Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

कोविड वायरस के टीके मानव डीएनए में प्रवेश नहीं करते हैं: अध्ययन

ऑस्ट्रेलियाई शोधकतार्ओं ने सॉर्स कोव 2 के दावों का खंडन करते हुए, कहा कि वायरस जो संक्रामक बीमारी का कारण बनता है, इसकी आनुवंशिक सामग्री को मानव जीनोम में एकीकृत करता है।

लोगों को टीकाकरण से संकोच नहीं करना चाहिए।(pixabay

 कोविड किसी व्यक्ति के डीएनए में प्रवेश नहीं कर सकता है। ऑस्ट्रेलियाई शोधकतार्ओं ने सॉर्स कोव 2 के दावों का खंडन करते हुए, कहा कि वायरस जो संक्रामक बीमारी का कारण बनता है, इसकी आनुवंशिक सामग्री को मानव जीनोम में एकीकृत करता है। जर्नल सेल रिपोर्ट्स में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि कोविड -19 और फाइजर, एस्ट्राजेनेका के टीके डीएनए में प्रवेश करने का कोई सबूत नहीं है।

क्वींसलैंड विश्वविद्यालय के शोधकतार्ओं ने कहा कि झूठे दावों ने लोगों को डराया है और लोगों को टीकाकरण से संकोच नहीं करना चाहिए।


शोध ने पुष्टि की कि कोई असामान्य वायरल गतिविधि नहीं थी और कोविड -19 व्यवहार एक कोरोनावायरस से अपेक्षित के अनुरूप था।

यूनिवर्सिटी के क्वींसलैंड ब्रेन इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर ज्योफ फॉल्कनर ने कहा कि सबूत उस अवधारणा का खंडन करते हैं जिसका इस्तेमाल टीके की हिचकिचाहट को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा है।

हमें सॉर्स कोव 2 एकीकरण का कोई सबूत नहीं मिला है, और यह बताता है कि इस तरह की घटनाएं विवो में अत्यंत दुर्लभ हैं। इसलिए ऑन्कोजेनेसिस को चलाने या वायरस के बाद की वसूली का पता लगाने की संभावना नहीं है।

कोविड-19 का टीका लेना व्यक्ति की इच्छा पर निर्भर करेगा। (Pixabay)

फॉल्कनर ने कहा कि सार्वजनिक स्वास्थ्य के ²ष्टिकोण से, हम कहेंगे कि कोई चिंता की बात नहीं है कि वायरस या टीके को मानव डीएनए में शामिल किया जा सकता है।

प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज में प्रकाशित अपने पिछले शोध में, फॉल्कनर ने सुझाव दिया कि रिकवरी के लंबे समय बाद सकारात्मक कोविड -19 परीक्षण वायरस के डीएनए में शामिल होने के कारण होते हैं।

हमने उनके दावों पर गौर किया कि मानव कोशिकाओं और मशीनरी ने कोविड -19 आरएनए को डीएनए में बदल दिया, जिससे स्थायी उत्परिवर्तन हुआ।

उन्होंने कहा कि हमने प्रयोगशाला में विकसित कोशिकाओं के दावों का आकलन किया, डीएनए अनुक्रमण किया और डीएनए में कोविड -19 का कोई सबूत नहीं मिला।

यह भी पढ़े : ‘जलवायु लक्ष्यों को पूरा करने में भारत की उल्लेखनीय प्रगति’ .

मई में, अमेरिका के इंडियाना में पर्डयू विश्वविद्यालय के शोधकतार्ओं ने दिखाया कि हालांकि पूरे मानव इतिहास में ऐसे वायरस रहे हैं जो अपनी आनुवंशिक सामग्री को मानव जीन में एकीकृत करने में सक्षम हैं। कोविड वायरस में मानव डीएनए में अपने आरएनए को एकीकृत करने के लिए आणविक मशीनरी का अभाव है। (आईएएनएस-PS)

Popular

कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। (IANS)

वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बड़े खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को घोषणा की कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ेंगे। उनका ये एलान करोड़ो दिलो को धक्का देने वाला था क्योंकि कोहली को हर कोई कप्तान के रूप में देखना चाहता है । कई दिनों से चल रहे संशय पर विराम लगाते हुए कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। कोहली ने बताया कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 के कप्तानी पद को छोड़ देंगे।

ट्वीट के जरिए उन्होंने इस यात्रा के दौरान उनका साथ देने के लिए सभी का धन्यवाद दिया। कोहली ने बताया कि उन्होंने यह फैसला अपने वर्कलोड को मैनेज करने के लिए लिया है। उनका वर्कलोड बढ़ गया था ।

Keep Reading Show less

मंगल ग्रह की सतह (Wikimedia Commons)

मंगल ग्रह पर घर बनाने का सपना हकीकत में बदल सकता हैं। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आँसुओ की मदद से कंक्रीट जैसी सामग्री बनाई है, जिसकी वजह से यह संभव हो सकता है। मंगल ग्रह पर छोटी सी निर्माण सामग्री लेकर जाना भी काफी महंगा साबित हो सकता है। इसलिए उन संसाधनों का उपयोग करना होगा जो कि साइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के अध्ययन में यह पता लगा है कि मानव रक्त से एक प्रोटीन, मूत्र, पसीने या आँसू से एक यौगिक के साथ संयुक्त, नकली चंद्रमा या मंगल की मिट्टी को एक साथ चिपका सकता है ताकि साधारण कंक्रीट की तुलना में मजबूत सामग्री का उत्पादन किया जा सके, जो अतिरिक्त-स्थलीय वातावरण में निर्माण कार्य के लिए पूरी तरह से अनुकूल हो।

Keep Reading Show less

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (instagram , virat kohali)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का लोहा इन दिनों हर जगह माना जा रहा है । इसी क्रम में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री हाल के दिनों में टेस्ट क्रिकेट के महान समर्थक और प्रमोटर हैं। साथ ही उन्होंने कोहली की तारीफ भी की खेल को प्राथमिकता देते हुए वो वास्तव में टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहते हैं।"
ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने इस बात पर अपनी चिंता व्यक्त की ,कि भविष्य में टेस्ट क्रिकेट कब तक प्राथमिकता में रहेगा। उन्होंने कहा, "चिंता यह है कि यह कब तक जारी रहेगा। उनका यह भी कहना है किइसमें कोई संदेह नहीं है कि जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं और नई पीढ़ी आती है, मेरे जैसे लोगों को जिस तरह टेस्ट क्रिकेट से प्यार है यह कम हो सकता है और यह हमारी पुरानी पीढ़ी के लिए चिंता का विषय है।"

\u0930\u0935\u093f \u0936\u093e\u0938\u094d\u0924\u094d\u0930\u0940 भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और वर्तमान कोच रवि शास्त्री (wikimedia commons)

Keep reading... Show less