Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
व्यक्ति विशेष

दलाई लामा : धार्मिक स्वतंत्रता विचार की स्वतंत्रता ही अभिव्यक्ति है

तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने कहा कि धार्मिक स्वतंत्रता वास्तव में विचार की स्वतंत्रता की अभिव्यक्ति है और उन्होंने लोगों से दयालु, ईमानदार और सच्चे होने का आग्रह किया।

तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा (wikimedia commnos)

तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने कहा कि धार्मिक स्वतंत्रता वास्तव में विचार की स्वतंत्रता की अभिव्यक्ति है और उन्होंने लोगों से दयालु, ईमानदार और सच्चे होने का आग्रह किया। गुरुवार को वाशिंगटन में एक अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता (आईआरएफ) शिखर सम्मेलन के समापन दिवस पर एक वीडियो संदेश में आध्यात्मिक नेता ने कहा, “आस्तिक परंपराएं एक निर्माता में विश्वास करती हैं, जबकि जैन धर्म, बौद्ध धर्म और अन्य जैसी गैर आस्तिक परंपराएं तर्क की एक अलग पंक्ति का पालन करती हैं। “

“आजकल हम धार्मिक विश्वास की संरचना और मूल्यों के पालन के बीच अंतर कर सकते हैं जो धर्म का सार है, ईमानदारी और सौहार्दता। गैर-विश्वासियों को भी ईमानदार और सच्चा होना चाहिए। “


उन्होंने कहा कि ” इन दिनों, मैं इस बात पर जोर देता हूं कि हमें यह समझने की जरूरत है कि पूरे सात अरब मनुष्य (आज जीवित) समान हैं। हमें मानवता की एकता और सम्मान की सराहना करने और एक-दूसरे की मदद करने की जरूरत है। गैर-विश्वासियों को भी ये दृष्टिकोण प्रासंगिक लगेगा।”

तीन दिवसीय आईआरएफ शिखर सम्मेलन, जो गुरुवार को संपन्न हुआ, उसने दुनिया भर में धार्मिक उत्पीड़न को संबोधित किया, जिसमें चीन के झिंजियांग उइघुर स्वायत्त क्षेत्र में मुस्लिम उइगरों को लक्षित करने पर ध्यान केंद्रित किया गया।

आध्यात्मिक नेता दलाई लामा (Wikimedia Commons)

दलाई लामा ने कहा, “हम इंसानों में, जानवरों के विपरीत, बहुत तेज बुद्धि है। हमारे पास भविष्य की कल्पना करने की क्षमता भी है। यही वह संदर्भ है जिसमें हमारी विभिन्न धार्मिक परंपराएं विकसित हुईं। इसलिए, धार्मिक स्वतंत्रता वास्तव में एक अभिव्यक्ति है विचार की स्वतंत्रता की।”

“हमारी विभिन्न धार्मिक परंपराओं में अलग-अलग दर्शन और अलग-अलग प्रथाएं हैं, लेकिन सभी एक ही संदेश देते है, प्रेम, क्षमा, संतोष और आत्म-अनुशासन का संदेश। यहां तक कि विश्वास नहीं करने वालों के लिए भी, ये गुण, संतोष, आत्म अनुशासन और अपने से ज्यादा दूसरों के बारे में सोचना बहुत प्रासंगिक हैं।”

नोबेल शांति पुरस्कार विजेता ने कहा, “अतीत में, और दुर्भाग्य से आज भी, धर्मों को राजनीतिक कारणों से, या सत्ता की चिंता के कारण, उनके कुछ अनुयायियों के बीच लड़ाई के लिए प्रेरित किया गया है। हमें इस तरह के विचारों को अतीत में छोड़ देना चाहिए।”

बौद्ध भिक्षु, जिन्होंने अपने कई समर्थकों के साथ हिमालय की मातृभूमि से भागकर,भारत में तब शरण ली, जब चीनी सैनिकों ने 1949 में ल्हासा में प्रवेश किया और ल्हासा पर नियंत्रण कर लिया था, बौद्ध शिक्षाओं को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में लाने वाला प्रमुख आध्यात्मिक व्यक्ति हैं।

यह भी पढ़े : धर्म और विज्ञान का सत्ता संघर्ष है ‘प्रमेय’ .

वह निर्वासन में लगभग 1,40,000 तिब्बतियों के साथ रहते हैं, जिनमें से 1,00,000 से अधिक भारत में हैं। तिब्बत में 60 लाख से अधिक तिब्बती रहते हैं। (आईएएनएस-PS)

Popular

कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। (IANS)

वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बड़े खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को घोषणा की कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ेंगे। उनका ये एलान करोड़ो दिलो को धक्का देने वाला था क्योंकि कोहली को हर कोई कप्तान के रूप में देखना चाहता है । कई दिनों से चल रहे संशय पर विराम लगाते हुए कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। कोहली ने बताया कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 के कप्तानी पद को छोड़ देंगे।

ट्वीट के जरिए उन्होंने इस यात्रा के दौरान उनका साथ देने के लिए सभी का धन्यवाद दिया। कोहली ने बताया कि उन्होंने यह फैसला अपने वर्कलोड को मैनेज करने के लिए लिया है। उनका वर्कलोड बढ़ गया था ।

Keep Reading Show less

मंगल ग्रह की सतह (Wikimedia Commons)

मंगल ग्रह पर घर बनाने का सपना हकीकत में बदल सकता हैं। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आँसुओ की मदद से कंक्रीट जैसी सामग्री बनाई है, जिसकी वजह से यह संभव हो सकता है। मंगल ग्रह पर छोटी सी निर्माण सामग्री लेकर जाना भी काफी महंगा साबित हो सकता है। इसलिए उन संसाधनों का उपयोग करना होगा जो कि साइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के अध्ययन में यह पता लगा है कि मानव रक्त से एक प्रोटीन, मूत्र, पसीने या आँसू से एक यौगिक के साथ संयुक्त, नकली चंद्रमा या मंगल की मिट्टी को एक साथ चिपका सकता है ताकि साधारण कंक्रीट की तुलना में मजबूत सामग्री का उत्पादन किया जा सके, जो अतिरिक्त-स्थलीय वातावरण में निर्माण कार्य के लिए पूरी तरह से अनुकूल हो।

Keep Reading Show less

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (instagram , virat kohali)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का लोहा इन दिनों हर जगह माना जा रहा है । इसी क्रम में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री हाल के दिनों में टेस्ट क्रिकेट के महान समर्थक और प्रमोटर हैं। साथ ही उन्होंने कोहली की तारीफ भी की खेल को प्राथमिकता देते हुए वो वास्तव में टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहते हैं।"
ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने इस बात पर अपनी चिंता व्यक्त की ,कि भविष्य में टेस्ट क्रिकेट कब तक प्राथमिकता में रहेगा। उन्होंने कहा, "चिंता यह है कि यह कब तक जारी रहेगा। उनका यह भी कहना है किइसमें कोई संदेह नहीं है कि जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं और नई पीढ़ी आती है, मेरे जैसे लोगों को जिस तरह टेस्ट क्रिकेट से प्यार है यह कम हो सकता है और यह हमारी पुरानी पीढ़ी के लिए चिंता का विषय है।"

\u0930\u0935\u093f \u0936\u093e\u0938\u094d\u0924\u094d\u0930\u0940 भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और वर्तमान कोच रवि शास्त्री (wikimedia commons)

Keep reading... Show less