Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

यदि अय्याशी के अड्डे खुल सकते हैं, तो चार-धाम यात्रा के अनुमति में देरी क्यों?

यदि कोरोना कि तीसरी लहर को रोकने के लिए चार धाम यात्रा को रोका गया है। तो इन अय्याशी के अड्डों को खोलकर तीसरी लहर को निमंत्रण देने की किसने मंजूरी दी है।

(NewsGram Hindi)

भारत में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में सुधार आने के बाद सरकार ने कुछ नियमों के साथ अनलॉक की मंजूरी दे दी है। इस अनलॉक के तहत कई कामकाजी लोगों और व्यापारियों को अपने व्यापार को वापस, पटरी पर लाने में लाभ मिल रहा है। लेकिन इस अनलॉक का फायदा वह लोग भी उठा रहे हैं, जिनके लिए पर्यटन(Tourism) ही शौक है। पर्यटन और लम्बे समय तक घर में बैठने का बहाना लेकर हजारों की संख्या में लोगों ने पहाड़ी और ठंडे इलाकों का रुख किया है। लेकिन इस राहत ने कोरोना(corona virus) के नियमों को ताड़-ताड़ कर दिया है। किन्तु, मुद्दा यह नहीं है कि अय्याशी के अड्डों को खोला गया है, मुद्दा यह है कि यदि कोरोना कि तीसरी लहर को रोकने के लिए चार धाम यात्रा(Char Dham Yatra) को रोका गया है तो इन अय्याशी के अड्डों को खोलकर तीसरी लहर को निमंत्रण देने की किसने मंजूरी दी है?

आपको बता दें कि चार धाम यात्रा(Char Dham Yatra) को कोरोना की वजह से हाईकोर्ट के फैसले पर स्थगित कर दिया गया है, जिस वजह से उत्तराखंड सरकार ने हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। अब हिमाचल या उत्तराखण्ड में जिस तेजी से पर्यटन बढ़ रहा है, इससे तीसरी लहर को न्योता दे दिया गया है या दिया जा रहा है।


इस मामले पर केंद्र और स्वास्थ्य सलाहकार पहले ही चिंता व्यक्त हर चुके है। स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर हिमाचल प्रदेश सरकार को कोरोना नियमों में उल्लंघन हेतु कार्रवाई करने का निर्देश दिया। साथ स्वास्थ्य मंत्रालय ने शिमला और मनाली में पर्यटकों के बीच कोविड-19 उचित व्यवहार के बड़े पैमाने पर उल्लंघन को लेकर हिमाचल प्रदेश सरकार को पत्र भी लिखा। आपको बता दें कि कोरोनावायरस प्रतिबंधों में ढील के एक महीने से भी कम समय में, इन उत्तरी राज्यों में लगभग 6 से 7 लाख पर्यटकों का आगमन-गमन हुआ है। यह विषय इस लिए भी चिंताजनक है क्योंकि कोरोना का डेल्टा प्लस वेरिएंट देश में आ चुका है और यह सबको ज्ञात है, किन्तु उस वेरिएंट से बचाव के लिए जरूरी मापदंडों के पालन में लोग लापरवाही बरत रहे हैं।

यह भी पढ़ें: यूपी में संस्कृत बोलने, पढ़ने और सीखने के लिए मिलेगा विशेष प्रशिक्षण

बहरहाल, उत्तराखंड सरकार सीमित श्रद्धालुओं के साथ चार-धाम(Char Dham Yatra) यात्रा को पुनः खोलने का विचार कर चुकी थी। किन्तु हाइकोर्ट द्वारा जारी किए गए निर्देश पर इसे स्थगित कर दिया गया। आपको बता दें कि मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उत्तराखण्ड सरकार ने मंगलवार को ही हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देते हुए चार धाम यात्रा को पुनः शुरू करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर की। चार धाम यात्रा हिन्दुओं के लिए मुख्य धार्मिक यात्राओं में से एक है। चार धाम में इन चार प्रसिद्ध धामों के दर्शन का अवसर प्राप्त होता है यमनोत्री धाम, गंगोत्री धाम, बद्रीनाथ एवं केदारनाथ धाम।

Popular

नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड संक्रमण का नही है कोई खतरा ( Pixabay )

Keep Reading Show less

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep reading... Show less