Saturday, June 12, 2021
Home देश छत्तीसगढ़ : आईटीबीपी शिक्षक ‘स्मार्ट’ क्लास में

छत्तीसगढ़ : आईटीबीपी शिक्षक ‘स्मार्ट’ क्लास में

भारत-चीन सीमा पर सुरक्षा के साथ माओवाद प्रभावित राज्यों में सरकार विरोधी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए छत्तीसगढ़ में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) ने नया अवतार लेते हुए स्थानीय स्कूली बच्चों के लिए ‘स्मार्ट’ शिक्षक बनकर उन्हें शिक्षित करने के साथ छात्रों से हल्बी भाषा सीख रहे हैं। राज्य में तैनात 90,000 से अधिक

भारत-चीन सीमा पर सुरक्षा के साथ माओवाद प्रभावित राज्यों में सरकार विरोधी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए छत्तीसगढ़ में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) ने नया अवतार लेते हुए स्थानीय स्कूली बच्चों के लिए ‘स्मार्ट’ शिक्षक बनकर उन्हें शिक्षित करने के साथ छात्रों से हल्बी भाषा सीख रहे हैं।

राज्य में तैनात 90,000 से अधिक जवान वाले बल माओवाद प्रभावित कोंडागांव जिले में स्थानीय बच्चों के लिए इंटरनेट आधारित कक्षाएं आयोजित करा रहे हैं। बच्चों को शिक्षित करने के क्रम में ये आईटीबीपी कर्मी, बल की खुफिया क्षमता को बढ़ाने के लिए, धीरे-धीरे उनसे स्थानीय हल्बी भाषा सीख रहे हैं।

पांच जनवरी से कोंडागांव और आसपास के गांवों में दूरदराज के गांवों में बच्चों के लिए शुरू किया गया ऑनलाइन ऑडियो-विजुअल की मदद से छात्र के ज्ञान को बढ़ाने के लिए आईटीबीपी की 41 वीं बटालियन के कर्मियों द्वारा अध्याय की कक्षाएं आयोजित की जाती हैं। कंप्यूटर और प्रोजेक्टर जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की मदद से भी कक्षाएं ली जाती हैं।

यह कक्षाएं गुरुवार को छोड़कर सप्ताह में दोपहर 3 बजे से 4.30 बजे के बीच आयोजित की जाती हैं। ये कक्षाएं उन आईटीबीपी कर्मियों द्वारा ली जाती हैं जो स्नातक हैं और जिन्हें पढ़ाने का अनुभव और ज्ञान है। इसके अलावा, यूट्यूब पर ऑनलाइन सीखने वाले कई वीडियो और छात्रों को सीखने और अभ्यास करने के पर्याप्त अवसर देकर ई-लर्निग वेबसाइटों की मदद भी ली जाती है।

आईटीबीपी के प्रवक्ता विवेक पांडेय ने आईएएनएस को बताया,” प्रतिदिन आधे घंटे के कैप्सूल कोर्स भविष्य में छात्रों को उच्च अध्ययन करने में सक्षम बनाता है और बच्चों को ई-लर्निग और वर्चुअल ऑनलाइन कक्षाओं के तरीकों को समझने में मदद करेगा।” उन्होंने आगे कहा, इस पहल से कुछ 50 छात्रों को लाभान्वित किया जा रहा है।

पांडेय ने कहा कि ये सभी कक्षाएं इंटरनेट के माध्यम से आयोजित की जाती हैं, हालांकि मोबाइल सिग्नल क्षेत्र में काफी कमजोर है। उन्होंने आगे कहा, जवान अपने मोबाइल फोन को बांस के खंभे या पेड़ की डालियों के माध्यम से ऊंचाई पर बांध देते हैं, जहां नेटवर्क मिलता है और यह वाईफाई हॉटस्पॉट के माध्यम से स्मार्ट कक्षाओं के लिए उपयोग किए जाने वाले लैपटॉप से जुड़ा होता है जिसे प्रोजेक्टर के माध्यम से बड़ी स्क्रीन के रूप में पेश किया जाता है। ब्लूटूथ स्पीकर के माध्यम से आवाज आती है।

अधिकारी ने कहा कि कक्षा 1 से 9 तक के छात्रों को पढ़ाया जाता है और गणित और अंग्रेजी पर विशेष रूप से ध्यान दिया जाता है। पांडेय ने कहा, “बच्चों को कुछ फिल्में भी दिखाई जाती हैं जो उन्हें शिक्षा प्रदान करने में मदद करती हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “कंपनी कमांडर, एक सब-इंस्पेक्टर और स्नातक की डिग्री वाले कुछ कांस्टेबल सहित आधा दर्जन से अधिक आईटीबीपी कर्मी इस काम में लगे हुए हैं।” इन छात्रों को पढ़ाने वालों में शामिल पवन कुमार, सहायक कमांडेंट ने आईएएनएस को बताया, “हमने उन्हें कोविड-19 के बारे में समझाने का प्रयास किया।”

छत्तीसगढ़ : आईटीबीपी शिक्षक ‘स्मार्ट’ क्लास में
साइट ऑनलाइन अध्ययन सामग्री प्रदान करती हैं जो बच्चों को पढ़ाने के लिए उपयोग में आती हैं। (आईएएनएस)

उन्होंने कहा, “हम गूगल मीट, यूट्यूब और कुछ शिक्षा वेबसाइटों जैसे ईकिड्सलर्निग डॉट ऑर्ग और आईएक्सएल डॉट कम का उपयोग करते हैं। ये साइट ऑनलाइन अध्ययन सामग्री प्रदान करती हैं जो बच्चों को पढ़ाने के लिए उपयोग में आती हैं। बोधगुरु वेबसाइट और कुछ यूट्यूब चैनल का उपयोग इन बच्चों को शिक्षित करने के लिए कुछ वीडियो चलाने के लिए भी किया जाता है।”

यह भी पढ़ें : प्रवासी कश्मीरी पंडितों को अब भी डराता है जनवरी 1990 का खौफनाक समय

कुमार ने कहा कि वाईफाई डोंगल का इस्तेमाल बेहतर इंटरनेट स्पीड पाने के लिए किया जाता है और इन्हें सिग्नल पाने के लिए एक निश्चित ऊंचाई पर बांस के खंभे या पेड़ों पर लटका दिया जाता है।

कक्षाओं और समय के बारे में पूछे जाने पर अधिकारी ने कहा, “कक्षाएं दो पालियों में चलाई जाती हैं। कक्षा 7 से 9 तक के छात्रों को एक पाली में और दूसरे बच्चों को दूसरी पाली में पढ़ाया जाता है। दोपहर 3 बजे से शाम 4.30 बजे तक एक निश्चित समय होता है। ये कक्षाएं गुरुवार के अलावा सप्ताह के छह दिनों को चलती हैं।”

अधिकारी के अनुसार, इन छात्रों को पढ़ाने के लिए कमरा स्थापित किया जाता है, उनकी दिलचस्पी बनाए रखने के लिए कुछ स्नैक्स भी प्रदान किए जाते हैं। अधिकारी ने कहा कि ये कक्षाएं 5 जनवरी से हडेली क्षेत्र में चलाई जा रही हैं। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी