Monday, June 14, 2021
Home देश स्वास्थ्य COVID-19 टीकों के बाद कुछ लोगों को साइड इफेक्ट होने के क्या...

COVID-19 टीकों के बाद कुछ लोगों को साइड इफेक्ट होने के क्या कारण हैं?

टीका लगने के बाद साइड इफेक्ट क्यों होते, इसका कारण जानने के लिए यह रिपोर्ट पढ़ें!

सिरदर्द, थकान और बुखार सहित अस्थायी साइड इफेक्ट यह संकेत देते हैं कि आपके प्रतिरोधक प्रणाली में सुधार हो रहा है। यह टीकों के लिए एक सामान्य प्रतिक्रिया और आम बात है। यू.एस. फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के वैक्सीन प्रमुख डॉ. पीटर मार्क्स ने कहा, “इन टीकों के लगने के बाद, कुछ दिन तक मैं ऐसी कोई भी योजना नहीं बनाऊंगा जो मेरे शरीर पर दबाव दे,” यह बात उन्होंने तब कहा जब अपनी पहली खुराक के बाद उन्होंने थकान का अनुभव किया।

होता क्या है?

प्रतिरोधक क्षमता प्रणाली के दो मुख्य अंग होते हैं, और जैसे ही शरीर को एक विदेशी घुसपैठिए या दवाई का पता लगाता है, वह उसे धकेलता है। श्वेत रक्त कोशिकाएं उस जगह पर जमा हो जाती हैं जिससे सूजन हो जाती है जो ठंड लगने, दर्द, थकान और अन्य दुष्प्रभाव उत्पन्न होने का कारण होती हैं।

आपकी प्रतिरोधक क्षमता का यह तेजी से प्रतिक्रिया वाला कदम उम्र के साथ कमजोर होता जाता है, और यही कारण है कि युवाओं में बड़े वयस्कों की तुलना में जल्दी साइड इफेक्ट रिपोर्ट किए जाते हैं। इसके अलावा, कुछ टीके दूसरों की तुलना में अधिक प्रभावशाली हो सकते हैं। डॉ. पीटर आगे बताते हैं कि हर एक प्रभाव का असर अलग है। इसलिए यदि आपको किसी भी खुराक के एक या दो दिन बाद कुछ भी महसूस नहीं होता है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि टीका काम नहीं कर रहा है। पर्दे के पीछे,खुराक आपके प्रतिरोधक क्षमता के दूसरे भाग को भी गति प्रदान करता है, जो एंटीबॉडी का उत्पादन करके वायरस से वास्तविक सुरक्षा प्रदान करेगा।

fever headache after corona vaccination
टीका लगने के बाद दुष्प्रभाव आम प्रक्रिया का हिस्सा है।(Pixabay)

यह भी पढ़ें: दूसरी लहर ने गैर-कोविड बीमारियों से पीड़ित भारतीयों का बुरा हाल कर दिया : विशेषज्ञ

एक और खराब दुष्प्रभाव

जैसे-जैसे प्रतिरोधक क्षमता सक्रिय होती है, यह कभी-कभी लिम्फ नोड्स में अस्थायी सूजन का कारण बनती है, जैसे कि बांह के नीचे। महिलाओं को COVID​​-19 टीकाकरण के बाद नियमित मैमोग्राम शेड्यूल करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है ताकि सूजन वाले नोड को कैंसर होने से बचाया जा सके। लेकिन सभी दुष्प्रभाव नियमित नहीं होते हैं। फिर भी दुनिया भर में वैक्सीन की करोड़ों खुराक देने के बाद और गहन सुरक्षा निगरानी रखने के बाद कुछ गंभीर जोखिमों की पहचान की गई है। एस्ट्राजेनेका और जॉनसन एंड जॉनसन द्वारा बनाए गए टीके प्राप्त करने वाले नागरिकों में(जिनकी संख्या कम है) एक असामान्य प्रकार के रक्त के थक्के की सूचना मिली।

लोगों को कभी-कभी गंभीर एलर्जी भी होती है। इसलिए आपको COVID-19 वैक्सीन प्राप्त होने के बाद कुछ समय तक रुकने के लिए कहा जाता है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि किसी भी प्रकार के दुष्प्रभाव का तुरंत इलाज किया जा सके।(VOA)

हिंदी अनुवाद: शान्तनू मिश्रा

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी