Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

बिहार में सलाखों के अंदर भी छठ मैया की गूंज

बिहार राज्य के जेल की सलाखों के अंदर भी आस्था भारी पड़ा है। जेलों में भी कैदी छठ पर्व कर रहे हैं, जिस कारण जेलों के अंदर भी माहौल भक्तिमय हो गया है।

सांकेतिक चित्र। (Unsplash)

By – मनोज पाठक

लोक आस्था के महापर्व छठ को लेकर पूरा बिहार भक्तिमय हो गया है। गांवों की पगडंडियों से लेकर शहर की सड़कों के किनारे छठ के पारंपरिक कर्णप्रिय गीत गूंज रहे हैं। इस बीच, राज्य के जेल की सलाखों के अंदर भी आस्था भारी पड़ा है। जेलों में भी कैदी छठ पर्व कर रहे हैं, जिस कारण जेलों के अंदर भी माहौल भक्तिमय हो गया है।


जेल में मुस्लिम कैदी भी इस पर्व में बढ़चढ़ कर ना केवल हिस्सा ले रहे हैं बल्कि कई स्थानों पर मुस्लिम कैदी छठ पर्व कर भी रहे हैं।

पटना के बेउर जेल में इन दिनों छठ के पारंपरिक गीत गूंज रहे हैं। जेल में इस वर्ष 39 कैदी नियम, निष्ठा और परंपरा के साथ छठ व्रत कर रहे हैं, जिसमें 18 पुरूष और 21 महिला कैदी शामिल हैं।

बेउर के सहायक जेल अधीक्षक संजय कुमार ने बताया कि छठव्रतियों के लिए जेल परिसर में जल कुंड बनाए गए हैं, जहां व्रती शुक्रवार को अस्ताचलगामी सूर्य को अघ्र्य देंगे। उन्होंने बताया कि पूजन सामग्री के साथ प्रसाद की व्यवस्था जेल प्रशासन की ओर से उपलब्ध कराया गया है।

यह भी पढ़ें – भक्तिमय बिहार की गलियों में गूंज रहे हैं छठ मईया के गीत

इधर, मोतिहारी जेल में भी छठ के गीत गाए जा रहे हैं। जेल में बंद 69 बंदियों ने जेल के अंदर विधिपूर्वक छठ पर्व के दौरान गुरुवार को खरना किया। इसमें 37 महिलाएं व 32 पुरुष बंदी शामिल हैं। जेल के अंदर अस्थायी तालाब का निर्माण कराया गया है। हिदू व मुस्लिम लोगों ने मिलकर तालाब का निर्माण किया है, जिसे सजाया भी गया है। यहां कई मुस्लिम कैदी भी छठ पर्व कर रहे हैं।

महिला व पुरुष व्रतधरियों को जेल प्रशासन द्वारा नए वस्त्र भी दिए गए हैं। मोतिहारी के जेल अधीक्षक विदु कुमार ने बताया कि जेल प्रशासन द्वारा महिला व पुरुष बंदियों के लिए फल के अलावा पूजन सामग्री व वस्त्र की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि अन्य कैदी इन व्रतधारियों की मदद में जुटे हैं।

छठ पूजा। (Wikimedia Commons)

मुंगेर में भी भक्तिभाव का माहौल है। यहां छह कैदी छठ व्रत कर रहे हैं जो शुक्रवार की शाम डूबते सूर्य को अघ्र्य अर्पित करेंगे। जेल प्रशासन द्वारा छठ व्रतियों को पूजन सामग्री सहित सभी सुविधा उपलब्ध कराई गई है। गुरुवार को इन सभी कैदियांे ने खरना का व्रत रखा। व्रती कैदियों ने नहाय खाय और खरना का प्रसाद जेल में बंद अन्य कैदियों और मंडल कारा के पुलिस कर्मियांे के बीच वितरित किया।

जेल अधीक्षक जलज कुमार ने बताया, मंडल कारा के महिला वार्ड की कैदी नीलम देवी, गीता देवी, शांति देवी व रुक्मणि देवी और पुरुष वार्ड में बंद अजीत चौधरी व विक्की जायसवाल नामक कैदी छठ पर्व कर रहें हैं।

यह भी पढ़ें – ‘बिहार चुनाव’- मतदाताओं की राजनीतिक समझ का धोबीपाट

इधर, गोपालगंज जेल में भी 20 महिलाएं और 5 पुरुष बंदी छठ पूजा कर रहे हैं। जेल प्रशासन द्वारा सूप व डाला के लिए फल व पूजन सामग्री के साथ छठ व्रती महिला एवं पुरूष बंदी को साड़ी, धोती, गंजी भी दिया गया है।

जेल परिसर स्थित तालाब की साफ सफाई कराई गई, जहां व्रतधाारियों को भगवान भास्कर के अघ्र्य देने की व्यवस्था की गई है।

चार दिनों के इस पर्व की बुधवार को नहाय-खाय के साथ विधिवत शुरूआत हो गई। गुरुवार को व्रत करने वाले खीर-रोटी का भोग लगाकर खरना किया। शुक्रवार को अस्ताचलगामी सूर्य व शनिवार को उदीयमान भगवान भास्कर को अघ्र्य देने के बाद पारण के साथ महापर्व छठ पर्व संपन्न हो जाएगा। (आईएएनएस)

Popular

अब अयोध्या के संतो में जागने लगी चुनाव राजनीति में आने की जिज्ञासा। (Wikimedia Commons)

अयोध्या(Ayodhya) के कुछ संत तीर्थ नगरी से यूपी चुनाव लड़ना चाहते हैं। अयोध्या (सदर)(Ayodhya Sadar) उनका पसंदीदा विधानसभा क्षेत्र है जहां से वे यूपी चुनाव में उतरना चाहते हैं। राम जन्मभूमि, जहां एक भव्य राम मंदिर(Ram Temple) निर्माणाधीन है, इसी निर्वाचन क्षेत्र में आता है। लेकिन अयोध्या में संतों का एक और वर्ग राजनीति में अपनी बिरादरी की सक्रिय भागीदारी के खिलाफ है।

हनुमान गढ़ी मंदिर के पुजारियों में से एक राजू दास और तपस्वी जी की छावनी के परमहंस दास उन प्रमुख संतों में शामिल हैं जो अयोध्या (सदर) विधानसभा सीट से चुनाव लड़ना चाहते हैं। वीआईपी विधानसभा क्षेत्र माने जाने वाले अयोध्या सदर से बीजेपी के टिकट के दावेदारों में राजू दास भी शामिल हैं. इसी सीट से बीजेपी के मौजूदा विधायक वेद प्रकाश गुप्ता भी इसी सीट के दावेदार हैं.

Keep Reading Show less

बेंगलुरु से हिंदू बनकर रह रही बांग्लादेशी महिला गिरफ्तार। (IANS)

कर्नाटक पुलिस(Karnataka Police) ने एक 27 वर्षीय बांग्लादेशी अप्रवासी महिला को गिरफ्तार किया है, जो बेंगलुरु(Bengaluru) के बाहरी इलाके में फॉरेनर्स रीजनल रजिस्ट्रेशन ऑफ इंडिया (FRFO) के इनपुट के आधार पर भारत में 15 साल तक हिंदू के रूप में रही, पुलिस ने शुक्रवार को यह भी कहा।

गिरफ्तार बांग्लादेशी महिला की पहचान रोनी बेगम के रूप में हुई है। उसने अपना नाम पायल घोष के रूप में बदल लिया और मंगलुरु के एक डिलीवरी एक्जीक्यूटिव नितिन कुमार से शादी कर ली। पुलिस ने फरार नितिन की तलाश शुरू कर दी है।

Keep Reading Show less

बीते दिनों 'ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल' ने 'करप्शन परेसेप्शन इंडेक्स'(Corruption Perception Index) जारी किया, जिसमें 180 देशों को शामिल किया गया था। आपको बता दें की इस रिपोर्ट के मुताबिक इन 180 देशों में भारत(India) देश का स्थान 85वें स्थान पर है। भारत(India) की स्थिति में पिछले वर्ष के मुकाबले न तो सुधार आया है और न ही स्थिति बिगड़ी है।

इसके साथ भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान(Pakistan) की हालत बद से बद्तर हो गई है। पाकिस्तान सीपीआई(Corruption Perception Index) की लिस्ट में 124 से गिरकर अब 140वें स्थान पर पहुंच गया है। पाकिस्तान के जैसी ही स्थिति म्यांमार की भी बनी हुई है। आपको बता दें कि पाकिस्तान से भी बुरी हालत बांग्लादेश की है। सबसे खराब श्रेणी की बात करें तो सबसे खराब हाल 180वें स्थान पर दक्षिणी सूडान का है, उससे पहले सीरिया, सोमालिया, वेनेजुएला और यमन का है।

Keep reading... Show less