Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
राजनीति

रिकॉर्ड मतों से लोकसभा चुनाव जीतने वाले रामविलास की राजनीति में थी अलग पहचान

केंद्रीय मंत्री और बिहार के कद्दावर नेता राम विलास पासवान का गुरुवार को निधन हो गया। बिहार से कई मौकों पर सांसद सदस्य रहे पासवान 74 साल के थे और काफी समय से बीमार चल रहे थे।

दिवंगत केंद्रीय मंत्री और बिहार के कद्दावर नेता राम विलास पासवान। (Facebook)

By: मनोज पाठक

बिहार में दलित राजनीति का सिरमौर बने रामविलास पासवान गुरुवार को ऐसे सफर पर निकल गए, जहां से लोग फिर कभी नहीं लौटते। रामविलास अनंत सफर पर भले ही निकल गए हों, लेकिन राजनीति में उनकी कमी कोई पूरी नहीं कर सकेगा।


सत्ता पक्ष रहा हो या विपक्ष सभी के लिए सर्वसुलभ और सभी नेताओं की इज्जत करने वाले रामविलास के जाने के बाद सभी राजनीतिक दलों के नेता उनके निधन पर मर्माहत हैं।

यह भी पढ़ें: विपक्ष के लिए राजनीति दुकानदारी है : योगी आदित्यनाथ

दलितों की राजनीति के लिए अपनी पहचान बना चुके रामविलास का जन्म बिहार के खगड़िया जिले के शाहरबन्नी गांव में 5 जुलाई 1946 को हुआ था। रामविलास पासवान का राजनीतिक सफर 1969 में तब शुरू हुआ था, जब वे संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के टिकट पर चुनाव जीतकर बिहार विधानसभा के सदस्य बने थे। पासवान राजनीति में आने से पहले बिहार प्रशासनिक सेवा में अधिकारी थे।

पासवान ने आपातकाल का पूरा दौर जेल में गुजारा। आपातकाल के बाद पासवान जनता दल में शामिल हो गए। जनता दल के ही टिकट पर उन्होंने हाजीपुर संसदीय सीट से 1977 के आम चुनाव में 4 लाख से अधिक मतों से जीत हासिल की, जो इतिहास में दर्ज हो गई। रिकॉर्ड अंतर से यह चुनाव जीतकर वो देशभर में चर्चित हो गए।

समाजवादी नेताओं में शुमार वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी कहते हैं कि रामविलास पासवान किसी भी गठबंधन में रहे हों, लेकिन वे किसी से व्यक्तिगत तौर पर वैर भाव नहीं रखते थे।

उन्होंने अपने संस्मरणों की बात करते हुए कहा कि अपने घर की एक शादी में उन्हें गलती से निमंत्रण नहीं भेजा था, जब उन्हें इसकी खबर लगी तो वे बिना इंतजार किए हमारे दरवाजे पर पहुंच गए और शिकायत करते हुए कहा कि आपने क्यों नहीं बुलाया। तिवारी ने कहा कि उस वक्त हम दोनों अलग-अलग पार्टियों में थे।

वर्ष 1977 की रिकॉर्ड जीत के बाद रामविलास पासवान को 1980 और 1989 के लोकसभा चुनाव में जीत मिली और फिर वे केंद्र सरकार में मंत्री बन गए। कई सालों तक विभिन्न सरकारों में पासवान ने रेल से लेकर दूरसंचार और कोयला मंत्रालय तक की जिम्मेदारी संभाली।

दिवंगत केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान। (Wikimedia Commons)

इस बीच, वे भाजपा, कांग्रेस, राजद और जदयू के साथ कई गठबंधनों में रहे और केंद्र सरकार में मंत्री बने रहे। पासवान नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली दोनों सरकारों में खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्री रहे।

रामविलास पासवान गोधरा दंगों के बाद तत्कालीन अटल बिहारी वाजपेयी वाली सरकार में मंत्री पद से इस्तीफा देकर राजग से नाता तोड़ लिया था। इसके बाद पासवान कांग्रेस की नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) में शामिल हुए और मनमोहन सिंह कैबिनेट में दो बार मंत्री रहे। 2014 में पासवान एक बार फिर संप्रग का साथ छोड़कर राजग में शामिल हो गए।

छह प्रधानमंत्रियों के साथ काम कर अनूठा रिकार्ड बनाने वाले रामविलास को मजाकिया लहजे में राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने एक बार राजनीति का ‘मौसम वैज्ञानिक’ बताया था, बाद में वो इस नाम से चर्चित हो गए।

यह भी पढ़ें: कैबिनेट बैठकों में पासवान का हस्तक्षेप बहुत व्यावहारिक होता था: मोदी

लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) की स्थापना करने वाले रामविलास ने जयप्रकाश आंदेलन में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था। उनको जानने वाले कहते हैं कि उन्होंने राजनीति ही समाज में अंतिम व्यक्ति तक सुविधा पहुंचाने के लिए प्रारंभ की थी। वे किसी को गरीबी में देखकर भावुक हो जाते थे।

जदयू के प्रदेश अध्यक्ष और रामविलास के साथ 45 सालों से जुड़े रहने वाले वशिष्ठ नारायण सिंह बताते हैं कि जेपी आंदोलन में वे दोनों पटना के फुलवारी जेल में साथ रहे थे। उन्होंने कहा यह भावुक क्षण है। उनकी स्मृतियां अब दिखाई पड़ रही हैं। वे बताते हैं, राज्यसभा में भी वे कभी दिखाई पड़ जाते थे तो बिना हाल-चाल जाने गुजरते नहीं थे।(आईएएनएस)

Popular

गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।(wikimedia commons)

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में कई प्रतिभाशाली लोगों को पुरस्कारों से नवाजा गया एसे में बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है। उन्होंने और भी विजेताओं के साथ इस पल को साझा किया है ये उनके लिए खास पल रहा। गायक ने अपनी बड़ी जीत के बारे में कहा, "यह साल बहुत अच्छा रहा है। लेकिन सबसे ज्यादा यह पुरस्कार जीतने का पल खास हैं। मैं बहुत खुश हूं। मुझे लगता है कि मैं बहुत खुशनसीब हूं कि हमने एक टीम के साथ ऐसा गीत बनाया जो हमारे राष्ट्र के लिए गौरव के साथ गूंजता है।"

साथ हि वह कहते हैं कि इस पल को वह कभी नहीं भूलेंगे। "आज का दिन मेरे करियर के लिए अनमोल दिन है उन्होंने कहा। हर कलाकार चाहता है कि उसकी सराहना की जाए और राष्ट्रीय पुरस्कार से बड़ा सम्मान कोई नहीं हो सकता।"

 \u092b\u093f\u0932\u094d\u092e \u0915\u0947\u0938\u0930\u0940 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था(wikimedia commons)

Keep Reading Show less

वैश्विक डिजिटल सुरक्षा कंपनी नॉर्टनलाइफ लॉक की तरफ से जारी की गई है रिपोर्ट (Wikimedia Commons)

वैश्विक डिजिटल सुरक्षा कंपनी नॉर्टनलाइफ लॉक की तरफ से एक रिपोर्ट पेश करी गई है जिसमें कई अहम दावे किए गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि अकेले भारत में पिछले एक तिमाही में औसतन 187,118 ब्लॉक प्रतिदिन 17,214,900 से अधिक साइबर सुरक्षा खतरों को सफलतापूर्वक रोका गया।

इसके अलावा रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि तकनीकी सहायता (technical support) के घोटाले की प्रभावशीलता महामारी के दौरान बढ़ गई है, क्योंकि उपभोक्ताओं की हाइब्रिड वर्क शेड्यूल और पारिवारिक गतिविधियों को प्रबंधित करने के लिए अपने उपकरणों पर निर्भरता बढ़ गई है। साथ ही साथ रिपोर्ट में यह भी सचेत किया गया है कि आगामी छुट्टियों के मौसम के साथ-साथ खरीदारी और चैरिटी से संबंधित फिशिंग हमलों में तकनीकी सहायता घोटाले बढ़ने का अंदेशा है।

Keep Reading Show less

डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म फोनपे पर रिचार्ज करने के लिए उपयोगकर्ताओं को देने होंगे शुल्क।(Wikimedia Commons)

भारत के टॉप डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म फोनपे(PhonePe) ने अपनी एक घोषणा में कहा , "मोबाइल रिचार्ज के लिए फोनपे एक प्रयोग चला रहा है, जहां उपयोगकर्ताओं के एक छोटे से वर्ग से 51-100 रुपये के रिचार्ज के लिए 1 रुपये और 100 रुपये से अधिक के रिचार्ज के लिए 2 रुपये का प्रोसेसिंग शुल्क लिया जा रहा है।"

हालांकि , कंपनी ने यह स्पष्ट किया कि उसके पेमेंट ऐप(PhonePe) पर सभी यूपीआई मनी ट्रांसफर, ऑफलाइन और ऑनलाइन भुगतान (यूपीआई, वॉलेट, क्रेडिट और डेबिट कार्ड पर) सभी उपयोगकर्ताओं के लिए मुफ्त हैं और वे जारी रहेंगे। कंपनी ने कहा कि फोनपे इन लेनदेन के लिए कोई शुल्क नहीं लेता है, और भविष्य में भी ऐसा नहीं करेगा।

Keep reading... Show less