Sunday, May 9, 2021
Home देश अपनी पार्टी को जीवित रखना है तो कांग्रेस को जीतने होंगे आगामी...

अपनी पार्टी को जीवित रखना है तो कांग्रेस को जीतने होंगे आगामी चुनाव !


असम और केरल में चुनाव जीतने के लिए कांग्रेस जमकर कोशिश कर रही है। पार्टी के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी भी पश्चिम बंगाल को छोड़कर उन सभी राज्यों में प्रचार कर रहे हैं, जहां चुनाव नजदीक हैं। जाहिर है लगातार अपना आधार खो रही कांग्रेस के लिए लड़ाईयां बहुत मुश्किल हैं लेकिन उतनी ही ज्यादा अहम भी हैं।

बीते कुछ सालों में कांग्रेस की स्थिति पर नजर डालें तो 2019 के लोकसभा चुनावों के बाद से ही उच्च सदन में कांग्रेस सदस्यों की संख्या घटती जा रही है। पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के निधन के बाद तो यह स्थिति और भी चिंताजनक हो गई है। जहां भाजपा एक के बाद एक राज्य जीतती जा रही है, वहीं कांग्रेस अब सिमटकर 4 राज्यों तक रह गई है। 2 राज्यों में वह गठबंधन के साथ सत्ता में है।

ऐसे हालातों को लेकर पार्टी के अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस को उच्च सदन में अपनी अच्छी स्थिति बनाए रखने के लिए राज्यों के चुनाव जीतने पर ध्यान देना चाहिए। हालांकि लोकसभा में तो कांग्रेस की स्थिति और भी खराब है, क्योंकि राजस्थान, गुजरात, आंध्र प्रदेश, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, त्रिपुरा, नागालैंड, मिजोरम, मणिपुर, जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा और दिल्ली से तो लोकसभा में कांग्रेस का कोई प्रतिनिधित्व ही नहीं है।

सदन में अपनी सदस्यता बनाए रखने में लिए कांग्रेस पार्टी को जीतने होंगे चुनाव । (Wikimedia commons)

सदनों में कांग्रेस के कुल सदस्यों की संख्या 100 से भी कम हो चुकी है और राज्यसभा में तो संख्या के मामले में भाजपा और कांग्रेस के बीच का अंतराल अब तक के शीर्ष पर है। उच्च सदन में भाजपा के 92 सदस्य हैं और उम्मीद है कि गुजरात के उपचुनावों में वह 2 और सीटें पा लेगी, जबकि कांग्रेस के सदन में केवल 36 सदस्य हैं।

सकारात्मक रवैया रखते हुए बात करें तो यदि पार्टी अच्छी तरह प्रदर्शन करे तो इस साल 5 राज्यों में होने वाले चुनाव काफी-कुछ बदल सकते हैं। जैसे – तमिलनाडु में 18 राज्यसभा सीटें हैं, इसके बाद पश्चिम बंगाल में 16, केरल में 9, असम में 7 और पुदुचेरी में 1 सीट है। इसके अलावा यदि कांग्रेस असम और केरल में चुनाव जीतती है, तो उसके पास उच्च सदन में अपनी संख्या बढ़ाने का मौका रहेगा। हालांकि, इतने सब के बाद भी वह संख्या में भाजपा से पीछे ही रहेगी। वहीं दोनों सदनों में अपने सदस्यों की अच्छी संख्या के कारण भाजपा के लिए विधेयक पारित कराना आसान होता है। हालांकि विपक्ष आरोप लगाता रहता है कि भाजपा विधेयकों को पारित करने में सही प्रक्रिया का पालन नहीं कर रही है। कृषि कानूनों के मामले में तो इस बात को लेकर भाजपा पर जमकर निशाना साधा गया।

कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि 2004 के आम चुनावों से पहले 14 राज्यों में कांग्रेस की सरकार थी जो अब घटकर 4 राज्यों में रह गई है। यदि पार्टी जीवित रहना चाहती है, तो उसे क्षेत्रीय नेताओं पर फोकस करना होगा और राज्यों के चुनाव जीतने होंगे। क्योंकि पार्टी तेलंगाना और आंध्र प्रदेश जैसे अहम राज्यों को क्षेत्रीय पार्टियों के हाथों खो चुकी है। पूर्वोत्तर में भी इसने उन सभी राज्यों को खो दिया है जिन्हें कभी कांग्रेस का गढ़ माना जाता था।

यह भी पढ़े :- अमेठी की जनता उन्हें सांसद बनाती है तो अमेठी में अपना घर बनाएंगी : स्मृति ईरानी

जमीन से आधार खोती कांग्रेस के नेता इस बात पर जोर दे रहे हैं कि राज्यों के नेताओं को आगे बढ़ाया जाए। साथ ही वे मांग कर रहे हैं कि संगठन को मजबूत करने के लिए ब्लॉक लेवल से लेकर सीडब्ल्यूसी लेवल तक चुनाए कराए जाएं। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,640FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी