Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

किसान नेताओं ने स्थगित किया किसान आंदोलन, 11 दिसंबर से घर वापसी

प्रधानमंत्री के ऐलान और संसद में कृषि कानून वापस होने का बिल पास होने के बाद अब किसान नेताओं ने आंदोलन स्थगित करने का फैसला किया है।

केंद्र सरकार से सहमति के बाद भारतीय किसान यूनियन ने किसान आंदोलन वापसी का ऐलान किया है। (Wikimedia Commons)

केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों(Three Farm Laws) के खिलाफ पूरे उत्तर भारत के किसानों द्वारा दिल्ली की सीमाओं के बाहर धरना प्रदर्शन करने के ठीक एक साल बाद, आंदोलनकारी किसानों ने अब दिल्ली-हरियाणा सीमा(Delhi-Haryana Border) पर सिंघू में विरोध स्थलों से अपने अस्थायी तंबू हटाना शुरू कर दिया है।

इसपर आंदोलन में किसानो का मुख्य चेहरा रहे राकेश टिकैत(Rakesh Tikait) ने कहा की आज हम दो-तीन चीजें इकट्ठी करके जाएंगे। हम यह स्पष्ट कर दें कि संयुक्त किसान मोर्चा था, है और रहेगा। जब भी देश में मोर्चा या उससे जुड़े लोग कहीं भी जाएंगे तो उन्हें उसी सम्मान की दृष्टि से देखा जाएगा, क्योंकि पूरा मोर्चा यहां से जा रहा है।


प्रदर्शन कर रहे किसानों को केंद्र सरकार की ओर से एक पत्र मिला है, जिसमें न्यूनतम समर्थन मूल्य (Minimum Support Price) पर समिति बनाने और उनके खिलाफ मामले को तत्काल प्रभाव से वापस लेने का वादा किया गया है। बयान में कहा गया, 'जहां तक मुआवजे की बात है तो यूपी और हरियाणा ने सैद्धांतिक सहमति दे दी है।

किसान नेता गुरनाम सिंह चारुनी ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, “हमने अपना आंदोलन स्थगित करने का फैसला किया है। हम 15 जनवरी को समीक्षा बैठक करेंगे। अगर सरकार अपने वादों को पूरा नहीं करती है, तो हम अपना आंदोलन फिर से शुरू कर सकते हैं।' एक अन्य प्रमुख किसान नेता दर्शन पाल सिंह ने कहा, "प्रदर्शनकारी किसान 11 दिसंबर को धरना स्थल खाली कर देंगे।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने 19 नवंबर को घोषणा की थी कि भाजपा के नेतृत्व वाला केंद्र संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान कानूनों को निरस्त करने के लिए आवश्यक विधेयक पारित करेगा।

यह भी पढ़ें- वनडे में भी रोहित करेगें कप्तानी तो टेस्ट में मिली उपकप्तानी

इसके बाद, दोनों सदनों - लोकसभा और राज्यसभा - ने सर्वसम्मति से 29 नवंबर को कृषि कानून निरसन विधेयक पारित किया, जिसके बाद राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने विधेयक को अपनी सहमति दी, इसे एक अधिनियम बना दिया और इसे पूरी तरह से वापस लेने की प्रक्रिया को पूरा किया गया।

इस साल 26 जनवरी की हिंसा के बाद जब किसान आंदोलन कमज़ोर पड़ता दिख रहा था तो यह ग़ाज़ीपुर बॉर्डर पर राकेश टिकैत के आँसू ही थे जिसने किसान आंदोलन को नई ऊर्जा प्रदान की थी।

Input-IANS; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep Reading Show less

गूगल लॉन्च कर सकता है नया फोल्डेबल फोन जिसको कह सकते है "पिक्सल नोटपैड" (Pixabay)

सर्च ईंजन गूगल अपने पहले फ़ोल्डबल फ़ोन 'पिक्सल फोल्ड' को लॉन्च करने की योजना बना रही है। गूगल ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि इस फोल्डेबल फोन को पिक्सल नोटपैड कहा जा सकता है।
गिज्मोचाइना के रिपोर्ट के अनुसार, सिम सेटअप स्क्रीन के एनिमेशन में एक स्मार्टफोन दिखाया गया है जिसमें एक साधारण सिंगल-स्क्रीन डिजाइन नही बल्कि एक बड़ा फोल्डेबल डिस्प्ले है।

नाइन टू फाइव गूगल के अनुसार, यह डिवाइस गैलेक्सी जेड फोल्ड 3 से कम कीमत की हो सकती है। इस फोल्डेबल डिवाइस की कीमत 1,799 डॉलर हो सकती है।

Keep reading... Show less