Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

5जी तकनीक के मामले में चीन दे रहा है दुनिया को बड़ी टक्कर

चीन 5जी तकनीक के क्षेत्र में बहुत बड़े स्तर पर काम कर रहा है। जुलाई महीने के आखिर तक चीन में 5 जी यूजर्स की संख्या 88 मिलियन पहुंच चुकी है।

5जी तकनीक के मामले में चीन दे रहा है दुनिया को बड़ी टक्कर। (Image: Pixabay)

कुछ देशों की चिंताओं के बावजूद चीन में 5 जी तकनीक पर तेजी से काम हो रहा है। चीन सरकार का ध्यान न्यू इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूती देने पर लगा हुआ है। 5 जी के क्षेत्र में चीन वैश्विक लीडर की भूमिका में है, इस बात को नकारा नहीं जा सकता है। चीन सरकार के आंकड़ों की मानें तो जून के महीने तक देश में चार लाख दस हजार से ज्यादा 5जी बेस स्टेशनों का निर्माण हो चुका है।

वहीं करीब 2 लाख 57 हजार स्टेशन हाल के महीनों में स्थापित किए गए हैं। इसके साथ ही चीन 5जी के तहत स्मार्ट हेल्थकेयर, उद्यमों के लिए वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क, स्मार्ट ग्रिड, वाहन-सड़क समन्वय प्रणाली और वाहनों में इंटरनेट का दायरा बढ़ाने के लिए विशेष जोर दे रहा है।


चीन में 5 जी तकनीक पर तेजी से काम हो रहा है। (Image – pixabay)

बताया जा रहा है कि चीन में हर हफ्ते लगभग 20 हजार नए 5 जी बेस स्टेशन बनाए जा रहे हैं। इसके साथ ही 5जी नेटवर्क की कवरेज को और अधिक विस्तारित किया जाना है। चीन का लक्ष्य इस साल के आखिर तक देश में लगभग साढ़े सात लाख से आठ लाख बेस स्टेशनों की स्थापना करने पर है।

जानकार कहते हैं कि चीन साल 2025 तक 5जी नेटवर्क के निर्माण में 173 बिलियन डॉलर खर्च कर सकता है। जो दुनिया के लिए एक और आश्चर्य होगा।

यह भी पढ़ें- जानिए फेसबुक हानिकारक कंटेंट का कैसे पता लगाता है.

चीन ने पिछले कुछ समय से 5 जी तकनीक के विकास पर पूरा ध्यान दिया है। क्योंकि आज के दौर में तकनीक के बिना आगे नहीं बढ़ा जा सकता है। चीन ने तकनीक के महत्व को बखूबी समझा और इस दिशा में तेजी से काम किया है।

5जी तकनीक का सांकेतिक चित्र। (Image – pixabay)

5जी तकनीक की बात करें तो यह वीडियो कान्फ्रेंसिंग, ऑनलाइन मेडिकल परामर्श, दूरस्थ शिक्षा, शार्ट वीडियो, लाइवस्ट्रीमिंग इवेंट्स और गेम्स आदि के इस्तेमाल में क्रांतिकारी परिवर्तन ला सकती है।

हाल ही में चीन के उद्योग व सूचना प्रौद्योगिकी मामलों के उप-मंत्री शिन कुओपिन ने कहा कि चीन के 5 जी बेस स्टेशनों का रोलआउट उम्मीदों से अधिक हो चुका है। जुलाई महीने के आखिर तक चीन में 5 जी यूजर्स की संख्या 88 मिलियन पहुंच चुकी है। ये ऐसे उपभोक्ता हैं, जिनके मोबाइल वायरलेस नेटवर्क से जुड़े हुए हैं।

कहा जा सकता है कि चीनी कंपनियां विश्व में इस तकनीक के जरिए अपना लोहा मनवाने के लिए तैयार दिख रही हैं।(IANS)

Popular

विशाल गर्ग (Twitter)

बेटर डॉट कॉम(Better.com) के भारतीय मूल(Indian Origin) के सीईओ विशाल गर्ग(Vishal Garg) तब से सुर्खियां बटोर रहे हैं, जब उन्होंने जूम कॉल पर 900 से अधिक कर्मचारियों, लगभग 9 प्रतिशत कर्मचारियों को अचानक निकाल दिया।

कथित तौर पर कर्मचारियों में से एक द्वारा रिकॉर्ड किए गए अब वायरल वीडियो में, गर्ग को पिछले बुधवार को यूएस-आधारित कंपनी के कर्मचारियों को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें बाजार की दक्षता, प्रदर्शन और उत्पादकता पर निकाल दिया जा रहा है।

Keep Reading Show less

शिया वक़्फ़ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने आज हिन्दू धर्म अपना लिया। (Twitter)

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड(Shia Waqf Board) के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी(Wasim Rizvi) ने सोमवार को हिंदू धर्म(Hindu Religion) (जिसे सनातन धर्म भी कहा जाता है) अपना लिया। एक दैनिक समाचार वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने अनुष्ठान के तहत डासना देवी मंदिर में स्थापित शिव लिंग पर दूध चढ़ाया।

समारोह डासना देवी मंदिर के मुख्य पुजारी नरसिंहानंद सरस्वती की उपस्थिति में सुबह 10.30 बजे शुरू हुआ, वैदिक भजनों का जाप किया गया क्योंकि रिजवी ने इस्लाम छोड़ दिया और एक यज्ञ के बाद हिंदू धर्म में प्रवेश किया। वह त्यागी समुदाय से जुड़े रहेंगे। उनका नया नाम जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी होगा।

Keep Reading Show less

इंडियन स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी (ISH) [IANS]

दुनिया की अग्रणी हॉस्पिटैलिटी और पाक कला शिक्षा दिग्गजों में से एक, सॉमेट एजुकेशन (Sommet Education) ने हाल ही में देश के प्रीमियम हॉस्पिटैलिटी संस्थान, इंडियन स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी (ISH) के साथ हाथ मिलाया है। इसके साथ सॉमेट एजुकेशन की अब आईएसएच (ISH) में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जो पूर्व के विशाल वैश्विक नेटवर्क में एक महत्वपूर्ण एडिशन है। रणनीतिक साझेदारी सॉमेट एजुकेशन को भारत में अपने दो प्रतिष्ठित संस्थानों को स्थापित करने की अनुमति देती है। इनमें इकोले डुकासे शामिल है, जो पाक और पेस्ट्री कला में एक विश्वव्यापी शिक्षा संदर्भ के साथ है। दूसरा लेस रोचेस है, जो दुनिया के अग्रणी हॉस्पिटैलिटी बिजनेस स्कूलों में से एक है।

इस अकादमिक गठबंधन के साथ, इकोले डुकासे का अब भारत में अपना पहला परिसर आईएसएच (ISH) में होगा, और लेस रोचेस देश में अपने स्नातक और स्नातकोत्तर आतिथ्य प्रबंधन कार्यक्रम शुरू करेगा।

Keep reading... Show less