Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
शिक्षा
देश

एक तिहाई से अधिक बच्चों के पास नहीं है इंटरनेट की सुविधा!

शुक्रवार को लिरनेशिया की नई रिपोर्ट से पता चला है कि लॉकडाउन के दौरान भारत में एक तिहाई से अधिक बच्चों की इंटरनेट तक पहुंच नहीं थी।

रिपोर्ट के अनुसार, पिछले चार वर्षों में इंटरनेट का उपयोग दोगुना से अधिक हो गया है (WIKIMEDIA COMMONS)

पिछले साल कोविड प्रेरित लॉकडाउन के दौरान, स्कूलों ने बच्चों को संक्रामक बीमारी से बचाने और उनके पाठों के सुचारू प्रवाह को बनाए रखने के लिए अपनी कक्षाओं को ऑनलाइन स्थानांतरित कर दिया था। लेकिन शुक्रवार को एक रिपोर्ट आई है जो सरकार एवं समाज से कई प्रश्न करती है? दरअसल रिपोर्ट से पता चला है कि उस अवधि के दौरान भारत में एक तिहाई से अधिक बच्चों की इंटरनेट तक पहुंच नहीं थी। अब आप लोग यह सोचिए जबकि किसी वस्तु का माध्यम ही नहीं होगा तो वह वस्तु का प्रवाह कैसे संभव होगा? अर्थात बिना इंटरनेट के ऑनलाइन शिक्षण कार्य कैसे हो सकता है?

डिजिटल नीति के मुद्दों पर काम करने वाले एक क्षेत्रीय थिंक टैंक, लिरनेशिया की रिपोर्ट के अनुसार एक आर्थिक नीति थिंक टैंक, आईसीआरआईईआर के साथ साझेदारी में ने दिखाया कि नामांकित स्कूली बच्चों वाले सभी परिवारों में से 64 प्रतिशत के पास इंटरनेट का उपयोग था जबकि शेष 36 प्रतिशत के पास इंटरनेट की पहुंच नहीं थी। बता दें, शोध में 350 गांवों और वार्डो सहित पूरे भारत में 7,000 घरों का एक सर्वेक्षण शामिल था।



education, internet 36 प्रतिशत के पास नहीं थी इंटरनेट की पहुंच (Wikimedia commons)


इंटरनेट वाले परिवारों में, 31 प्रतिशत बच्चों के किसी न किसी प्रकार की दूरस्थ शिक्षा प्राप्त करने की संभावना थी, जबकि इंटरनेट के बिना केवल 8 प्रतिशत परिवारों ने कहा कि उन्हें किसी प्रकार की दूरस्थ शिक्षा प्राप्त हुई है। उसी समय, लिरनेशिया द्वारा किए गए एक हालिया राष्ट्रीय सर्वेक्षण से पता चला है कि पिछले चार वर्षों में इंटरनेट का उपयोग दोगुना से अधिक हो गया है और यह कि कोविड से संबंधित लॉकडाउन ने कनेक्टिविटी की बढ़ती मांग में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

15-65 आयु वर्ग की आबादी में, 49 प्रतिशत ने कहा कि उन्होंने इंटरनेट का उपयोग किया था, जबकि 15-65 आयु वर्ग की आबादी के केवल 19 प्रतिशत ने 2017 के अंत में इसका दावा किया था। इससे पता चला कि 2020 और 2021 में 130 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ता ऑनलाइन आए। 2020 में इंटरनेट का उपयोग शुरू करने वाले लगभग 80 मिलियन में से 43 प्रतिशत या 34 मिलियन से अधिक ने कहा कि उन्होंने कोविड संकट के कारण ऐसा करना शुरू कर दिया।

यह भी पढ़े - देव दीपावली में 5 लाख दीयो से प्रकाशित होगी प्रयाग नगरी

लिरनेशिया के सीईओ हेलानी गलपया ने एक बयान में कहा, "अगर हम केवल लोगों के जुड़ने के बारे में सोचते हैं, तो भारत बहुत प्रगति कर रहा है। लेकिन 'डिजिटल इंडिया' के वास्तविक लाभ लोगों तक पहुंचने से पहले व्यवस्थित और संरचनात्मक बदलाव की जरूरत है।

input : आईएएनएस ; Edited by Lakshya Gupta

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

आईआईएम अहमदाबाद कॉरपोरेट्स के लिए भगवद गीता पर पाठ्यक्रम शुरू करने के लिए तैयार [Wikimedia Commons]

भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM) अहमदाबाद कॉर्पोरेट पेशेवरों के लिए प्रबंधन पाठ पढ़ाने के लिए भगवद् गीता पर एक पाठ्यक्रम शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार है ।

यह कार्यक्रम 13 दिसंबर से शुरू हो रहा है। इसमें गीता से 'समकालीन प्रबंधन अवधारणाओं, संघर्षों, दुविधाओं और व्यापार में उतार-चढ़ाव का पता लगाने' के पाठ और अध्याय शामिल होंगे।

Keep Reading Show less

छात्रों की मानसिक सामाजिक चिंताओं को दूर करेगी एनसीईआरटी (Wikimedia commons)

कोरोना महामारी के कारण स्कूल लंबे समय से बंद थे लेकिन अब देश में विभिन्न राज्यों ने स्कूल खोलना शुरू कर दिया है। ऐसे में एनसीईआरटी का कहना है हम चाहते हैं कि कोविड से निपटने में मदद छात्रों की मदद करें। छात्र सुरक्षित रहें और विशेषज्ञों के साथ निशुल्क में लाइव बातचीत करें और देखें। एनसीईआरटी के आधिकारिक यूट्यूब चैनल और पीएम ई विद्या डीटीएच टीवी चैनल से कक्षा 6 और 11 के छात्र जुड़ सकते हैं। छात्र यहां अपनी मानसिक सामाजिक चिंताओं का समाधान हासिल कर सकते हैं। इसके लिए एक टोल फ्री नंबरों 8800440559, 8448440632 जारी किया गया है जिसके द्वारा छात्र विशेषज्ञों से बातचीत कर सकते हैं।

एनसीईआरटी ने आधिकारिक जानकारी देते हुए कहा कि प्रत्येक शुक्रवार को विशेषज्ञों के साथ लाइव चर्चा की जा सकती है। अपको बता की दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण यानी डीडीएमए ने दिल्ली के स्कूलों को 50 फीसदी क्षमता के साथ कक्षाएं शुरू करने की इजाजत दे दी है। यह अनुमति सभी कक्षाओं के लिए है। हालांकि इस दौरान स्कूलों को कोरोना से बचाओ हेतु तय किए गए सभी प्रोटोकॉल लागू करने होंगे।

Keep Reading Show less

दिल्ली सरकार द्वारा वित्त पोषित कॉलेजों में फिर शिक्षकों के वेतन का संकट। (Wikimedia Commons)

दिल्ली सरकार द्वारा 100 प्रतिशत सहायता प्राप्त कॉलेजों में अनुदान के संबंध में बार-बार देरी हो रही है। इस कारण कर्मचारियों को कई महीने से वेतन नहीं मिल रहा है। डूटा का कहना है कि बार-बार अनुदान रोकना और वेतन में देरी शिक्षकों पर अन्यायपूर्ण और क्रूर हमला है। दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षक अनुदान में देरी को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने मार्च 2021 में प्रधानाध्यापकों को दिए 28 करोड़ रुपये जारी करने का अपना वादा भी पूरा नहीं किया है। इससे शिक्षकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। त्योहारों का मौसम नजदीक है लेकिन कर्मचारियों को अपनी दिन-प्रतिदिन की जरूरतों को पूरा करना भी मुश्किल हो गया है, डूटा अध्यक्ष राजीव रे ने कहा।

Keep reading... Show less