Saturday, June 12, 2021
Home व्यक्ति विशेष कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी ने पार्टी को संकट के समय संभाला

कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी ने पार्टी को संकट के समय संभाला

कांग्रेस पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी आज 74 साल की हो गईं हैं। वह भारत की सबसे पुरानी पार्टी की सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाली अध्यक्ष हैं।

सोनिया गांधी, जिनका जन्म 1946 में इतालवी शहर लूसियाना कोन्को में हुआ था, वह भारत की सबसे पुरानी पार्टी की सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाली अध्यक्ष हैं।

संकट के समय पार्टी को संभाला

शुरुआत में सोनिया गांधी की राजनीति में कोई दिलचस्पी नहीं थी। राजीव गांधी के गुज़र जाने के बाद जब कांग्रेस के नेताओं द्वारा सोनिया गांधी को पार्टी अध्यक्ष चुना गया, तो उन्होंने इस पद को अस्वीकार कर दिया था। हालाँकि आगे चल कर पुनः पार्टी के नेताओं के आग्रह पर ही सोनिया गांधी ने 1998 में पार्टी का नेतृत्व संभाला। उस समय कांग्रेस पार्टी का पतन होता दिख रहा था। कई लोग पार्टी छोड़ कर चले गए थे। ऐसे संकट के समय में सोनिया गांधी ने ही पार्टी को पटरी पर लाने का दायित्व उठाया।

यह भी पढ़ें – ‘ऑपरेशन तलवार’, भारतीय नौ सेना के शौर्य की कहानी

और आगे चल कर 2004 में चुनी गई यूपीए की सरकार बनाई और 2014 तक देश की सबसे शक्तिशाली व्यक्ति भी रहीं। गौरतलब है कि तब से पार्टी लगातार दो आम चुनाव हार चुकी है।

Congress chief Sonia Gandhi handled the party during crisis
प्रेस वार्ता के दौरान कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी। (INC)

कांग्रेस पार्टी की अंदरूनी कलह

बीते वर्षों में सोनिया गांधी ने उतार-चढ़ाव दोनों देखे हैं, लेकिन इस समय पार्टी के भीतर चीजें ठीक नहीं हैं क्योंकि आंतरिक विद्रोह कुछ समय से बढ़ रहा है और पार्टी सभी प्रकार के चुनावों में भाजपा के विजयी रथ को रोक नहीं पाई है। जी 23, जो 23 सदस्यों का एक समूह है, और जिसने पार्टी में सुधारों के बारे में कड़ा पत्र लिखा था, वह भरोसा नहीं कर पा रहा है। बिहार चुनाव में हार के बाद इन लोगों ने फिर से अपनी चिंता जताई है। जैसे-जैसे कांग्रेस असम, पश्चिम बंगाल, केरल और तमिलनाडु के महत्वपूर्ण राज्यों में चुनावी अभियान की तैयारी कर रही है वैसे-वैसे पार्टी अपने भीतर की अंदरूनी कलह से भी जूझ रही है।

पार्टी के पुराने नेता सोनिया गांधी के बेटे राहुल गांधी की कार्यशैली के खिलाफ हैं और उनके फैसलों से खुश नहीं हैं।

पार्टी जल्द ही अध्यक्ष पद का चुनाव कराने जा रही है और अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि अगर राहुल गांधी खड़े होते हैं तो वो निर्विरोध जीत जाएंगे लेकिन अगर वह उम्मीदवार खड़ा करते हैं तो पद निर्विरोध नहीं जीता जा सकेगा। पार्टी के सदस्य खुले तौर पर नामांकन संस्कृति के खिलाफ आ गए हैं।

अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए – Penguin To Publish A Book On Former Prime Minister-“VAJPAYEE: The Years that Changed India”

इन सब के बीच सोनिया गांधी ने कुछ समय पहले ही कोविड की वजह से पार्टी का संकटमोचक समझे जाने वाले नेता अहमद पटेल को भी खो दिया है। उनके निधन पर शोक जताते हुए सोनिया गांधी ने कहा था – “मैंने एक कॉमरेड, एक वफादार सहकर्मी और एक दोस्त खो दिया है, जिनकी जगह कोई नहीं ले सकता।”

उससे कुछ दिन पहले दिल्ली में गंभीर प्रदूषण से बचने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को गोवा की ओर रुख करना पड़ा। डॉक्टरों ने ही उन्हें दिल्ली से बाहर जाने की सलाह दी थी।

सोनिया गांधी ने किसान संकट और कोविड-19 महामारी के बीच अपना जन्मदिन नहीं मनाने का फैसला किया है। उन्होंने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं को राहत कार्यों में शामिल होने के लिए कहा है।

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी