Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
स्वास्थ्य

क्या होती है जीनोम सिक्वेंसिंग, यह कैसे बताएगी ओमीक्रोन के बारे में?

जानें दुनिया में तेजी से फैल रहे कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन (Omicron) का कैसे पता लगा सकती है जीनोम सिक्वेंसिंग।

देश में अब तक ओमीक्रोन से संक्रमित दो मरीज मिल चुके हैं। [pixabay]

दुनिया में तेजी से फैल रहे कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन ने अब भारत में भी दस्तक दे दी है। मामले की गंभीरता आप इस बात से समझ सकते हैं कि देश के टॉप साइंटिस्ट ने शुक्रवार को यह चेतावनी तक दे दी है कि यह वेरिएंट देश में तीसरी लहर ला सकता है। बता दें कि देश में अब तक ओमीक्रोन से संक्रमित दो मरीज मिल चुके हैं। ये दोनों मरीज कर्नाटक से हैं। इनमे से एक शख्स 66 साल का विदेशी है जो 20 नवंबर को बैंगलुरु आया था। कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद इसे प्राइवेट होटल में आइसोलेट कर दिया गया, जिसके बाद 27 नवंबर को ये शख्स दुबई लौट गया। वहीं 46 साल का जो दूसरा शख्स ओमिक्रॉन वेरिएंट से प्रभावित है, वो स्थानीय है और 22 नवंबर को ये पॉजिटिव पाया गया था। फिलहाल इनके संपर्क में आए लोगों के सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग (Genome Sequencing) के लिए भेजे गए हैं। अब आइये जानते हैं कि क्या होती है जीनोम सिक्वेंसिंग।

जीनोम सिक्वेंसिंग क्या है ?


जीनोम सिक्वेंसिंग (Genome Sequencing) को अच्छी तरह से समझने के लिए सबसे पहले आपको यह समझना होगा की जीन (Gene) क्या होती है। आसान भाषा में समझें तो जीन ही दरअसल हमारे जैविक विशेषताओं का कारण होता है। हमारा रंग, कद, बालों की लम्बाई या घनत्व जैसी सारी विशेषताएं इनसे जुड़े जीन्स ही तय करते हैं। अब तो आप समझ ही गए होंगे कि जीन्स क्या होते हैं। इसके बाद सवाल आता है कि जीनोम क्या होता है। दरअसल जीन्स के सामूहिक रूप को ही जीनोम कहते हैं और कभी भी दो व्यक्तियों का जीनोम एक दुसरे से मेल नहीं खाता। हालांकि, हमारे कुछ जीन्स हमारे पेरेंट्स से मेल खा सकते हैं, पर पूरा जीनोम मेल खा जाए, ऐसा होना असंभव है। किसी भी व्यक्ति के शरीर की बनावट और उसके कार्य करने के तरीके को समझने के लिए उसके जीनोम की स्टडी की जाती है। मगर जीनोम आकार में इतना छोटा और जटिल होता है कि इसे नंगी आंखों से देख पाना नामुमकिन है। यदि इसे माइक्रोस्कोप से भी देखा जाए, तो इसकी जटिलता के कारण इसे पूरी तरह से समझ पाना मुश्किल है। इसलिए जीनोम को स्टडी करने के लिए वैज्ञानिक इसे एक कोड दे देते है और इस कोड को पता करने वाली तकनीक को ही जीनोम मैपिंग (Genome Mapping) या जीनोम सिक्वेंसिंग (Genome Sequencing) कहा जाता है। जीनोम मैपिंग से पता चल जाता है कि जीनोम में किस तरह के बदलाव आए हैं। यानी यदि ओमिक्रोन (Omicron) की जीनोम मैपिंग होती है तो इसके जेनेटिक मटेरियल की स्टडी करके यह पता किया जा सकेगा कि इसके अंदर किस तरह के बदलाव हुए हैं और यह पुराने कोरोना वायरस से कितना अलग है।

corona, new corona variant, omicron देश के टॉप साइंटिस्ट ने शुक्रवार को यह चेतावनी दी है कि यह वेरिएंट देश में तीसरी लहर ला सकता है। [Wikimedia Commons]


जीनोम के अध्ययन को जीनोमिक्स (Genomics) कहते हैं। जीनोम सिक्वेंसिंग (Genome Sequencing) के जरिये मानसिक और शारीरिक बीमारियां जैसे कैंसर, दिल संबंधी रोग, डायबिटीज, हाई ब्लडप्रेशर, न्यूरोमस्क्युलर डिस्ऑर्डर आदि का इलाज किया जा सकता है। इसके अलावा कई संक्रामक रोगों जैसे मलेरिया, डेंगू, एचआईवी, कोरोनावायरस, ईबोला, सार्स आदिको इलाज के लिए भी जीनोम सिक्वेंसिंग की जा चुकी है। इससे यह पता चलता है कि किस व्यक्ति को किस तरह की बीमारी है या हो सकती है। इसके कैसे लक्षण हो सकते हैं। साथ ही इसके जरिए हम बीमारी का सटीक इलाज भी खोज सकते हैं।

क्या है Genome Sequencing जो Omicron Variant पकड़ रही? Genome Sequencing in hindi | Omicron Newsgram youtu.be


कोरोना की जीनोम सिक्वेंसिंग कैसे होती है ?

जैसा की हम बहुत समय से सुनते आ रहे हैं कि किसी व्यक्ति के शरीर में प्रवेश करने के बाद कोरोना वायरस लगातार म्यूटेट हो रहा यानी अपना स्वरूप बदल रहा है। कभी यह म्यूटेट होकर पहले से ज्यादा खतरनाक हो जाता है तो कभी कम। अब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा कि इससे जीनोम सिक्वेंसिंग का क्या लेना देना। तो इसका जवाब है- जी, बिलकुल लेना देना है। मान लीजिये यदि किसी इलाके में अचानक से कोरोना के मामले बढ़ने लगते हैं, तो उस इलाके से सैंपल इकट्ठे किये जाते हैं। बाद में इसकी सिक्वेंसिंग की जाती है और पता लगाया जाता है की इस इलाके के सैंपल में कुछ बदलाव आया है या नहीं। और क्या इसी बदलाव के कारण ही इस इलाके में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं ? इस प्रकार जीनोम सिक्वेंसिंग से यह पता चल जाता है की किसी इलाके में कोरोना मामले में जो बढ़ोतरी हो रही है , वह किसी नए वेरिएंट की वजह से हो रही या पुराने।

यह भी पढ़ें : इस ब्लड ग्रुप वाले लोग हो जाएं सावधान, हो सकते हैं कोरोना के शिकार

भारत में जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए उपलब्ध प्रयोगशालाओं की बात करें तो यहां इसके लिए इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (नई दिल्ली), सीएसआईआर-आर्कियोलॉजी फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी (हैदराबाद), डीबीटी - इंस्टीट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज (भुवनेश्वर), डीबीटी-इन स्टेम-एनसीबीएस (बेंगलुरु), डीबीटी - नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बायोमेडिकल जीनोमिक्स (NIBMG), (कल्याणी, पश्चिम बंगाल), आईसीएमआर- नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (पुणे) जैसे चुनिंदा प्रयोगशालाएं मौजूद हैं।

Input: Various sources; Edited By: Manisha Singh

Next Page

Popular

अल फैज़ान मुस्लिम फंड के मालिक मोहम्मद फैज़ी ने की खाताधारकों के साथ धोखाधड़ी (wikimedia commons)

बिजनौर के नगीना शहर में मोहल्ला लुहारी सराय में स्थित 'अल फैजान मुस्लिम फंड लिमिटेड' का मालिक मोहम्मद फैज़ी खाताधारकों के साथ ठगी(Fraud) कर करोड़ो रुपए की नगदी के साथ सोने-चांदी जेवरात लेकर फरार हो गया है। पुलिस ने कई लोगों के शिकायत के बाद प्रबंधक मोहम्मद फ़ैज़ी और एक अन्य के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। तमाम लोगों के शिकायत के आधार पर पुलिस ने 'अल फैजान म्युचुअल बेनिफिट निधि लिमिटेड' मोहल्ला लाल सराय नगीना के का संचालन के रहे मोहम्मद फैजी पुत्र अहमदुल्ला निवासी शाहजीर नगीना 420 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर जाँच शुरू कर दी है। नगीना के मोहल्ला लाल सराय में स्थित 'अल फैज़ान मुस्लिम फंड लिमिटेड' का संचालन मोहम्मद फैज़ी बीते पांच साल से कर रहा था। खाताधारकों को बिना कोई सूचना दिए आरोपी मोहम्मद फैज़ी शाखा बन्द कर फरार हो गया।

Bijnor, bijnor police, Bank fraud अल फैज़ान मुस्लिम फंड लिमिटेड तले मोहम्मद फैज़ी ने खाताधारकों को लगाया चूना। करोड़ो ले कर फरार। ( Pixabay )

बता दें कि 'अल फैज़ान मुस्लिम फंड' की शाखा में लोग प्रतिदिन लाखों रुपये का लेनदेन करते थे। ख़बर है की अल फैजान की शाखा में नगीना व आसपास के लोग के करोड़ों रुपए की नकदी के साथ साथ सोने चांदी के जेवरात भी जमा करते थे। रोज की तरह जब लोग अल फैज़ान फंड लिमिटेड की शाखा में लेन देन के लिए पहुंचे तो उन्हें निर्धारित समय सीमा के बाद भी शाखा बंद मिली। इसके बाद खाताधारकों को शक हुआ तो पता चला कि अल फैजान मुस्लिम फंड शाखा का संचालक मोहम्मद फैज़ी करोड़ों रुपए की नकदी के साथ साथ खाताधारकों के शाखा में जमा सोने-चांदी के जेवरात भी लेकर फरार हो गया। पुलिस की माने तो अब तक 170 से भी अधिक तहरीर दर्ज की जा चुकी हैं और पुलिस खाताधारकों के हुए नुकसान की खोज बीन में जुट गई है ।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी(Narendra Modi) के राष्ट्रीय स्टार्टअप दिवस(National Startup Day) की पहल की सराहना करते हुए कई भारतीय स्टार्टअप(Indian Startup) ने रविवार को कहा कि यह न केवल देश के नवाचारकर्ताओं और युवा उद्यमियों को प्रोत्साहित करेगा, बल्कि आर्थिक क्षेत्र में वैश्विक निवेशकों के विश्वास को भी बढ़ावा देगा।

मोदी ने शनिवार को 160 से अधिक प्रमुख स्टार्टअप्स के साथ वर्चुअल बैठक में कहा था कि भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माने छोटे व्यवसायों की तरह, स्टार्टअप्स भी एक अहम भूमिका अदा करने जा रहे हैं।

फिनटेक प्लेटफॉर्म रिफाइन के सीईओ और सह-संस्थापक चित्रेश शर्मा ने एक मीडिया एजेंसी को बताया हमने नए जमाने के संस्थापकों को मौजूदा श्रेणियों से परे सोचने और वास्तविक सामाजिक समस्याओं को हल करने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए प्रेरित करने में एक छोटी भूमिका निभाई है। जरूरत पड़ने पर इसके लिए पूरी तरह से एक नई श्रेणी बनाने की आवश्यकता हो सकती है। 'किसी खास कारण के लिए व्यापार भारतीय भारतीय स्टार्टअप की बेहतरीन कहानी लिखने के लिए बहुत ही अहम है।

उन्होंने कहा कि भारतीय स्टार्टअप विकास की राह पर हैं और हम दुनिया भर में निवेशकों का विश्वास हासिल करना जारी रखेंगे। यह बात हाल ही निवेश की संख्या में बढ़ोत्तरी होने से साबित होती है। भारत में 2021 में 1 अरब डॉलर से अधिक कीमत वाली 46 कंपनियां अस्तित्व में आई हैं

Keep Reading Show less

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी SI ने चुनावों में गड़बड़ी के लिए अपनी आतंकी शाखाएं सक्रिय कर दी हैं।

पंजाब(Punjab) में चुनावी प्रक्रिया को पटरी से उतारने और पंजाब में खालिस्तानी पदचिन्हों को बढ़ाने के उद्देश्य से, पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) ने राज्य में और उत्तर के कुछ हिस्सों में और अधिक आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए अपने आतंकी संगठनों को सक्रिय कर दिया है। प्रदेश, खुफिया एजेंसियों ने चेतावनी दी है।

खुफिया जानकारी के हवाले से सुरक्षा व्यवस्था के सूत्रों ने कहा कि आईएसआई प्रायोजित सिख आतंकी संगठन चुनावी रैलियों(Election Rallies) को निशाना बना सकते हैं और पंजाब, यूपी(Uttar Pradesh) और उत्तराखंड(Uttarakhand) के कुछ हिस्सों में चुनावी प्रक्रिया के दौरान कुछ महत्वपूर्ण नेताओं या वीवीआईपी को मारने का प्रयास कर सकते हैं।

Keep reading... Show less