Saturday, September 26, 2020
Home ट्रेंड राम को काल्पनिक बताने वाली कांग्रेस पार्टी के कौन-कौन से नेता, अचानक...

राम को काल्पनिक बताने वाली कांग्रेस पार्टी के कौन-कौन से नेता, अचानक बने ‘रामभक्त’? देखें

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, "राम प्रेम हैं, करुणा और न्याय हैं और वह घृणा में प्रकट नहीं हो सकते हैं।"

विपक्षी कांग्रेस पार्टी ने अयोध्या मुद्दे पर एक सुरक्षित दूरी बनाए रखी थी, हालांकि बुधवार को राम मंदिर के लिए ‘भूमिपूजन’ के दिन पार्टी ने इसका स्वागत किया और इस अवसर पर शुभकामनाएं भी दी। लगभग सभी कांग्रेस नेताओं ने अपने बयानों और ट्वीट में ‘जय सिया राम’ का उल्लेख किया है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को अपने बयान में कहा कि राम सबके लिए हैं और भगवान राम राष्ट्रीय एकता, भाईचारे और सांस्कृतिक सद्भाव के प्रतीक बनेंगे। उनके भाई और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, “राम प्रेम हैं, करुणा और न्याय हैं और वह घृणा में प्रकट नहीं हो सकते हैं।” बयान के अंत में राहुल गांधी ने ‘जय सिया राम’ का भी प्रयोग किया।

एक कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने अपने बयान में जय सिया राम लिखा। जिसे भाजपा के ‘जय श्री राम’ के नारे के जवाब के रूप में देखा जा सकता है, जिसे विहिप द्वारा राम मंदिर आंदोलन के दौरान गढ़ा गया था।

उत्तर प्रदेश के कांग्रेसी नेता जितिन प्रसाद और आरपीएन सिंह पार्टी के रुख से खुश हैं। पार्टी के नेता पार्टी के योगदान को रेखांकित करने का प्रयास कर रहे हैं, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने कहा कि दिवंगत प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने अयोध्या में मंदिर के ताले खोलने और फिर 1989 में भूमि पूजन समारोह सुगम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। काँग्रेस नेता शशि थरूर ने भी राम मंदिर की बधाइयाँ दी।

पार्टी का मानना है कि उसे बहुमत की भावना का सम्मान करना होगा, खासकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा अंतिम निर्णय दिए जाने के बाद। सभी पक्षों ने यह सुनिश्चित किया है कि वे सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करेंगे। शीर्ष अदालत के फैसले का कांग्रेस वर्किं ग कमेटी ने भी स्वागत किया है। उत्तर प्रदेश के एक नेता ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस भाजपा से मुकाबले के लिए कमर कस रही है, लेकिन अब पार्टी को आर्थिक और प्रशासन के मुद्दों को छोड़कर भाजपा को निशाने पर लेने में मुश्किल हो सकती है।

कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद ने ‘भूमिपूजन’ का स्वागत करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने पहले ही राम मंदिर के निर्माण का स्वागत किया है। यह मेरे लिए और हर हिंदू के लिए आस्था की बात है। मुझे खुशी है कि राम मंदिर का निर्माण हो रहा है। इस मौके पर प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा भी रामभक्त बने नज़र आए।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंगलवार को अपने निवास पर हनुमान चालीसा का पाठ किया और अयोध्या में ‘भूमिपूजन’ समारोह के लिए चांदी की ईंटें भी भेंट की थी। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,023FansLike
0FollowersFollow
164FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी