Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

कोविड के अलावा दिल्ली को वेक्टर जनित बीमारियों के खिलाफ कमर कसने की जरूरत

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के मेयर जय प्रकाश ने कहा कि 30 मई से वेक्टर जनित बीमारियों की रोकथाम के लिए एक अभियान शुरू किया जाएगा।

डेंगू के 25 मामले कोई बड़ा मुद्दा नहीं है, लेकिन लोगों को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है| (Pixabay)

राष्ट्रीय राजधानी जहां पहले से ही कोविड-19 (Covid-19) महामारी की दूसरी घातक लहर से जूझ रही है, वहीं नागरिक अधिकारियों द्वारा वेक्टर जनित (डेंगू (Dengu), मलेरिया (Malaria) और चिकनगुनिया (Chikungunya) जैसी बीमारी) बीमारियों के खिलाफ कार्रवाई में देरी दिल्ली के लोगों के लिए एक और चुनौती साबित हो सकती है।

दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) के मुताबिक, शहर में अब तक डेंगू के 25 मामले सामने आए हैं, जिनमें फरवरी में डेंगू के 2 मामले, मार्च में 5, अप्रैल में 10 और 22 मई तक 8 मामले दर्ज किए गए हैं।


2013 के बाद से जनवरी-मई की अवधि में राजधानी में डेंगू के मामलों की यह सबसे अधिक संख्या है। नागरिक अधिकारियों ने दावा किया है कि हालांकि राजधानी में इस साल अब तक डेंगू के कारण किसी भी मौत की सूचना नहीं मिली है।

इसी अवधि में डेंगू के अलावा मलेरिया के 8 और चिकनगुनिया के 4 मामले भी दर्ज किए गए हैं। आमतौर पर जुलाई से नवंबर के बीच दिल्ली में वेक्टर जनित बीमारियों के मामले सामने आते हैं। यह अवधि मध्य दिसंबर तक बढ़ भी सकती है।

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) (MCD) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, जनवरी से मई के बीच 2016 में डेंगू के कुल 10 मामले दर्ज किए गए थे, 2017 में 19 मामले, 2018 में 15 मामले, 2019 में 11 और 2020 में 18 मामले दर्ज किए गए थे।

वेक्टर जनित बीमारियों के उभरने के साथ, दिल्ली (Delhi) के नागरिक अधिकारियों (उत्तर, पूर्व और दक्षिण) ने कहा कि उन्होंने डेंगू और ऐसी अन्य बीमारियों के प्रसार के खिलाफ लड़ाई के लिए कमर कस ली है।

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के मेयर जय प्रकाश ने कहा कि 30 मई से वेक्टर जनित बीमारियों की रोकथाम के लिए एक अभियान शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के लार्वा की जांच करने के साथ-साथ नागरिकों को जागरूक करने के लिए घर-घर जाएंगे।

बड़े नालों में फॉगिंग व मच्छर रोधी दवा का छिड़काव किया जाएगा। (Pixabay)

उन्होंने कहा कि दूसरे चरण में जलाशयों में गंबुजिया मछली छोड़ने का कार्य किया जाएगा, ताकि जैविक रूप में मच्छरों के लार्वा को खत्म किया जा सके। तीसरे चरण में बड़े नालों में फॉगिंग व मच्छर रोधी दवा का छिड़काव किया जाएगा।

हालांकि मच्छरों (Mosquitoes) के लार्वा के प्रजनन की जांच के लिए घर-घर जाना इस समय नागरिक कर्मचारियों के लिए आसान नहीं होने वाला है, जब लोग कोविड-19 महामारी के कारण डरे हुए हैं और बाहरी लोगों को प्रवेश की अनुमति नहीं दे रहे हैं।

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के एक वरिष्ठ चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. लल्लन वर्मा ने कहा कि घरों में मच्छरों के लार्वा की जांच करना नागरिक कर्मचारियों के लिए एक बहुत ही चुनौतीपूर्ण काम साबित हो रहा है, क्योंकि स्थिति पिछले साल से बहुत अलग है।

उन्होंने कहा, विभिन्न चुनौतियों के बावजूद, एसडीएमसी के कार्यकर्ता लोगों को जागरूक करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। लेकिन नागरिक प्राधिकरण अकेले वेक्टर जनित बीमारियों को रोकने के लिए सब कुछ नहीं कर सकते हैं, इसलिए इसके लिए लोगों की भागीदारी बहुत महत्वपूर्ण है। लोगों को अपने घरों के अंदर पानी का भंडारण न हो, यह सुनिश्चित करना होगा।

यह भी पढ़ें :- कोरोना से मौत के बाद बॉडी में एक्टिव नहीं रहते वायरस : स्टडी

उन्होंने कहा कि डेंगू के 25 मामले कोई बड़ा मुद्दा नहीं है, लेकिन लोगों को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है और उन्हें खुद को वेक्टर जनित बीमारियों से बचाने के लिए नागरिक अधिकारियों की सलाह का पालन करना चाहिए।

