कोविड को 15 मिनट में ट्रैक कर सकता है नया पोर्टेबल परीक्षण

 वैज्ञानिकों की एक टीम ने एक नई पोर्टेबल, पॉकेट-साइज मशीन विकसित की है, जो सार्स-सीओवी-2 की महज 15 मिनट में पहचान कर सकती है, जो कि कोविड-19 वायरस का कारण बनता है।
 | 
कोविड-19 वायरस ।  ( Unsplash ) 
 वैज्ञानिकों की एक टीम ने एक नई पोर्टेबल, पॉकेट-साइज मशीन विकसित की है, जो सार्स-सीओवी-2 की महज 15 मिनट में पहचान कर सकती है, जो कि कोविड-19 वायरस का कारण बनता है। विश्व स्तर पर अभी तक लगभग 12.9 करोड़ लोग कोविड-19 से संक्रमित हो चुके हैं, जबकि इस खतरनाक संक्रमण की वजह से 28.1 लाख लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

नया परीक्षण-निरवाना वास्तविक समय में कोविड-19 ( COVID 19 ) , इन्फ्लूएंजा ए, मानव एडेनोवायरस और गैर-सार्स-सीओवी-2 मानव कोरोनावायरस के 96 नमूनों के पॉजिटिव और नेगेटिव परिणाम उत्पन्न कर सकता है।

जर्नल मेड में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि इसके अलावा यह तीन घंटों के भीतर ही ब्रिटेन में पहचाने गए बी.1.1.7 जैसे नए वेरिएंट को भी ट्रैक कर सकता है।

निरवाना परीक्षण एक जीन-डिटेक्शन दृष्टिकोण का उपयोग करता है, जिसे इसोथर्मल रीकॉम्बिनेज पोलीमरेज एंपलिफिकेशन (आरपीए) कहा जाता है, जो रियल टाइम नैनोपोर सिक्वेंसिंग के साथ मिलकर होता है। यह वर्तमान कोविड-19 परीक्षण पीसीआर की तुलना में सस्ता और अधिक पोर्टेबल है।

यह भी पढ़ें: कश्मीर में सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए सरकार के प्रयास जारी : अमेरिकी रिपोर्ट
 
corona test
कोरोना का पीसीआर परीक्षण । (  ( Unsplash )


पीसीआर ( PCR ) परीक्षण जहां कम और उच्च तापमान के माध्यम से डीएनए स्ट्रैंड को अलग करने और उन्हें कॉपी करने पर आधारित है, वहीं आरपीए इन्हीं चीजों के लिए प्रोटीन का उपयोग करते हुए केवल 20 मिनट में काम पूरा करता है। इसके अलावा, पीसीआर परीक्षण को अन्य वायरस का पता लगाने के लिए महंगी अगली पीढ़ी के जीन-अनुक्रमण मशीन की जरूरत होती है, लेकिन आरपीएस एक ही समय में कई जीन्स की पहचान कर सकता है।

सऊदी अरब में किंग अब्दुल्ला यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी में बायोसाइंस के सहायक प्रोफेसर मो ली के अनुसार, "हमें हाल ही में पता चला कि हम इस तकनीक का इस्तेमाल न केवल सार्स-सीओवी-2 का पता लगाने में कर सकते हैं, बल्कि इसी समय में दूसरे वायरस के लिए भी कर सकते हैं।"

शोधकर्ताओं ने सुझाव दिया कि डिवाइस कोविड-19 वायरस का तेजी से पता लगाने के लिए स्कूलों, हवाईअड्डों या बंदरगाहों पर स्थापित किया जा सकता है। ( AK आईएएनएस )