Tuesday, October 20, 2020
Home देश सीआरपीएफ तैयार करेगी 500 हाई-टेक विशेषज्ञों की टीम

सीआरपीएफ तैयार करेगी 500 हाई-टेक विशेषज्ञों की टीम

सीआरपीएफ एक प्रमुख आंतरिक सुरक्षा बल है और अब इसने इंजीनियरिंग के क्षेत्र में स्नातक की डिग्री रखने वाले 500 अधिकारियों को प्रशिक्षित करने का फैसला किया है।

जम्मू-कश्मीर के साथ-साथ नक्सली प्रभावित राज्यों में अनेक चुनौतियों का सामना करने वाले केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने अपनी प्रौद्योगिकी से संबंधित कुशलता को बढ़ाने के लिए उच्च प्रौद्योगिकी विशेषज्ञों का एक पूल बनाने की योजना बनाई है, ताकि उसके अधिकारी अभूतपूर्व स्थितियों से निपटने में और अधिक सक्षम हो सकें।

अर्धसैनिक बल के जवानों को देश के विभिन्न हिस्सों में आंतरिक सुरक्षा बनाए रखने के लिए तैनात किया जाता है। सीआरपीएफ तीन लाख से अधिक कर्मियों के साथ राष्ट्र का एक प्रमुख आंतरिक सुरक्षा बल है और अब इसने इंजीनियरिंग के क्षेत्र में स्नातक की डिग्री रखने वाले 500 अधिकारियों को प्रशिक्षित करने का फैसला किया है।

सीआरपीएफ के 40 इंजीनियरिंग स्नातक अधिकारियों और इनके अधीनस्थ अधिकारियों के एक अग्रणी बैच को सही योग्यता और क्षमता के साथ भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली के सतत शिक्षा कार्यक्रम के तहत तीन से छह महीने के सर्टिफिकेट कोर्स से गुजरना होगा।

मीटिंग में सीआरपीएफ के डि.गी एवं आईआईटी दिल्ली के डायरेक्टर और डीआरडीओ के अधिकारी। (IIT Delhi, twitter)

सीआरपीएफ ने कहा कि तकनीक के साथ बढ़ती चुनौतियों और व्यस्तता के बीच इस कदम की जरूरत है। सुरक्षा बल ने जोर देकर कहा कि उसे न केवल सबसे हालिया तकनीकों और गैजेट्स के साथ, बल्कि अपने कर्मियों की ओर से आवश्यक तकनीकी विशेषज्ञता के साथ भी अपडेट रहने की जरूरत है।

सीआरपीएफ के डीआईजी एम. धीनाकरन ने आईएएनएस को बताया, “यह सीआरपीएफ कर्मियों को अद्वितीय कौशल, क्षमताओं और ज्ञान से लैस करेगा, ताकि जटिल चुनौतियों से निपटा जा सके और परिचालन (ऑपरेशनल) एवं रणनीतिक जरूरतों को पूरा किया जा सके।”

इसके अलावा अधिकारी ने कहा कि इस प्रशिक्षित बैच के कुछ चुनिंदा अधिकारी आईआईटी-दिल्ली में उच्च डिग्री पाठ्यक्रम से गुजरेंगे। उन्होंने कहा, “ये प्रशिक्षित अधिकारी बल के तकनीकी सलाहकार के रूप में भी काम करेंगे।”

यह भी पढ़ें: आविष्कार करने वाले छात्रों को मिलेगी पेटेंट दायर करने की शिक्षा

आईआईटी-दिल्ली की ओर से प्रशिक्षित सीआरपीएफ के अधिकारी रक्षा और सुरक्षा तकनीकी समाधान के क्षेत्र में रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और आईआईटी-दिल्ली की ओर से किए गए संयुक्त अनुसंधान परियोजनाओं से भी जुड़े होंगे।

एक अन्य अधिकारी के अनुसार, सुरक्षा बल ने अपने मुख्य कार्यो में इन्हें अपनाते हुए नवीनतम तकनीकों के साथ तालमेल बनाए रखने के लिए लगातार प्रयास किए हैं।

उनके अनुसार, यह पहल ‘अपने अधिकारियों के बीच अत्यधिक विशिष्ट प्रौद्योगिकी विशेषज्ञों का एक पूल बनाने’ का प्रयास है।

इसके लिए शनिवार को सीआरपीएफ और आईआईटी-दिल्ली एवं डीआरडीओ के बीच एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए हैं।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
167FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी