Tuesday, December 1, 2020
Home मनोरंजन बच्चों की फिल्में मुश्किल से ही बनती है - सतीश कौशिक

बच्चों की फिल्में मुश्किल से ही बनती है – सतीश कौशिक

भारत के सिनेमा जगत में बच्चों के लिए फिल्में कम मात्रा में बनाई जाती हैं वहीं बाहर के देशों में बच्चों के लिए बन रही फिल्मों की शैली काफी वृहद है।

By – नतालिया निंगथौजम

अभिनेता-फिल्मकार सतीश कौशिक इस बात को मानते हैं कि बच्चों के लिए कम फिल्में बनती हैं और साथ ही भारत में इस शैली की फिल्मों के लिए कोई खरीदार भी नहीं है।

कौशिक ने आईएएनएस को बताया, “बच्चों की फिल्में मुश्किल से ही बनती है। अगर बनती भी है और उन्हें सही से थिएटर पर रिलीज नहीं किया जाता है। एक या दो फिल्में फिल्म महोत्सवों में भाग लेती हैं।”

साल 2017 में बच्चों के लिए स्कूल चलेगा नामक एक फिल्म का निर्माण और उसमें अभिनय कर चुके इस कलाकार ने कहा, “बाहर के देशों में बच्चों के लिए बन रही फिल्मों की शैली काफी वृहद है, लेकिन अगर हम ऐसी फिल्में बनाएंगे, तो कोई भी वितरक इसे खरीदना नहीं चाहेगा। बच्चों के लिए बनाई जाने वाली फिल्मों का कोई क्रेता ही नहीं है।”

उनका मानना है कि इस शैली को लोकप्रिय बनाने का एक ही तरीका है और वह ये कि इनमें बच्चों के साथ किसी चर्चित वयस्क कलाकार को भी शामिल करें।

यह भी पढ़ें – जब बेटे ने अपने माँ-बाप को लिखा WhatsApp पत्र

राजकुमार राव और नुसरत भरूचा अभिनीत अपनी हालिया फिल्म छलांग के बारे में उन्होंने कहा, “बच्चों के साथ आपको इन फिल्मों में किसी हीरो को भी शामिल करना होगा। उदाहरण के तौर पर आप ‘छलांग’ को ही ले लीजिए। यह एक ऐसी फिल्म है, जो व्यवसायिक है, नाटकीय है, जिसके गाने अच्छे हैं, जिसकी कहानी प्रेरक है और हंसी का तड़का भी है और इन सबसे बढ़कर यह एक बच्चों की फिल्म है।”

उन्होंने आगे यह भी कहा, “यह बच्चों के लिए एक मुख्यधारा की फिल्म भी है। उन्हें यह बेहद पसंद आएगी। फिल्म में उन्हें अपनी ही छवि देखने को मिलेगी। ‘मिस्टर इंडिया’ भी बच्चों के लिए बनी एक मेनस्ट्रीम फिल्म थी।”

साल 1987 में आई इस ब्लॉकबस्टर फिल्म में सतीश ने सबके चहेते किरदार कैलेंडर को निभाया था। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
174FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी