Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
स्वास्थ्य

COVID-19 टीकों के बाद कुछ लोगों को साइड इफेक्ट होने के क्या कारण हैं?

टीका लगने के बाद साइड इफेक्ट क्यों होते, इसका कारण जानने के लिए यह रिपोर्ट पढ़ें!

सामूहिक टीकाकरण पर विशेषज्ञों की चेतावनी पर ध्यान देना होगा।(Pixabay)

सिरदर्द, थकान और बुखार सहित अस्थायी साइड इफेक्ट यह संकेत देते हैं कि आपके प्रतिरोधक प्रणाली में सुधार हो रहा है। यह टीकों के लिए एक सामान्य प्रतिक्रिया और आम बात है। यू.एस. फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के वैक्सीन प्रमुख डॉ. पीटर मार्क्स ने कहा, “इन टीकों के लगने के बाद, कुछ दिन तक मैं ऐसी कोई भी योजना नहीं बनाऊंगा जो मेरे शरीर पर दबाव दे,” यह बात उन्होंने तब कहा जब अपनी पहली खुराक के बाद उन्होंने थकान का अनुभव किया।

होता क्या है?

प्रतिरोधक क्षमता प्रणाली के दो मुख्य अंग होते हैं, और जैसे ही शरीर को एक विदेशी घुसपैठिए या दवाई का पता लगाता है, वह उसे धकेलता है। श्वेत रक्त कोशिकाएं उस जगह पर जमा हो जाती हैं जिससे सूजन हो जाती है जो ठंड लगने, दर्द, थकान और अन्य दुष्प्रभाव उत्पन्न होने का कारण होती हैं।


आपकी प्रतिरोधक क्षमता का यह तेजी से प्रतिक्रिया वाला कदम उम्र के साथ कमजोर होता जाता है, और यही कारण है कि युवाओं में बड़े वयस्कों की तुलना में जल्दी साइड इफेक्ट रिपोर्ट किए जाते हैं। इसके अलावा, कुछ टीके दूसरों की तुलना में अधिक प्रभावशाली हो सकते हैं। डॉ. पीटर आगे बताते हैं कि हर एक प्रभाव का असर अलग है। इसलिए यदि आपको किसी भी खुराक के एक या दो दिन बाद कुछ भी महसूस नहीं होता है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि टीका काम नहीं कर रहा है। पर्दे के पीछे,खुराक आपके प्रतिरोधक क्षमता के दूसरे भाग को भी गति प्रदान करता है, जो एंटीबॉडी का उत्पादन करके वायरस से वास्तविक सुरक्षा प्रदान करेगा।

टीका लगने के बाद दुष्प्रभाव आम प्रक्रिया का हिस्सा है।(Pixabay)

यह भी पढ़ें: दूसरी लहर ने गैर-कोविड बीमारियों से पीड़ित भारतीयों का बुरा हाल कर दिया : विशेषज्ञ

एक और खराब दुष्प्रभाव

जैसे-जैसे प्रतिरोधक क्षमता सक्रिय होती है, यह कभी-कभी लिम्फ नोड्स में अस्थायी सूजन का कारण बनती है, जैसे कि बांह के नीचे। महिलाओं को COVID​​-19 टीकाकरण के बाद नियमित मैमोग्राम शेड्यूल करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है ताकि सूजन वाले नोड को कैंसर होने से बचाया जा सके। लेकिन सभी दुष्प्रभाव नियमित नहीं होते हैं। फिर भी दुनिया भर में वैक्सीन की करोड़ों खुराक देने के बाद और गहन सुरक्षा निगरानी रखने के बाद कुछ गंभीर जोखिमों की पहचान की गई है। एस्ट्राजेनेका और जॉनसन एंड जॉनसन द्वारा बनाए गए टीके प्राप्त करने वाले नागरिकों में(जिनकी संख्या कम है) एक असामान्य प्रकार के रक्त के थक्के की सूचना मिली।

लोगों को कभी-कभी गंभीर एलर्जी भी होती है। इसलिए आपको COVID-19 वैक्सीन प्राप्त होने के बाद कुछ समय तक रुकने के लिए कहा जाता है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि किसी भी प्रकार के दुष्प्रभाव का तुरंत इलाज किया जा सके।(VOA)

हिंदी अनुवाद: शान्तनू मिश्रा

Popular

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरक्षनाथ पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ (VOA)

बसपा प्रमुख मायावती(Mayawati) की रविवार को टिप्पणी, गोरखनाथ मंदिर की तुलना एक "बड़े बंगले" से करने पर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) ने तत्काल प्रतिक्रिया दी, जिन्होंने उन्हें मंदिर जाने और शांति पाने के लिए आमंत्रित किया।

मुख्यमंत्री, जो मंदिर के महंत भी हैं, ने ट्विटर पर निशाना साधते हुए कहा - "बहन जी, बाबा गोरखनाथ ने गोरखपुर के गोरक्षपीठ में तपस्या की, जो ऋषियों, संतों और स्वतंत्रता सेनानियों की यादों से अंकित है। यह हिंदू देवी-देवताओं का मंदिर है। सामाजिक न्याय का यह केंद्र सबके कल्याण के लिए कार्य करता रहा है। कभी आओ, तुम्हें शांति मिलेगी, ”उन्होंने कहा।

Keep Reading Show less

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Wikimedia Commons)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री(Union Health Minister) मनसुख मंडाविया(Mansukh Mandaviya) ने सोमवार को 40 लाख से अधिक लाभार्थियों के लिए स्वास्थ्य सेवाओं और टेली-परामर्श सुविधा तक आसान पहुंच प्रदान करने के उद्देश्य से एक नया सीजीएचएस वेबसाइट और मोबाइल ऐप लॉन्च किया।

टेली-परामर्श की नई प्रदान की गई सुविधा के साथ, केंद्र सरकार स्वास्थ्य योजना (Central Government Health Scheme) के लाभार्थी सीधे विशेषज्ञ की सलाह ले सकते हैं, उन्होंने कहा।

Keep Reading Show less

झारखंड के खेतों में उपजायी जा रही फसलें और यहां के किसानों की सफलता की खुशबू अब देश-दुनिया तक पहुंच रही है (Wikimedia Commons)

झारखंड(Jharkhand) के खेतों में उपजायी जा रही फसलें और यहां के किसानों की सफलता की खुशबू अब देश-दुनिया तक पहुंच रही है। ये वही किसान हैं, जो कभी खेतों में सालों भर पसीने बहाकर और अपना खून सुखाकर भी फसलों को औने-पौने भाव में बेचने को मजबूर होते थे। तकनीक की समझ और इंटरनेट के जरिए घर बैठे देश-दुनिया के कोने-कोने में संपर्क साधने की सहुलियत गांवों तक पहुंची तो किसानों की जिंदगी भी बदल रही है। सबसे सुखद पहलू यह कि बदलाव और कामयाबी की इन नई कहानियों में महिलाओं का किरदार बेहद अहम है।

हजारीबाग(Hazaribag) जिले के उग्रवाद प्रभावित चुरचू प्रखंड की सात हजार महिला किसानों के एक समूह की कहानी किसी को भी चमत्कृत कर सकती है। 2017 में यहां की दस महिला किसानों ने एक समूह बनाया और एक साथ मिलकर खेती की शुरूआत की। धीरे-धीरे इस समूह से जुड़नेवाली महिला किसानों की संख्या बढ़ती गयी और इसके बाद 2018 में चुरचू नारी ऊर्जा फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड की शुरूआत हुई।

Keep reading... Show less