Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
स्वास्थ्य

जाने क्यों कोरोना का नया "बी.1.1.1.529 वैरिएंट" है डेल्टा वैरिएंट से ज़्यादा खतरनाक ?

दक्षिण अफ्रीका में इस वैरिएंट के अब 100 मामले सामने आए हैं और अब यह धीरे-धीरे तेज़ी से फैलता जा रहा है।

वैज्ञानिको के अनुसार कोरोना का यह नया वैरिएंट डेल्टा वैरिएंट से भी ज़्यादा खतरनाक है। (Wikimedia Commons)

कोरोना(Corona) के कारण लगभग 18 से 20 महीने झूझने और घरों में बंद रहने के बाद दुनिया में अब ज़िन्दगी पटरी पर लौट रही है लेकिन अब दक्षिण अफ्रीका में पाए गए कोरोना के नए वैरिएंट ने अब दुनिया के कई देशों की चिंताएं बढ़ा दी हैं। नए वैरिएंट का नाम बी.1.1.1.529 है। इस वैरिएंट के आने से वैज्ञानिको के बीच चिंता बढ़ गई है क्योंकि उनकी माने तो यह वैरिएंट डेल्टा प्लस वैरिएंट(Delta Plus Variant) से भी ज़्यादा खतरनाक है।

दक्षिण अफ्रीका(South Africa) में इस वैरिएंट के अब 100 मामले सामने आए हैं और अब यह धीरे-धीरे तेज़ी से फैलता जा रहा है।


दक्षिण अफ्रीका में इस वैरिएंट की पहचान इसी सप्ताह हुई। यह वैरिएंट बोत्सवाना सहित आस-पास के देशों से फैल रहा है। यहां पूरी तरह से वक्सीनेटेड लोग भी संक्रमित हो रहे हैं। बोत्सवाना में चार और दक्षिण अफ्रीका में 100 से अधिक मामलों को इस नए वायरस से जोड़कर देखा गया है। कोरोना के नए वेरिएंट का नाम बी.1.1.529 है जिसे 'बोत्सवाना वेरिएंट'(Botswana Variant) भी कहा जा रहा है।

इन पांच वजहों के कारण यूके, इजराइल, इटली और सिंगापुर सहित कई देशों को दक्षिण अफ्रीका और इस क्षेत्र के अन्य देशों से यात्रा को प्रतिबंधित करने के लिए मजबूर किया है।

यह भी पढ़ें- भारत के टीकाकरण प्रमाण पत्र को 15 और देशों ने दी मान्यता

corona, new corona variant, botswana variant कोरोना के इस नए वैरिएंट के आने से विश्व भर के देशों की चिंताएं बढ़ गई हैं। (Wikimedia Commons)

  1. दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, 'बी.1.1.1.529' वेरिएंट में वैज्ञानिकों की अपेक्षा कई अधिक उत्परिवर्तन हैं, विशेष रूप से एक गंभीर तीसरी लहर के बाद, जो डेल्टा वेरिएंट द्वारा संचालित थी। कई उत्परिवर्तन इम्यून इवेसन और ट्रांसमिसिबिलिटी के लिए चिंता का विषय हैं।
  2. बी.1.1.1.529 अपने स्पाइक प्रोटीन में उच्च संख्या में उत्परिवर्तन करता है, जो मानव शरीर में कोशिकाओं में वायरस के प्रवेश में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। बी.1.1.1.529 वैरिएंट में कुल मिलाकर 50 म्यूटेशन हैं, जिसमें अकेले स्पाइक प्रोटीन पर 30 से अधिक म्यूटेशन शामिल हैं जो कि अधिकांश वर्तमान कोविड टीकों का लक्ष्य है।
  3. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि नए वेरिएंट के प्रभाव को समझने में कुछ सप्ताह लगेंगे। वैज्ञानिकों ने कहा है कि यह अब तक का सबसे भारी उत्परिवर्तित वेरिएंट है, जिसका अर्थ है कि टीके, जो चीन में वुहान से मूल तनाव का उपयोग करके डिजाइन किए गए थे, हो सकता है कि वे उतने प्रभावी न हों। डब्ल्यूएचओ ने बी.1.1.529 पर चर्चा करने और यह तय करने के लिए एक बैठक बुलाई है कि क्या इसे आधिकारिक तौर पर चिंता का एक प्रकार नामित किया जाएगा।
  4. इस सप्ताह पहली बार दक्षिण अफ्रीका में पहचाना गया, यह स्ट्रेन बोत्सवाना सहित आसपास के देशों में फैल गया है। इजराइल ने 'मलावी से लौटे एक व्यक्ति में' बड़ी संख्या में उत्परिवर्तन के साथ एक कोविड-19 वेरिएंट के मामले की पहचान की है। हांगकांग में दो मामलों का पता चला है। भारत ने दक्षिण अफ्रीका, बोत्सवाना और हांगकांग के यात्रियों की कठोर जांच का आहवान किया है।
  5. अभी भी वैरिएंट की उत्पत्ति के बारे में अटकलें चल रही हैं। लंदन स्थित यूसीएल जेनेटिक्स इंस्टीट्यूट के निदेशक फ्रेंकोइस बेलौक्स के अनुसार, नया स्ट्रेन 'एक प्रतिरक्षा-समझौता व्यक्ति के पुराने संक्रमण के दौरान संभवत: एक अनुपचारित एचआईवी/एड्स रोगी में विकसित होने की संभावना है'।

Input-IANS ; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)

मेटा(Meta) के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है। एनगैजेट की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने कहा कि यूजर्स के फीड और स्टोरीज में पोस्ट करने के तरीके को सशक्त करने वाला एल्गोरिदम अब ऐसे कंटेंट को प्राथमिकता देगा, जिसमें 'बदमाशी, अभद्र भाषा या हिंसा भड़काने वाली सामग्री हो सकती है।'

इंस्टाग्राम के नियम पहले से ही इस प्रकार की अधिकांश सामग्री को प्रतिबंधित करते हैं, जबकि परिवर्तन सीमा रेखा पोस्ट या कंटेंट को प्रभावित कर सकता है जो अभी तक ऐप के मॉडरेटर तक नहीं पहुंची है। कंपनी ने एक अपडेट में बताया, "यह समझने के लिए कि क्या कोई चीज हमारे नियमों को तोड़ सकती है, हम चीजों को देखेंगे जैसे कि कैप्शन एक कैप्शन के समान है जो पहले हमारे नियमों को तोड़ता था।"

Keep Reading Show less

सरकार ने यह करके बिल्कुल सही कदम उठाया है, अमर जवान ज्योति अस्थाई थी: जेबीएस यादव (Wikimedia Commons)

दिल्ली इंडिया गेट पर जलने वाली अमर जवान ज्योति का नेशनल वॉर मेमोरियल में विलय हो गया, सरकार के इस फैसले को डेप्युटी चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ से 2005 में रिटायर्ड हुए लेफ्टिनेंट जनरल जेबीएस यादव ने इसे बिल्कुल सही ठहराया है। दरअसल इंडिया गेट पर पिछले 50 साल से अमर जवान ज्योति जल रही है। वहीं 25 फरवरी, 2019 को नेशनल वॉर मेमोरियल में अमर जवान ज्योति प्रज्वलित की गई थी।

साल 1971 का भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान सिलीगुड़ी कॉरिडोर पर हिंदुस्तानी सेना को कमांड कर रहे, लेफ्टिनेंट जनरल जेबीएस यादव ने आईएएनएस को बताया कि, सरकार ने यह करके बिल्कुल सही कदम उठाया है, अमर जवान ज्योति अस्थाई थी। उस वक्त हमारे पास नेशनल वॉर मेमोरियल नहीं था और अंग्रेजों का बना हुआ था। फिर इसमें बदलाव करके अमर जवान ज्योति लगाई गई थी।

Keep Reading Show less

नेताजी भारतीय लोगों के दिलों में थे, हैं और आगे भी रहेंगे। ( Wikimedia Commons )

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती समारोह पराक्रम दिवस के अंग के तौर पर आयोजित एक वेबिनार में जर्मनी से शामिल हुईं नेताजी सुभाष चंद्र बोस की बेटी डॉ. अनीता बोस फाफ ने कहा कि नेताजी के पास भारत की वित्तीय और आर्थिक मजबूती के लिए एक विजन था और भारत को आजादी मिलने से पहले ही उन्होंने एक योजना आयोग का गठन कर लिया था।

जर्मनी से इस वेबिनार को संबोधित करते हुए डॉ. अनीता बोस फाफ ने कहा कि नेताजी भारतीय लोगों के दिलों में थे, हैं और आगे भी रहेंगे। उन्होंने कहा कि हालांकि उनके पिता एक धर्मनिष्ठ हिंदू थे लेकिन उनके मन में सभी धर्मों के लिए सम्मान था। उनके पिता ने एक ऐसे भारत की कल्पना की थी जहां सभी धर्म के लोग शांतिपूर्वक सह-अस्तित्व में रहते हों। उन्होंने कहा कि नेताजी लैंगिक समानता के हिमायती थे। उनका दृष्टिकोण एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण करना था जहां पुरुषों और महिलाओं को न केवल समान अधिकार हों, बल्कि वे समान कर्तव्यों का पालन भी कर सकें।

Keep reading... Show less