते हैं।

हालांकि बिजनस से, अपने कर्मचारी से घर से काम करवाना एक समझदारी वाली बात है। सबसे जाहिर चीज है किराया। काम करने की जगह आजकल बहुत महंगी है, लेकिन ऑफिस से बाहर काम करना एक बढ़िया तरीका है, जो आपको अपने बजट में रखता है।

उदाहरण के लिए, जब चीन की सबसे बड़ी ट्रेवल एजेंसी के सीईओ ने अपने कुछ कर्मचारियों को 9 महीनों तक घर से काम करने दिया, तो उसने सिर्फ किराये पर ही 2000 डॉलर प्रति कर्मचारी पर बचाये थे। उनके कर्मचारियों ने भी काम पर आने-जाने के लिए पैसे खर्च ना करके पैसे बचाये। लेकिन एक बार के लिए हम पैसों से हटकर, जॉब सैटिस्फैक्शन और काम में बढ़त पर ध्यान दें तो कर्मचारी काम करने के समय में लचीलापन होने के कारण ज्यादा मेहनत करने के लिए प्रेरित होते हैं।

हम एक ऐसे विश्व की कल्पना करना शुरू कर सकते हैं जहां घर से काम करना एक नया कायदा हो। इससे ना सिर्फ सामान्य कर्मचारी ज्यादा कुशल बनेंगे, बल्कि इसका दूसरा फायदा घरों के दामों में कमी होगी।

इसके अलावा, घर से काम करना वातावरण के लिए भी बहुत अच्छा है। पिछले कुछ अर्से से प्रदूषण रूपी महामारी भी हमारे महानगरों में फैल चुकी है, शुद्ध हवा में सांस लेना अब एक सपना जैसा हो गया है, लेकिन वर्क फ्रॉम होम शायद हमारे सपने को सच कर दे।

work from home
वर्क फ्रॉम होम से हमारे श्रम, धन और समय में बहुत बचत होगी। ( Unsplash )

यह भी पढ़ें :  हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चुनौतियों का सामना करने के लिए भारत ‘एक अहम साझीदार’  : लॉयड ऑस्टिन

देखा जाए तो साल 2007 में, यूएस पेटेंट ऑफिस ने लगभग 3000 कर्मचारियों को एक साल तक घर से काम करने दिया, जिससे ईंधन के खचरें पर करीब 20 लाख डॉलर की बचत हुई और वातावरण में 9600 टन कार्बन का उत्सर्जन नहीं हुआ।

इतना ही नहीं, वर्क फ्रॉम होम के विकल्प से हमें यातायात में लगने वाले जाम की समस्या व घंटों आवागमन में सुबह और शाम समय के व्यर्थ होने वाले समय की समस्या, पार्किं ग की समस्या से काफी हद तक मुक्ति मिलने की संभावना बनती है।

यकीनन, वर्क फ्रॉम होम से हमारे श्रम, धन और समय में बहुत बचत होगी। साथ ही, शहरों को उसके पर्यावरण और आर्थिक विकास की गतिशीलता बनाये रखने में अहम योगदान भी रहेगा।
( आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,640FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी