Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

सीआरपीएफ तैयार करेगी 500 हाई-टेक विशेषज्ञों की टीम

सीआरपीएफ एक प्रमुख आंतरिक सुरक्षा बल है और अब इसने इंजीनियरिंग के क्षेत्र में स्नातक की डिग्री रखने वाले 500 अधिकारियों को प्रशिक्षित करने का फैसला किया है।

सीआरपीएफ के डायरेक्टर जनरल डॉ. ए.पी.माहेश्वरी। (IIT Delhi, Twitter)

जम्मू-कश्मीर के साथ-साथ नक्सली प्रभावित राज्यों में अनेक चुनौतियों का सामना करने वाले केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने अपनी प्रौद्योगिकी से संबंधित कुशलता को बढ़ाने के लिए उच्च प्रौद्योगिकी विशेषज्ञों का एक पूल बनाने की योजना बनाई है, ताकि उसके अधिकारी अभूतपूर्व स्थितियों से निपटने में और अधिक सक्षम हो सकें।

अर्धसैनिक बल के जवानों को देश के विभिन्न हिस्सों में आंतरिक सुरक्षा बनाए रखने के लिए तैनात किया जाता है। सीआरपीएफ तीन लाख से अधिक कर्मियों के साथ राष्ट्र का एक प्रमुख आंतरिक सुरक्षा बल है और अब इसने इंजीनियरिंग के क्षेत्र में स्नातक की डिग्री रखने वाले 500 अधिकारियों को प्रशिक्षित करने का फैसला किया है।


सीआरपीएफ के 40 इंजीनियरिंग स्नातक अधिकारियों और इनके अधीनस्थ अधिकारियों के एक अग्रणी बैच को सही योग्यता और क्षमता के साथ भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली के सतत शिक्षा कार्यक्रम के तहत तीन से छह महीने के सर्टिफिकेट कोर्स से गुजरना होगा।

मीटिंग में सीआरपीएफ के डि.गी एवं आईआईटी दिल्ली के डायरेक्टर और डीआरडीओ के अधिकारी। (IIT Delhi, twitter)

सीआरपीएफ ने कहा कि तकनीक के साथ बढ़ती चुनौतियों और व्यस्तता के बीच इस कदम की जरूरत है। सुरक्षा बल ने जोर देकर कहा कि उसे न केवल सबसे हालिया तकनीकों और गैजेट्स के साथ, बल्कि अपने कर्मियों की ओर से आवश्यक तकनीकी विशेषज्ञता के साथ भी अपडेट रहने की जरूरत है।

सीआरपीएफ के डीआईजी एम. धीनाकरन ने आईएएनएस को बताया, “यह सीआरपीएफ कर्मियों को अद्वितीय कौशल, क्षमताओं और ज्ञान से लैस करेगा, ताकि जटिल चुनौतियों से निपटा जा सके और परिचालन (ऑपरेशनल) एवं रणनीतिक जरूरतों को पूरा किया जा सके।”

इसके अलावा अधिकारी ने कहा कि इस प्रशिक्षित बैच के कुछ चुनिंदा अधिकारी आईआईटी-दिल्ली में उच्च डिग्री पाठ्यक्रम से गुजरेंगे। उन्होंने कहा, “ये प्रशिक्षित अधिकारी बल के तकनीकी सलाहकार के रूप में भी काम करेंगे।”

यह भी पढ़ें: आविष्कार करने वाले छात्रों को मिलेगी पेटेंट दायर करने की शिक्षा

आईआईटी-दिल्ली की ओर से प्रशिक्षित सीआरपीएफ के अधिकारी रक्षा और सुरक्षा तकनीकी समाधान के क्षेत्र में रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और आईआईटी-दिल्ली की ओर से किए गए संयुक्त अनुसंधान परियोजनाओं से भी जुड़े होंगे।

एक अन्य अधिकारी के अनुसार, सुरक्षा बल ने अपने मुख्य कार्यो में इन्हें अपनाते हुए नवीनतम तकनीकों के साथ तालमेल बनाए रखने के लिए लगातार प्रयास किए हैं।

उनके अनुसार, यह पहल ‘अपने अधिकारियों के बीच अत्यधिक विशिष्ट प्रौद्योगिकी विशेषज्ञों का एक पूल बनाने’ का प्रयास है।

इसके लिए शनिवार को सीआरपीएफ और आईआईटी-दिल्ली एवं डीआरडीओ के बीच एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए हैं।(आईएएनएस)

Popular

नागरिक उड्डयन मंत्रालय की तरफ से चलाई जा रही है कृषि उड़ान 2.O योजना(Wikimedia commons)

नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने बुधवार को कृषि उड़ान 2.0' योजना का शुभारंभ करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सिंधिया ने कहा कि 'कृषि उड़ान 2जेड.0' आपूर्ति श्रृंखला में बाधाओं को दूर कर किसानों की आय दोगुनी करने में मदद करेगी। यह योजना हवाई परिवहन द्वारा कृषि-उत्पाद की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने और प्रोत्साहित करने का प्रस्ताव करती है।

सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने कहा, "यह योजना कृषि क्षेत्र के लिए विकास के नए रास्ते खोलेगी और आपूर्ति श्रृंखला, रसद और कृषि उपज के परिवहन में बाधाओं को दूर करके किसानों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करेगी। क्षेत्रों (कृषि और विमानन) के बीच अभिसरण तीन प्राथमिक कारणों से संभव है - भविष्य में विमान के लिए जैव ईंधन का विकासवादी संभावित उपयोग, कृषि क्षेत्र में ड्रोन का उपयोग और योजनाओं के माध्यम से कृषि उत्पादों का एकीकरण और मूल्य प्राप्ति।"

Keep Reading Show less

वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Pixabay)

कोरोना काल में जब सब कुछ बंद चल रहा था । झारखंड के पलामू टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) में कोरोना काल के दौरान सैलानियों और स्थानीय लोगों का प्रवेश रोका गया तो यहां जानवरों की आमद बढ़ गयी। इस वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है। आप को बता दे कि लगभग एक दशक के बाद यहां हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा की भी आमद हुई है। इसे लेकर परियोजना के पदाधिकारी उत्साहित हैं। पलामू टाइगर प्रोजेक्ट(Palamu Tiger Reserve) के फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि लोगों का आवागमन कम होने जानवरों को ज्यादा सुरक्षित और अनुकूल स्पेस हासिल हुआ और इसी का नतीजा है कि अब इस परियोजना क्षेत्र में उनका परिवार पहले की तुलना में बड़ा हो गया है।

पिछले हफ्ते इस टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) के महुआडांड़ में हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा के एक परिवार की आमद हुई है। फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष के मुताबिक एक जोड़ा नर-मादा चौसिंगा और उनका एक बच्चा ग्रामीण आबादी वाले इलाके में पहुंच गया था, जिसे हमारी टीम ने रेस्क्यू कर एक कैंप में रखा है। चार सिंगों वाला यह हिरण देश के सुरक्षित वन प्रक्षेत्रों में बहुत कम संख्या में है।

Palamu Tiger Reserve वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Unsplash)

Keep Reading Show less

एआईबीए विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में भारत की जीत(PIXABAY)

एआईबीए विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप(AIBA World Boxing Championship) में भारत की जीत की लय को आगे बढ़ाते हुए दीपक भोरिया, सुमित और नरेंद्र ने सर्बिया के बेलग्रेड में चल रही चैंपियनशिप के दूसरे दिन शानदार जीत के साथ अपने अभियान को जारी रखा। खिताब के प्रबल दावेदारों में से एक, किर्गिस्तान के अजत उसेनालिव के खिलाफ, दीपक ने 51 किग्रा के शुरूआती दौर के मैच में एक शानदार प्रदर्शन किया। एशियाई चैंपियन उसेनलिव के कुछ प्रतिरोध के बावजूद, 24 वर्षीय दीपक अपनी जीत को सुनिश्चत करने में सफल रहे।

सुमित भी जमैका के मुक्केबाज(Boxing) ओनील डेमन के खिलाफ अपने 75 किग्रा के शुरूआती दौर के मैच के दौरान समान रूप से प्रभावी थे। उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ 5-0 से आसान जीत दर्ज की थी। दूसरी ओर, नरेंद्र को अपने पोलिश प्रतिद्वंद्वी ऑस्कर सफरियन से प्लस 92 किग्रा मुकाबले में कुछ कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा। हालांकि भारतीय खिलाड़ी ने 4-1 से अपनी जीत दर्ज की।

AIBA World Boxing Championship चैंपियनशिप के तीसरे दिन बुधवार को चार भारतीय मुक्केबाज अपनी चुनौती की शुरूआत करेंगे।(Pixabay)

Keep reading... Show less