Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

“सामान्य सर्दी कोरोनोवायरस का 100 प्रतिशत संकेत नहीं हो सकती : एम्स

एम्स की भोपाल और जम्मू इकाई के प्रेसीडेंट वाई.के. गुप्ता ने आईएएनएस को बताया कि खांसी, बुखार और सामान्य सर्दी को कोरोनावायरस के संकेत के रूप में 100 प्रतिशत नहीं माना जा सकता।

कुछ समय पहले, ब्रिटेन में जनरल फिजिशियन के एक समूह ने दावा किया था कि सामान्य सर्दी के लक्षणों को हल्के में नहीं लेना चाहिए, बल्कि इसे कोरोनावायरस का लक्षण मानना चाहिए, लेकिन इसे लेकर एक अलग नजरिया भी है।

एम्स की भोपाल और जम्मू इकाई के प्रेसीडेंट वाई.के. गुप्ता ने आईएएनएस को बताया कि खांसी, बुखार और सामान्य सर्दी को कोरोनावायरस के संकेत के रूप में 100 प्रतिशत नहीं माना जा सकता।


कथित तौर पर, 140 ईस्ट लंदन के जनरल प्रैक्टिशनर्स (जीपी) और हेल्थ केयर पेशेवरों ने इंग्लैंड के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी क्रिस व्हिट्टी और पब्लिक हेल्थ की सुजन हॉपकिंस को एक खुला पत्र लिखा था और दावा किया था कि मरीजों को कोरोना पॉजिटिव होने के पहले आमतौर पर गले में खराश, नाक बहना, सिरदर्द जैसे सामान्य सर्दी के लक्षण अनुभव होते हैं।

एम्स नई दिल्ली के फार्माकोलॉजी विभाग के पूर्व प्रमुख गुप्ता ने कहा, “सामान्य सर्दी कोरोनोवायरस का 100 प्रतिशत संकेत नहीं हो सकती। अधिकांश सामान्य सर्दी वायरल संक्रमण गिरावट पर हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि लोगों को लापरवाही करनी चाहिए। मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना आवश्यक है।”

एम्स ने कहा सामान्य सर्दी नहीं है कोरोनावायरस के लक्षण । (Social Media)

गुप्ता ने चेतावनी दी कि हाल ही में कोविड के मामलों में कमी आई है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि खतरा टल गया है। उन्होंने कहा कि मामलों और मौतों में गिरावट के लिए योगदान करने वाले कारकों में टीकाकरण अभियान और देश में लोगों की आंतरिक प्रतिरक्षा हो सकती है।

उन्होंने कहा, “एक बड़ी आबादी पहले से ही संक्रमित हो गई है, जो सबक्लिनिकल रूप से गिरावट में योगदान कर सकती है। इस की रोगजनकता शायद कम हो रही है।”

पश्चिमी देशों में बढ़ती संख्या और भारत में मामलों में लगातार गिरावट के पहलू पर, गुप्ता ने संकेत दिया कि यह संभवत: पश्चिमी आबादी की तुलना में वायरस के प्रति भारतीय आबादी की उच्च प्रतिरक्षा के कारण है, लेकिन इसे साबित करने के लिए पर्याप्त डेटा नहीं है।

जिन लोगों ने कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद टीका लगवाया, उनमें कुछ स्वास्थ्य चीजें विकसित हुई हैं। क्या यह एक लास्टिंग हेल्थ समस्या बनने की क्षमता है? गुप्ता ने उत्तर दिया कि यह एक रिजिडूअल स्वास्थ्य समस्या हो सकती है और वैक्सीन रिजिडूअल साइड-इफेक्ट नहीं है, वास्तव में टीकाकरण के बाद एलर्जी की प्रतिक्रिया दो दिनों से अधिक नहीं रहती है।
 

यह भी पढ़े :- पूरी दुनिया को अपनी गिरफ्त में लेगा कोविड का ब्रिटेन वेरिएंट : वैज्ञानिक

यह पूछे जाने पर कि किसी विशेष आयु समूह खासकर बुजुर्गो या कॉमरबिडिटिज को लेकर उनके सामने कोई सुरक्षा संबंधी मुद्दा आया है तो गुप्ता ने कहा कि अभी तक तो नहीं आया है, क्योंकि डेटा पूरी तरह से उपलब्ध नहीं है और कहा कि कोवैक्सिन के तीसरे चरण के ट्रायल के बारे में डेटा शायद मार्च के अंत तक उपलब्ध हो, जो इसकी प्रभावकारिता साबित करेगा। (आईएएनएस)

Popular

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep Reading Show less