Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

डॉ मुनीश रायजादा ने फिर मांगा केजरीवाल से चंदे का हिसाब ​

डॉ मुनीश रायजादा जोकि आप के एनआरआई सेल के पूर्व पूर्व सह-संयोजक हैं ने पिछले दिनों चंडीगढ़ और जालंधर में प्रेस कांफ्रेंस कर केजरीवाल से एक दफा फिर चंदे का हिसाब मांगा।

डॉ मुनीश रायजादा ने फिर मांगा केजरीवाल से चंदे का हिसाब। (Transparency Web Series)

हमारे देश के राजनैतिक इतिहास में जब भी कोई बड़ा आंदोलन हुआ है उसमे कोई न कोई बड़ा राजनेता उभर कर आया ही है। अब चाहे वो 1975 के जेपी आंदोलन के वक्त लालू प्रसाद यादव हो या फिर 2011 के अन्ना आंदोलन के समय अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal)। खैर अब लालू यादव राजनैतिक तौर पर ज़्यादा सक्रीय नहीं हैं पर अरविंद केजरीवाल दिल्ली की सियासत में अब अपनी एक अलग पहचान बना चुके हैं और अब वे अपने पैर दिल्ली के बाहर जमाने के लिए प्रयास कर रहे है।

2011 में अन्ना आंदोलन(Anna Andolan) के बाद सुर्ख़ियों में आए अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी(Aam Aadmi Party) नाम से पार्टी बनाकर दिल्ली की सियासत में कदम रखा। आम आदमी पार्टी बनाने का मकसद साफ़ था आम आदमी के लिए काम करने वाली पार्टी। केजरीवाल ने जब पार्टी बनाई थी तो उन्होंने बताया था की यह पार्टी सिर्फ चंदे पर चलेगी और वे चंदे का सारा रिकॉर्ड अपनी पार्टी की वेबसाइट पर अपलोड करेंगे। केजरीवाल जब 2015 में प्रचंड बहुमत के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री बने तो उन्होंने सारा रिकॉर्ड अपनी वेबसाइट से हटा लिया।


केजरीवाल ने चुनाव के वक्त बड़े-बड़े वादे किये थे की वे दिल्ली की सड़कों को लंदन की तरह बना देंगे, सबको बिजली-पानी मुफ्त में मिलेगी लेकिन आज दिल्ली की हालत सुधरने के बजाय बत से बदतर हो गई है। सड़कों पर कूड़े का अंबार रहता है और पानी तो नहाने लायक तक नहीं आता पीना तो दूर की बात है। केजरीवाल भले ही टीवी पर बड़े-बड़े विज्ञापन चलाकर झूठे दावे कर लें लेकिन असलियत में उनके सारे दावे झूठे हैं।

केजरीवाल की इसी वादाखिलाफी को देखते हुए जो बड़े नाम शुरुआत में आप के साथ थे जैसे कुमार विश्वास, शाज़िया इल्मी, प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव जैसे लोग अब आप से अलग हो चुके हैं और अपने-अपने स्तर पर केजरीवाल से आम आदमी के सवालों का जवाब मांग रहे हैं।

इन्ही में से एक हैं डॉ मुनीश रायजादा(Dr Munish Raizada) । डॉ मुनीश रायजादा (शिकागो, यूएसए) आप के एनआरआई सेल के पूर्व सह-संयोजक,पारदर्शिता निदेशक। परदर्शिता एक 7-एपिसोड की वेब श्रृंखला है जो आप की अनकही कहानियों पर आधारित है (अब यूएसए में अमेज़न प्राइम पर उपलब्ध है)।रायजादा चंदा बंद सत्याग्रह के संयोजक भी हैं, जो आप द्वारा दानदाताओं की सूची को छिपाने के खिलाफ लड़ाई है।

डॉ रायजादा ने हाल ही में चंदे का हिसाब मांगते हुए बीते 2 और 3 जनवरी को चंडीगढ़ और जालंधर में प्रेस कांफ्रेंस की थी। डॉ रायजादा ने इस मौके पर उन्होंने प्रसिद्ध बॉलीवुड गायक उदित नारायण द्वारा कितना चंदा जेब में आया गाना लांच किया जोकि ट्रांसपेरेंसी: परदर्शिता वेबसीरीज का ही हिस्सा है।

अरविंद केजरीवाल द्वारा किये गए छलावे का संक्षिप्त विवरण Transparency: पारदर्शिता वेब सीरीज में दिखता है जिसे स्वयं डॉ रायजादा ने निर्देशित और निर्मित किया है।

Arvind Kejriwal Exposed By Udit Narayan | उदित नारायण केजरीवाल से, कितना चंदा जेब में आया? youtu.be

Q.1 Transparency: पारदर्शिता है क्या?

