Sunday, May 16, 2021
Home देश "सामान्य सर्दी कोरोनोवायरस का 100 प्रतिशत संकेत नहीं हो सकती : एम्स

“सामान्य सर्दी कोरोनोवायरस का 100 प्रतिशत संकेत नहीं हो सकती : एम्स

एम्स की भोपाल और जम्मू इकाई के प्रेसीडेंट वाई.के. गुप्ता ने आईएएनएस को बताया कि खांसी, बुखार और सामान्य सर्दी को कोरोनावायरस के संकेत के रूप में 100 प्रतिशत नहीं माना जा सकता।


कुछ समय पहले, ब्रिटेन में जनरल फिजिशियन के एक समूह ने दावा किया था कि सामान्य सर्दी के लक्षणों को हल्के में नहीं लेना चाहिए, बल्कि इसे कोरोनावायरस का लक्षण मानना चाहिए, लेकिन इसे लेकर एक अलग नजरिया भी है।

एम्स की भोपाल और जम्मू इकाई के प्रेसीडेंट वाई.के. गुप्ता ने आईएएनएस को बताया कि खांसी, बुखार और सामान्य सर्दी को कोरोनावायरस के संकेत के रूप में 100 प्रतिशत नहीं माना जा सकता।

कथित तौर पर, 140 ईस्ट लंदन के जनरल प्रैक्टिशनर्स (जीपी) और हेल्थ केयर पेशेवरों ने इंग्लैंड के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी क्रिस व्हिट्टी और पब्लिक हेल्थ की सुजन हॉपकिंस को एक खुला पत्र लिखा था और दावा किया था कि मरीजों को कोरोना पॉजिटिव होने के पहले आमतौर पर गले में खराश, नाक बहना, सिरदर्द जैसे सामान्य सर्दी के लक्षण अनुभव होते हैं।

एम्स नई दिल्ली के फार्माकोलॉजी विभाग के पूर्व प्रमुख गुप्ता ने कहा, “सामान्य सर्दी कोरोनोवायरस का 100 प्रतिशत संकेत नहीं हो सकती। अधिकांश सामान्य सर्दी वायरल संक्रमण गिरावट पर हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि लोगों को लापरवाही करनी चाहिए। मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना आवश्यक है।”

एम्स ने कहा सामान्य सर्दी नहीं है कोरोनावायरस के लक्षण । (Social Media)

गुप्ता ने चेतावनी दी कि हाल ही में कोविड के मामलों में कमी आई है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि खतरा टल गया है। उन्होंने कहा कि मामलों और मौतों में गिरावट के लिए योगदान करने वाले कारकों में टीकाकरण अभियान और देश में लोगों की आंतरिक प्रतिरक्षा हो सकती है।

उन्होंने कहा, “एक बड़ी आबादी पहले से ही संक्रमित हो गई है, जो सबक्लिनिकल रूप से गिरावट में योगदान कर सकती है। इस की रोगजनकता शायद कम हो रही है।”

पश्चिमी देशों में बढ़ती संख्या और भारत में मामलों में लगातार गिरावट के पहलू पर, गुप्ता ने संकेत दिया कि यह संभवत: पश्चिमी आबादी की तुलना में वायरस के प्रति भारतीय आबादी की उच्च प्रतिरक्षा के कारण है, लेकिन इसे साबित करने के लिए पर्याप्त डेटा नहीं है।

जिन लोगों ने कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद टीका लगवाया, उनमें कुछ स्वास्थ्य चीजें विकसित हुई हैं। क्या यह एक लास्टिंग हेल्थ समस्या बनने की क्षमता है? गुप्ता ने उत्तर दिया कि यह एक रिजिडूअल स्वास्थ्य समस्या हो सकती है और वैक्सीन रिजिडूअल साइड-इफेक्ट नहीं है, वास्तव में टीकाकरण के बाद एलर्जी की प्रतिक्रिया दो दिनों से अधिक नहीं रहती है।
 

यह भी पढ़े :- पूरी दुनिया को अपनी गिरफ्त में लेगा कोविड का ब्रिटेन वेरिएंट : वैज्ञानिक

यह पूछे जाने पर कि किसी विशेष आयु समूह खासकर बुजुर्गो या कॉमरबिडिटिज को लेकर उनके सामने कोई सुरक्षा संबंधी मुद्दा आया है तो गुप्ता ने कहा कि अभी तक तो नहीं आया है, क्योंकि डेटा पूरी तरह से उपलब्ध नहीं है और कहा कि कोवैक्सिन के तीसरे चरण के ट्रायल के बारे में डेटा शायद मार्च के अंत तक उपलब्ध हो, जो इसकी प्रभावकारिता साबित करेगा। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी