Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ओपिनियन

चीन की गीदड़भबकियों में नज़र आ रही उसकी बौखलाहट, ग्लोबल टाइम्स के ज़रिए लगातार साध रहा है भारत पर निशाना

ग्लोबल टाइम्स ये भी कहता है की अगर भारत फिर से सीमा पर विवाद पैदा करने की कोशिश करेगा तो उसका हश्र 1962 से भी बुरा होगा।

Xi Jinping, President, China(Image: Wikimedia Commons)

चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच हुई झड़प के बाद पूरे भारत में देशभक्ति की एक लहर आ गयी है। भारत ने शहीद हुए 20 भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि दी तो वहीं दूसरी तरफ चीनी सरकार, मारे गए सैनिकों के आंकड़े देने में भी कतरा रही है। कई सूत्रों के अनुसार मारे गए चीनी सैनिकों की संख्या 40 के भी पार है। नतिजन चीन के नागरिकों में, चीनी सरकार के खिलाफ विरोध पनपता जा रहा है। इंडिया टुडे  के एक रिपोर्ट के अनुसार, चीनी सोशल मीडिया ऐप Weibo पर, चीन के नागरिकों ने सरकार से सवाल करने शुरू कर दिए हैं। उनकी मांग है की सरकार, मारे गए चीनी सैनिकों के आंकड़े जारी करे और उन्हे सम्मान पूर्वक श्रद्धांजलि दी जाए। अंदर ही अंदर बढ़ रहे इस विरोध की वजह से चीन की सत्ताधारी पार्टी बौखला गयी है। 

उनकी बौखलाहट, चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स में हर रोज़ छपने वाले भारत विरोधी लेखों में देखा जा सकता है। ग्लोबल टाइम्स को चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी का मुखपत्र माना जाता है। आसान भाषा में समझिए तो, ग्लोबल टाइम्स, चीनी सरकार के प्रवक्ता के रूप में काम करती है। 


बीते कई दिनों से ग्लोबल टाइम्स, लगातार भारत विरोधी लेखों के ज़रिए हमारी सरकार और हमारे नागरिकों को उकसाने की कोशिश कर रहा है। भारत को कमजोर बताना, 1962 के युद्ध का ज़िक्र कर भारत के मनोबल को गिराने की कोशिश करने जैसे काम, ग्लोबल टाइम्स लगातार कर रहा है। आज भी ग्लोबल टाइम्स ने एक लेख के ज़रिये ये बताने की कोशिश की है की, चाइना जान कर अपने मारे गए सैनिकों की संख्या नहीं बता रहा है। उस लेख में ग्लोबल टाइम्स लिखता है की, “भारत की नरेंद्र मोदी सरकार भी चीन से पंगा नहीं लेना चाहती है, क्यूंकी उन्हे पता है नतीजे भारत के लिए सही नहीं होंगे”।  

ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, चीन के खिलाफ कड़े निर्णय लेने का दिखावा कर, मात्र अपने देश के लोगों को खुश करने की कोशिश कर रहे हैं, जबकि असलियत में वो मामले को ठंडा करना चाहते हैं। ऐसे लेखों के ज़रिये ग्लोबल टाइम्स, भारत के नागरिकों में भारत की सरकार और सेना के प्रति शक पैदा करवाना चाहता है। हालांकि, कई लोग चीन के इस जाल में फँसते हुए भी नज़र आ रहे हैं। कइयों ने ग्लोबल टाइम्स की इस रिपोर्ट का हवाला देते हुए भारत की सरकार पर सवाल खड़े करने भी शुरू कर दिये हैं। ऐसी घटनाओं से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि, एक कमजोर प्रधानमंत्री के रूप में साबित करने की योजना को बल मिल सकता है। इन सब के बीच, ग्लोबल टाइम्स बार-बार दोनों देशों की सेना के बीच तुलना कर, भारतीय सेना को कमजोर बताने का भी प्रयास कर रहा है। 

ग्लोबल टाइम्स कहता है की “भारत सरकार, मारे गए सैनिकों की तुलना कर अपने कट्टर राष्ट्रवादियों को खुश करने की कोशिश में लगा हुआ है, जिसकी वजह से सरकार पर दबाव कम होता हुआ नज़र आ रहा है। जबकि चीन, भारत से लड़ाई नहीं चाहता, इसीलिए वो मारे गए चीनी सैनिकों के आंकड़े जारी कर भारत सरकार को दबाव में नहीं लाना चाहता है”। ग्लोबल टाइम्स का कहना है की, “अगर चीन मारे गए चीनी सैनिकों के आंकड़े जारी कर देगा (जो की चीन के मुताबिक, भारत से कम है) तो भारत के कट्टर राष्ट्रवादियों द्वारा सरकार पर दबाव बनाया जाने लगेगा। ऐसे राष्ट्रवादियों को खुश करने के लिए भारत सरकार चीन से युद्ध की स्थिति पैदा करने पर मजबूर हो सकती है, जिसका नतीजा भारत के लिए सही साबित नहीं होगा”। ग्लोबल टाइम्स ये भी कहता है की अगर भारत फिर से सीमा पर विवाद पैदा करने की कोशिश करेगा तो उसका हश्र 1962 से भी बुरा होगा। 

हालांकि, इन गीदड़भभकियों की पोल 15 जून को ही खुल गयी थी जब एलएसी पर भारत और चीन के सैनिक आमने-सामने हुए थे। रिपोर्ट के मुताबिक, 300-400 भारतीय सैनिकों से भिड़े 2000-2500 चीनी सैनिकों को मुंह के बल खानी पड़ी थी। 

ऐसी कोरी बातों से चीनी सरकार, एक तीर से दो निशाने लगाना चाह रही है। भारत को भड़काने और कमजोर साबित करने की कोशिश के साथ साथ, वो अपने देश के नागरिकों का गुस्सा भी शांत करने का प्रयास कर रही है। अगर आप ध्यान से देखें तो आपको पता चलेगा की, मारे गए सैनिकों को लेकर की गयी टिपन्नी, भारत के लिए नहीं,बल्कि उनके अपने नागरिकों के लिए थी, जो चीनी सरकार से लगातार, मारे गए सैनिकों के आंकड़े छुपाने को लेकर सवाल पूछ रही है।

हमारे देश के नागरिकों की तरह, चीन के नागरिकों में भी, भारत के खिलाफ गुस्सा पनप रहा है। चीनी नागरिक भी वहाँ की सरकार से भारत पर कार्यवाही की उम्मीद कर रहे है। 15 जून को चीनी सेना द्वारा किए गए कायराना हरकत के बाद भी चीन के ज़्यादा सैनिकों के मरने की खबर ने, चीनी नागरिकों में पनप रहे गुस्से को और भी बढ़ा दिया है, जिसकी वजह से खुद चीनी सरकार पर भारत से युद्ध करने का दवाब बना हुआ है। और यही वजह है की वो लगातार भारत सरकार, और हमारी सेना को उकसाने का प्रयास कर रही है। 

चीनी सरकार के “हम युद्ध नहीं चाहते है” का दावा बिल्कुल ही खोखला है। चीनी सेना का झूठ, धोखा और प्रपंच से भरा इतिहास इस बात का गवाह है। उदाहरण के तौर पर, 6 जून को दोनों देशों के बीच हुए समझौते में चीन और भारत, अपनी-अपनी सेना को पीछे खींचने पर राज़ी हुए थे, लेकिन यहाँ भी चीन ने धोखाधड़ी कर अपनी सेना को पीछे नहीं हटाया था।  बाद में यही, 15 जून को हुए खूनी संघर्ष कर कारण बना। 

भारत सरकार लगातार चीन को करारा जवाब दे रही है, चाहे वो सीमा पर हो या व्यवसाय में हो। अभी हाल ही में टेलीकॉम से लेकर रेलवे तक में, भारत सरकार ने चीनी कंपनियों को दिये गए ठेकों को रद्द कर दिया है। ग्लोबल टाइम्स के ज़रिये चीनी सरकार द्वारा भारत को धमकाने की कोशिश में चीन की बौखलाहट साफ झलक रही है। 


अभी थोड़ी देर पहले, चीनी सेना ने 15 जून को हुए संघर्ष में अपने कमांडिंग ऑफिसर के मारे जाने की बात की पुष्टि की है।

Popular

प्री-एक्लेमप्सिया गर्भावस्था के 20वें सप्ताह के बाद रक्तचाप में अचानक वृद्धि है। (Unsplash)

एक नए अध्ययन के अनुसार, जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान कोविड संकमित होती हैं, उनमें प्री-एक्लेमप्सिया विकसित होने का काफी अधिक जोखिम होता है। यह बीमारी दुनिया भर में मातृ और शिशु मृत्यु का प्रमुख कारण है। प्री-एक्लेमप्सिया गर्भावस्था के 20वें सप्ताह के बाद रक्तचाप में अचानक वृद्धि है। अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव2 संक्रमण वाली महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान संक्रमण के बिना प्रीक्लेम्पसिया विकसित होने की संभावना 62 प्रतिशत अधिक होती है।

वेन स्टेट यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में आणविक प्रसूति और आनुवंशिकी के प्रोफेसर रॉबटरे रोमेरो ने कहा कि यह जुड़ाव सभी पूर्वनिर्धारित उपसमूहों में उल्लेखनीय रूप से सुसंगत था। इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव 2 संक्रमण गंभीर विशेषताओं, एक्लम्पसिया और एचईएलएलपी सिंड्रोम के साथ प्री-एक्लेमप्सिया की बाधाओं में उल्लेखनीय वृद्धि के साथ जुड़ा है। एचईएलएलपी सिंड्रोम गंभीर प्री-एक्लेमप्सिया का एक रूप है जिसमें हेमोलिसिस (लाल रक्त कोशिकाओं का टूटना), ऊंचा लिवर एंजाइम और कम प्लेटलेट काउंट शामिल हैं। टीम ने पिछले 28 अध्ययनों की समीक्षा के बाद अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए, जिसमें 790,954 गर्भवती महिलाएं शामिल थीं, जिनमें 15,524 कोविड -19 संक्रमण का निदान किया गया था।

गर्भावस्था के दौरान संक्रमण के बिना प्रीक्लेम्पसिया विकसित होने की संभावना 62 प्रतिशत अधिक होती है। (Unsplash)

Keep Reading Show less
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद।(PIB)

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने बुधवार को दोहराया कि भारत सामूहिक स्वास्थ्य और आर्थिक कल्याण सुनिश्चित करने के लिए Covid-19 महामारी के खिलाफ एक निर्णायक और समन्वित प्रतिक्रिया देने के वैश्विक प्रयासों में सबसे आगे रहा है। कोविंद ने यह भी कहा कि दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के तहत भारतीयों को अब तक 80 करोड़ से अधिक खुराक मिल चुकी है।

राष्ट्रपति भवन से एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को एक आभासी समारोह में आइसलैंड, गाम्बिया गणराज्य, स्पेन, ब्रुनेई दारुस्सलाम और श्रीलंका के लोकतांत्रिक गणराज्य के राजदूतों/उच्चायुक्तों से परिचय पत्र स्वीकार किए।

अपना परिचय पत्र प्रस्तुत करने वाले राजदूत निम्न हैं : महामहिम गुडनी ब्रैगसन, आइसलैंड के राजदूत, महामहिम मुस्तफा जवारा, गाम्बिया गणराज्य के उच्चायुक्त, महामहिम जोस मारिया रिडाओ डोमिंगुएज, स्पेन के राजदूत, महामहिम दातो अलैहुद्दीन मोहम्मद ताहा, ब्रुनेई दारुस्सलाम के उच्चायुक्त, महामहिम अशोक मिलिंडा मोरागोडा, श्रीलंका के लोकतांत्रिक समाजवादी गणराज्य के उच्चायुक्त।


इस अवसर पर अपने संबोधन में राष्ट्रपति ने इन सभी राजदूतों को उनकी नियुक्ति पर बधाई दी और उन्हें भारत में एक सफल कार्यकाल के लिए शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि भारत के इन सभी पांच देशों के साथ घनिष्ठ संबंध हैं और भारत इनके साथ शांति, समृद्धि का एक समन्वित दृष्टिकोण साझा करता है।

Keep Reading Show less

देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटें। (IANS)

राम भक्तों द्वारा दी गई और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) (Vishwa Hindu Parishad) द्वारा तीन दशक लंबे मंदिर आंदोलन के दौरान देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटों का इस्तेमाल अब राम जन्मभूमि स्थल पर भव्य मंदिर का निर्माण के लिए किया जाएगा।

मंदिर ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने कहा, "1989 के 'शिलान्यास' के दौरान कारसेवकों द्वारा राम जन्मभूमि पर एक लाख पत्थर रखे गए थे। कम से कम, 2 लाख पुरानी कार्यशाला में रह गए हैं, जिन्हें अब निर्माण स्थल पर स्थानांतरित कर दिया जाएगा। ईंटों पर भगवान राम का नाम लिखा है और यह करोड़ों भारतीयों की आस्था का प्रमाण है।

Keep reading... Show less