Ans. यह एक राजनीतिक थ्रिलर वेब सीरीज है, जिसे डॉ मुनीश रायजादा द्वारा निर्मित और निर्देशित किया गया है। यह वेब सीरीज "चंदे की पारदर्शिता" के लिए एक आम - आदमी द्वारा किए गए संघर्ष को उजागर करती है।

Q. 2 क्या आप किसी पार्टी से संबंधित हैं?

Ans. हमनें AAP को देश में बदलाव लाने, स्वराज की स्थापना और भ्रष्टाचार के खात्मे की उम्मीद से पार्टी को समर्थन दिया था। AAP का मूल सिद्धांत था "चंदे की पारदर्शिता" लेकिन आज वो खत्म हो चुका है और आज हम उन्हीं के बनाए सिद्धांत एक बार फिर उन्हें याद दिलाना चाहते हैं।

Q.3 चंदा बंद सत्याग्रह क्या है?

Ans. चंदा बंद सत्याग्रह, डॉ. मुनीश रायजादा (Dr. Munish Raizada) द्वारा आम आदमी पार्टी की "फंडिंग को पारदर्शी" किए जाने और "चंदे की पारदर्शिता" को बनाए रखने के लिए शुरू किया गया था और यह आज भी जारी है।

हमारी यह लड़ाई सैद्धांतिक है। आम जनता ने जो चंदा पार्टी को दिया, हमें केवल उसका हिसाब चाहिए। AAP पार्टी एक बुनियादी सिद्धांत 'वित्तीय पारदर्शिता' के साथ सत्ता में आई थी। पार्टी का दावा था कि वह जनता के प्रति जवाबदेह होगी। फिर आज पार्टी हमें जवाब क्यों नहीं देती है? सत्ता के लालच में आज वह जानता से किए वादों को भूल बैठे हैं लेकिन हम आज भी उन्हीं सिद्धांतों पर अडिग हैं और "चंदे" का हिसाब पार्टी से मांगते हैं।

यह भी पढ़ें- साल्हेर की लड़ाई- छत्रपति शिवाजी महाराज की वीरगाथा

हमारा केवल एक सवाल: कितना चंदा जेब में आया, कितना बाँटा कितना खाया?न्यूज़ग्राम के साथ

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!



केजरीवाल-सिसोदिया पर 500 करोड़ रिश्वतखोरी का आरोप! Kumar Vishwas on Arvind Kejriwal | NewsGram youtu.be



Popular

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep Reading Show less

गूगल लॉन्च कर सकता है नया फोल्डेबल फोन जिसको कह सकते है "पिक्सल नोटपैड" (Pixabay)

सर्च ईंजन गूगल अपने पहले फ़ोल्डबल फ़ोन 'पिक्सल फोल्ड' को लॉन्च करने की योजना बना रही है। गूगल ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि इस फोल्डेबल फोन को पिक्सल नोटपैड कहा जा सकता है।
गिज्मोचाइना के रिपोर्ट के अनुसार, सिम सेटअप स्क्रीन के एनिमेशन में एक स्मार्टफोन दिखाया गया है जिसमें एक साधारण सिंगल-स्क्रीन डिजाइन नही बल्कि एक बड़ा फोल्डेबल डिस्प्ले है।

नाइन टू फाइव गूगल के अनुसार, यह डिवाइस गैलेक्सी जेड फोल्ड 3 से कम कीमत की हो सकती है। इस फोल्डेबल डिवाइस की कीमत 1,799 डॉलर हो सकती है।

Keep reading... Show less