Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ओपिनियन

“छात्र आंदोलनों” की बदलती तस्वीर !

जिनकी दृष्टि ' दूरदर्शिता' होनी चाहिए जिनके कर्म विवेकशील होने चाहिए , आज वही विद्यार्थी वर्ग सब जानते हुए भी दिशाहीन हो चले हैं।

देश – विदेश में छात्र आंदोलन का लंबा इतिहास रहा है। (ट्विटर)

कहते हैं “मनुष्य एवम् समाज” सदैव एक दूसरे के पूरक हैं। समाज के बिना मनुष्य नहीं , मनुष्य के बिना समाज नहीं । जब भी हमारे देश में कोई नया कानून बनता है तो उस पर तर्क – वितर्क करना हर नागरिक का अधिकार है । कानून हमारे अधिकारों के खिलाफ हो तो विरोध करना भी हमारा अधिकार है, लेकिन जब वही आंदोलन हमारे देश की प्रतिष्ठा के किए श्राप बन जाए तो कोई भी देश इससे केसे उभरे । आज हमारी आज़ादी को 73 साल बीत गए हैं। स्वतंत्रता से पूर्व और स्वतंत्रता के पश्चात भारत में अनेकों सामाजिक आंदोलन हुए । लेकिन छात्र आंदोलन का अपना एक अलग महत्व रहा है ।

वरिष्ठ पत्रकार “रामशरण जोशी” कहते हैं ‘ आज का युवा भारत का सबसे बड़ा मतदाता वर्ग है। आज का छात्र और युवा वर्ग ही आने वाले भारत की एक अद्भुत तस्वीर खींच सकता है । लेकिन ये हमारे देश का दुर्भाग्य है की आज का युवा वर्ग अपने उद्देश्य को भूलकर राजनीति के गंद्दे खेल का हिस्सा बनता जा रहा है। जिनकी दृष्टि ‘ दूरदर्शिता’ होनी चाहिए जिनके कर्म विवेकशील होने चाहिए , आज वही विद्यार्थी वर्ग सब जानते हुए भी दिशाहीन हो चले हैं। सब यहां भेड़ – चाल बनते जा रहे हैं ,जिनकी अपनी कोई राह नहीं है ।


राजनीति एक ऐसा विज्ञान होता है जो राज्य एवम् उसके नागरिकों को कल्याण की भावना सिखाती है । लेकिन आज राजनीति केवल धर्म से जुड़ी है। आज लोकतंत्र के नाम पर प्रायः ढकोसले होते रहते हैं । सरकार द्वारा बनाए गए कानूनों का विरोध करना तो जैसे पेशा बन गया हो और प्रदर्शनों में शामिल होना तो केवल फ़ैशन बन गया है। और इन प्रदर्शनों में सबसे ज्यादा बढ़ – चढ़ कर हिस्सा आज का युवा वर्ग लेता है ।

आज के छात्र आंदोलनों की बदलती तस्वीर । (Social media)                                                                

देश – विदेश में छात्र आंदोलन का लंबा इतिहास रहा है। छात्रों ने अपने हक की लड़ाई में या तो देश की सत्ता को नष्ट कर दिया या राजनीति की तसवीर को ही बदल कर रख दिया । लेकिन तब के आंदोलनों और आज के छात्र आंदोलनों में बड़ा अंतर आप देख सकते है। 1974 में पटना के छात्रों और युवकों द्वारा , भ्रष्टाचार , महंगाई , ग़लत शिक्षा नीति के विरुद्ध आन्दोलन शुरू किया गया था । जिसमें बड़े स्तर पर नारेबाज़ी हुई , संसद के सामने धरना प्रदर्शन हुए। इसके परिणाम स्वरूप पुलिस बल द्वारा निर्ममता पूर्वक लाठी चार्ज किये गए , गैस के गोले छोड़े गए। जिसमें बढ़े स्तर पर छात्रों की मृत्यु भी हुई। उस समय इस आंदोलन को रोकने में कांग्रेस सरकार पूरी तरह नाकाम रही तभी तात्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आपातकाल कि घोषणा की थी । लेकिन साल भर बाद ही हुए चुनाव में कांग्रेस सरकार सत्ता से हाथ धो बैठी । इस तरह उस समय के छात्रों – युवकों ने राजनीति में बढ़ते भ्रष्टाचार पर लगाम कसी थी।

लेकिन आज कल के आंदोलनों में केवल अज्ञानता की मिलावट है । राजनीति में आज छात्र वर्ग केवल हड़ताल , नारेबाज़ी , प्रदर्शन, झूठ ही सीख रहा है । CAA , NRC जैसे कानून जिनका बड़े स्तर पर देश के युवा वर्ग द्वारा विरोध किया गया वो पूरे देश ने देखा था । कानून चाहे सही हो या ग़लत , उसके खिलाफ विरोध भी विवेकता से किया जाना चाहिए । लेकिन कानून के बारे में पूर्ण जानकारी ना होते हुए भी सरकार के विरोध में प्रदर्शन हुए । पत्थरबाज़ी हुई , सार्वजनिक वस्तुओं को आग लगा दिया गया । प्रदर्शन का ‘दर्शन शास्त्र’ कहता है – आंदोलन सोए हुए समाज को गति प्रदान करता है। लेकिन जो समाज मर गया है उसे गति कौन प्रदान करें। 2020 में JNU में उठा आंदोलन फ़ीस की बढ़ती मांग को लेकर था । लेकिन विरोश प्रदर्शन करते हुए , छात्र आंदोलनों को गुंडा – गर्दी में बदलते देर नहीं लगी। 2016 में JNU में ही देश के टुकड़े के नारे लगाए गए थे जहां JNU के ही एक छात्र ‘ कन्हैया कुमार ‘ द्वारा “भारत तेरे टुकड़े होंगे” का नारा दिया गया था। लेकिन ये हमारे देश की विडंबना ही है कि आज इन जैसे युवा वर्ग के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो पाती क्योंकि इस देश का विपक्ष इनके पक्ष में खड़ा रहता है । राजनीति तो हमारे विवेक को विकसित करता है । हमारे अस्तित्व का निर्माण करता है । राजनीति ही युवाओं को आने वाले कल का , देश का , एक सफल नेता बनने में सहयोग प्रदान करता है । लेकिन आज का युवा वर्ग , धर्म से जुड़ी राजनीति का पुतला बनता जा रहा है।

यह भी पढ़े :- चील के समान तेज़ महान योद्धा

कहते है : विघां ददाति विनयं ( विद्या अर्थात ज्ञान हमें विनम्रता प्रदान करती है।) और विनम्रता ही हमें सही – गलत का ज्ञान सिखाती है । लेकिन आज छात्र वर्ग जिस अज्ञानता की राह पर है इससे वो आने वाले समाज के लिए केवल श्राप साबित होंगे। आज पढ़ा – लिखा समाज ही दंगों के बीच सब स्वाहा कर रहा है। जबकि छात्र और युवा वर्ग का कर्तव्य जानकारी के अभाव में गुमराह होने की बजाय राजनीति का सही ज्ञान अर्जित करना अथवा राजनीति में बढ़ते अपराध , भ्रष्टाचार को खत्म करना है । और एक ऐसे समाज की नींव रखना जिसको आनेवाले कई दशकों तक याद रखा जा सके।

 

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने तारीफ की (wikimedia commons )

हमारा देश भारत अनेकता में एकता वाला देश है । हमारे यंहा कई धर्म जाती के लोग एक साथ रहते है , जो इसे दुनिया में सबसे अलग श्रेणी में ला कर खड़ा करता है । योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं । उन्होंने एक बयान में कहा कि नई थ्योरी में पता चला है कि पूरे देश का डीएनए एक है। यहां आर्य-द्रविण का विवाद झूठा और बेबुनियाद रहा है। भारत का डीएनए एक है इसलिए भारत एक है। साथ ही उन्होंने कहा की दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में ही धीरे धीरे समाप्त होती जा रही हैं , जबकि हमारे भारत देश में फलफूल रही हैं। भारत ने ही पूरी दुनिया को वसुधैव कुटुंबकम का भाव दिया है इसलिए हमारा देश श्रेष्ठ है। आप को बता दे कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की व राष्ट्रसंत ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि पर आयोजित एक श्रद्धांजलि समारोह का शुरुआत करने गये थे। आयोजन के पहले दिन मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी ऐसा भारतीय नहीं होगा जिसे अपने पवित्र ग्रन्थों वेद, पुराण, उपनिषद, रामायण, महाभारत आदि की जानकारी न हो। हर भारतीय परम्परागत रूप से इन कथाओं ,कहनियोंको सुनते हुए, समझते हए और उनसे प्रेरित होते हुए आगे बढ़ता है।

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे यंहा के कोई भी वेद पुराण हो या ग्रंथ हो इनमे कही भी नहीं कहा गया की हम बहार से आये थे । हमारे ऐतिहासिक ग्रन्थों में जो आर्य शब्द है वह श्रेष्ठ के लिए और अनार्य शब्द का प्रयोग दुराचारी के लिए कहा गया है। मुख्यमंत्री योगी ने रामायण का उदाहरण भी दिया योगी ने कहा कि रामायण में माता सीता ने प्रभु श्रीराम की आर्यपुत्र कहकर संबोधित किया है। लेकिन , कुटिल अंग्रेजों ने और कई वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से हमारे इतिहास की किताबो में यह लिखवाया गया कि आर्य बाहर से आए थे । ऐसे ज्ञान से नागरिकों को सच केसे मालूम चलेगा और ईसका परिणाम देश लंबे समय से भुगतता रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने कहा कि , आज इसी वजह से मोदी जी को एक भारत-श्रेष्ठ भारत का आह्वान करना पड़ा। आज मोदी जी के विरोध के पीछे एक ही बात है। साथ ही वो विपक्ष पर जम के बरसे। उन्होंने मोदी जी के बारे में आगे कहा कि उनके नेतृत्व में अयोध्या में पांच सौ वर्ष पुराने विवाद का समाधान हुआ है। यह विवाद खत्म होने से जिनके खाने-कमाने का जरिया बंद हो गया है तो उन्हें अच्छा कैसे लगेगा।

Keep Reading Show less

हरिद्वार हिंदुओं की धार्मिक नगरी है , जहा हर 12 वर्षो में कुंभ का मेला भी आयोजित होता है (wikimedia commons)

उत्तराखंड देवभूमि के नाम से विख्यात है , यहां हिंदु धर्म के कई तीर्थ स्थल हैं। उत्तराखंड राज्य के नए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कुछ विशेष कदम उठाये हैं। इस माह की शुरुआत में धामी सरकार ने प्रदेश में अप्रत्याशित रूप से बढ़ती मुस्लिम आबादी पर काबू करने के लिए जनसंख्या नियंत्रण नीति लाने पर हामी भरी थी। धामी सरकार से RSS से जुड़े 35 संगठनों ने यह मांग की थी। कई हिन्दूवादी संगठनों का दावा है कि उत्तराखंड के कई शहर देहरादून, हरिद्वार, उधमसिंह नगर और नैनीताल में मुस्लिम आबादी कुछ सालों में लगातार बढ़ रही है ।

हरिद्वार हिंदुओं की धार्मिक नगरी है , जहां हर 12 वर्षो में कुंभ का मेला भी आयोजित होता है यह हिंदुओ के आस्था का केंद्र रहा है। सनातन धर्म के प्रमुख केंद्रों में एक, जहां सभी मठ, अखाड़े और आध्यात्मिक केंद्र स्थित हैं। यह हिंदुओं के सबसे बड़े धार्मिक कार्यो की पवित्र भूमि है। यहां पर हिन्दू अस्थि विसर्जन से लेकर जनेऊ या उपनयन संस्कार और यंहा तक की काँवड़ यात्रा में जाने के लिए भक्त जन यंहा गंगा जल तक लेने आते हैं।

Keep Reading Show less

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।

Keep reading... Show less