Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

दिल्ली के बाहर से ट्रकों और अन्य वाहनों का प्रवेश वर्जित : राय

दिल्ली की वायु गुणवत्ता को नियंत्रण में रखने के लिए 27 नवंबर से तीन दिसंबर तक सभी पेट्रोल और डीजल वाहनों पर प्रतिबंध रहेगा और केवल सीएनजी से चलने वाले और इलेक्ट्रिक वाहनों को ही शहर में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी।

दिल्ली में 27 नवंबर से तीन दिसंबर तक सभी पेट्रोल और डीजल वाहनों पर प्रतिबंध रहेगा। [Wikimedia Commons]

दिल्ली (Delhi) की वायु गुणवत्ता को नियंत्रण में रखने के लिए 27 नवंबर से तीन दिसंबर तक सभी पेट्रोल और डीजल वाहनों पर प्रतिबंध रहेगा और केवल सीएनजी से चलने वाले और इलेक्ट्रिक वाहनों को ही शहर में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने एक उच्च स्तरीय बैठक के बाद एक प्रेस वार्ता में कहा, "दिल्ली में प्रदूषण का स्तर कम हो रहा है, जिससे दिवाली से पहले के दिनों की तरह वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) में सुधार हुआ है। दिल्ली सरकार ने इसे बनाए रखने के लिए कई उपाय किए हैं। दिल्ली के बाहर से आवश्यक सेवाओं में शामिल लोगों को छोड़कर ट्रकों और अन्य वाहनों का प्रवेश रोक दिया गया है।"

उन्होंने कहा, "27 नवंबर से, केवल सीएनजी से चलने वाले और इलेक्ट्रिक वाहनों को राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश की अनुमति होगी। अन्य सभी वाहनों पर 3 दिसंबर तक प्रतिबंध रहेगा।"

दिल्ली (Delhi) की हवा को स्वच्छ रखने के लिए आवश्यक उपायों पर निर्णय लेने के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक के बाद यह फैसला लिया गया है।

उन्होंने कहा, "स्कूल, कॉलेज, पुस्तकालय और अन्य शैक्षणिक संस्थान भी 29 नवंबर से फिर से खोल दिए जाएंगे।"


मंत्री ने यह भी कहा कि सरकारी कार्यालय भी सोमवार से फिर से खुलेंगे और सभी को परिवहन के सार्वजनिक साधन का उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

राय ने मीडिया से कहा, "हमने तिमारपुर और गुलाबी बाग जैसी प्रमुख कॉलोनियों के लिए विशेष सीएनजी बसें तैनात करने का भी फैसला किया है, जहां से दिल्ली सरकार के कर्मचारी कार्यालय के लिए आते हैं। हम कर्मचारियों के लिए दिल्ली सचिवालय से आईटीओ और इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशनों के लिए शटल बस सेवा भी शुरू करेंगे।"

मंत्री ने कहा, "हाल ही में दिल्ली सरकार ने निर्माण और विध्वंस गतिविधियों से प्रतिबंध हटा दिया था। सभी निर्माण एजेंसियों को भी 14 बिंदु-दिशानिर्देशों का पालन करने की सलाह दी गई है। हमने धूल प्रदूषण को रोकने के लिए ऐसी साइटों पर जांच रखने के लिए 585 टीमों को तैनात किया है। मानदंडों का उल्लंघन करने वालों को दंडित किया जाएगा और बिना किसी नोटिस के सख्त कार्रवाई की जाएगी।"

दिल्ली सरकार ने सोमवार को राष्ट्रीय राजधानी की वायु गुणवत्ता में मामूली सुधार के बाद निर्माण गतिविधियों पर से प्रतिबंध हटा लिया है।

बता दें कि 21 नवंबर को, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और आसपास के क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग के अगले आदेश तक, राष्ट्रीय राजधानी (Delhi) के सभी स्कूलों को शहर में वायु प्रदूषण के बढ़ते स्तर के कारण बंद कर दिया गया था।

दिवाली के बाद से राष्ट्रीय राजधानी का एक्यूआई 'बहुत खराब' या 'गंभीर' श्रेणी के आसपास मंडराता रहा। राज्य सरकार द्वारा हवा की दिशा में बदलाव, पराली जलाने और पटाखे फोड़ने को हवा की गुणवत्ता खराब होने का कारण बताया गया था।

यह भी पढ़ें : गलवान के बलवान संतोष बाबू महावीर चक्र से सम्मानित

सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) द्वारा बुधवार के एक्यूआई को 280 दर्ज किए जाने के साथ रविवार को शहर में तेज हवाएं चलने के बाद दिल्ली में हवा की गुणवत्ता में कुछ सुधार हुआ है। (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

अश्वगंधा के पत्तों पर जांच करेगा आयुष मंत्रालय(Twitter)

अपको याद होगा आयुष मंत्रालय(ayush ministry) ने पहले एएसयू(AASU) दवा निमार्ताओं को अश्वगंधा (विथानिया सोम्निफेरा) के पत्तों के उपयोग से परहेज करने का निर्देश दिया था और कहा था कि कच्ची दवा या अश्वगंधा(ashwagandha) के अर्क की प्रभावकारिता का समर्थन करने के लिए कोई पर्याप्त सबूत और साहित्य उपलब्ध नहीं है। लेकिन अब फिर से आयुष मंत्रालय ने आयुर्वेद, सिद्ध और यूनानी (एएसयू) दवाओं में अश्वगंधा-विथानिया सोम्निफेरा-पत्तियों के उपयोग से संबंधित मामले की फिर से जांच कराने का फैसला किया है।

मंत्रालय(ayush ministry) ने सभी एएसयू ड्रग मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशनों को एक एडवाइजरी भी जारी की, जिसमें क्रूड ड्रग/एक्सट्रैक्ट्स, सेलर्स, एएसयू ड्रग मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों, एएसयू ड्रग एक्सपोर्टर्स के निमार्ताओं से विथानिया सोम्निफेरा के पत्तों का इस्तेमाल क्रूड या एक्सट्रैक्ट या चिकित्सीय उद्देश्यों के लिए किसी अन्य रूप में नहीं करने की मांग की गई।

Keep Reading Show less

बिहार के 11 जिलों में 60 फीसदी से ज्यादा लोग है गरीब! सांकेतिक चित्र, (Wikimedia Commons)

नीति आयोग के बहुआयामी गरीबी सूचकांक(Multidimensional Poverty Index) की ताजा रिपोर्ट जारी कर दी है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार(Bihar) के पांच जिलों में 60 फीसदी लोग अमीर वर्ग के हैं, जबकि 11 जिलों में 60 फीसदी से ज्यादा लोग गरीब वर्ग के हैं। नीति आयोग की रिपोर्ट से पता चला है कि बिहार के 38 जिलों में से किशनगंज सबसे गरीब जिला है।

रिपोर्ट की माने तो, सीमांचल क्षेत्र के अल्पसंख्यक बहुल किशनगंज जिले में गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) रहने वाले 64.75 प्रतिशत लोग हैं, इसके बाद अररिया (64.65 प्रतिशत), मधेपुरा जिला (64.43 प्रतिशत), पूर्वी चंपारण (64.13 प्रतिशत), सुपौल (64.10 प्रतिशत), जमुई (64.01 प्रतिशत), सीतामढ़ी (63.46 प्रतिशत), पूर्णिया (63.29 प्रतिशत), कटिहार (62.80 प्रतिशत), सहरसा (61.48 प्रतिशत) और शिवहर (60.30 प्रतिशत) से हैं। इस बीच, जिन जिलों में 50 फीसदी लोग गरीब श्रेणी में आते हैं, उनमें मुंगेर (40.99 फीसदी), रोहतास (40.75 फीसदी), सीवान (40.55 फीसदी) और भोजपुर (40.50 फीसदी) शामिल हैं।

Keep Reading Show less

26/11 आतंकी हमले की तस्वीर (Twitter)

मुंबई में हुए 26/11 हमले को एक दशक बीत चुका है। लेकिन जैसे जैसे समय आगे बढ़ रहा है उसी तरीके 26/11 हमले के समय होने वाली घटना भी उजागर हो रही है। इसी तरह अबकी बार एक ऐसा खुलासा किया गया है जो तात्कालिक मनमोहन सिंह सरकार पर कई प्रश्न खड़े कर रहा है? यह खुलासा आर.एस.एन. सिंह द्वारा किया गया है। सिंह एक पूर्व सैन्य खुफिया अधिकारी हैं, जिन्होंने बाद में रिसर्च एंड एनालिसिस विंग में काम किया।

आर.एस.एन.सिंह ने भारतीय रक्षा समीक्षा के लेख में लिखा है लश्कर-ए-तैयबा ने जब 26/11 को मुंबई पर हमला किया, उस समय तत्कालीन केंद्रीय गृह सचिव मधुकर गुप्ता के नेतृत्व में भारत के गृह मंत्रालय और अन्य सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारियों की नौ सदस्यीय उच्चस्तरीय टीम पाकिस्तान के मुरी में थी। टीम 24 नवंबर, 2008 को इस्लामाबाद पहुंची थी और उसे दो दिन बाद, यानी 26 नवंबर को वापस लौटना था। गुप्त रूप से, आतिथ्य को और एक दिन के लिए बढ़ा दिया गया था। इसमें इस्लामाबाद से 60 किमी उत्तर पूर्व में एक हिल स्टेशन मुरी के स्वास्थ्यप्रद वातावरण में एक रात का प्रवास शामिल था। सिंह ने लिखा कि पाकिस्तानी अधिकारियों ने यह सुनिश्चित किया कि मुंबई पर हमले के समय भारत की टीम उस गुप्त स्थान पर रहे।

Keep reading... Show less