पूर्वी दिल्ली नगर निगम (ईडीएमसी) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, स्वास्थ्य कार्यकर्ता आवासीय कॉलोनियों और नालों में मच्छर रोधी रसायन का छिड़काव कर रहे हैं। स्वास्थ्य कर्मियों की भी कमी है, क्योंकि वही कर्मचारी टीकाकरण और अन्य स्वास्थ्य प्रबंधन कार्य के लिए भी तैनात हैं। (आईएएनएस-SM)

Popular

अमिताभ बच्चन के साथ बातचीत करते हुए, भारत के गोलकीपर पीआर श्रीजेश (IANS)

केबीसी यानि कोन बनेगा करोड़पति भारतीय टेलिविज़न का एक लोकप्रिय धारावाहिक है । यहा पर अक्सर ही कई सेलिब्रिटीज आते रहते है । इसी बीच केबीसी के मंच पर भारत की हॉकी टीम के गोलकीपर पीआर श्रीजेश पहुंचे । केबीसी 13' पर मेजबान अमिताभ बच्चन के साथ बातचीत करते हुए, भारत के गोलकीपर पीआर श्रीजेश 41 साल बाद हॉकी में ओलंपिक पदक जीतने को लेकर बात की। श्रीजेश ने साझा किया कि "हम इस पदक के लिए 41 साल से इंतजार कर रहे थे। साथ उन्होंने ये भी कहा की वो व्यक्तिगत रूप से, मैं 21 साल से हॉकी खेल रहे है। आगे श्रीजेश बोले मैंने साल 2000 में हॉकी खेलना शुरू किया था और तब से, मैं यह सुनकर बड़ा हुआ हूं कि हॉकी में बड़ा मुकाम हासिल किया, हॉकी में 8 गोल्ड मेडल मिले। इसलिए, हमने खेल के पीछे के इतिहास के कारण खेलना शुरू किया था। उसके बाद हॉकी एस्ट्रो टर्फ पर खेली गई, खेल बदल दिया गया और फिर हमारा पतन शुरू हो गया।"

जब अभिनेता अमिताभ बच्चन ने एस्ट्रो टर्फ के बारे में अधिक पूछा, तो उन्होंने खुल के बताया।"इस पर अमिताभ बच्चन ने एस्ट्रो टर्फ पर खेलते समय कठिनाई के स्तर को समझने की कोशिश की। इसे समझाते हुए श्रीजेश कहते हैं कि "हां, बहुत कुछ, क्योंकि एस्ट्रो टर्फ एक कृत्रिम घास है जिसमें हम पानी डालते हैं और खेलते हैं। प्राकृतिक घास पर खेलना खेल शैली से बिल्कुल अलग है। "

इस घास के बारे में आगे कहते हुए श्रीजेश ने यह भी कहा कि "पहले सभी खिलाड़ी केवल घास के मैदान पर खेलते थे, उस पर प्रशिक्षण लेते थे और यहां तक कि घास के मैदान पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी खेलते थे। आजकल यह हो गया है कि बच्चे घास के मैदान पर खेलना शुरू करते हैं और बाद में एस्ट्रो टर्फ पर हॉकी खेलनी पड़ती है। जिसके कारण बहुत समय लगता है। यहा पर एस्ट्रो टर्फ पर खेलने के लिए एक अलग तरह का प्रशिक्षण होता है, साथ ही इस्तेमाल की जाने वाली हॉकी स्टिक भी अलग होती है।" सब कुछ बदल जाता है ।

Keep Reading Show less

कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। (IANS)

वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बड़े खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को घोषणा की कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ेंगे। उनका ये एलान करोड़ो दिलो को धक्का देने वाला था क्योंकि कोहली को हर कोई कप्तान के रूप में देखना चाहता है । कई दिनों से चल रहे संशय पर विराम लगाते हुए कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। कोहली ने बताया कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 के कप्तानी पद को छोड़ देंगे।

ट्वीट के जरिए उन्होंने इस यात्रा के दौरान उनका साथ देने के लिए सभी का धन्यवाद दिया। कोहली ने बताया कि उन्होंने यह फैसला अपने वर्कलोड को मैनेज करने के लिए लिया है। उनका वर्कलोड बढ़ गया था ।

Keep Reading Show less

मंगल ग्रह की सतह (Wikimedia Commons)

मंगल ग्रह पर घर बनाने का सपना हकीकत में बदल सकता हैं। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आँसुओ की मदद से कंक्रीट जैसी सामग्री बनाई है, जिसकी वजह से यह संभव हो सकता है। मंगल ग्रह पर छोटी सी निर्माण सामग्री लेकर जाना भी काफी महंगा साबित हो सकता है। इसलिए उन संसाधनों का उपयोग करना होगा जो कि साइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के अध्ययन में यह पता लगा है कि मानव रक्त से एक प्रोटीन, मूत्र, पसीने या आँसू से एक यौगिक के साथ संयुक्त, नकली चंद्रमा या मंगल की मिट्टी को एक साथ चिपका सकता है ताकि साधारण कंक्रीट की तुलना में मजबूत सामग्री का उत्पादन किया जा सके, जो अतिरिक्त-स्थलीय वातावरण में निर्माण कार्य के लिए पूरी तरह से अनुकूल हो।

Keep reading... Show less