Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

जानें कौन थीं रानी कमलापति ,जिनके नाम पर अब हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम रखा गया है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 नवंबर को देश के पहले अति आधुनिक रानी कमलापति रेलवे स्टेशन का भोपाल में उद्घाटन किया। यह स्टेशन पहले हबीबगंज रेलवे स्टेशन के नाम से जाना जाता था।

रानी कमलापति रेलवे स्टेशन , भोपाल [ Twitter ]

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 नवंबर को देश के पहले अति आधुनिक रानी कमलापति (Rani Kamlapati) रेलवे स्टेशन का भोपाल में उद्घाटन किया। यह स्टेशन पहले हबीबगंज रेलवे स्टेशन के नाम से जाना जाता था। हाल ही में इसका नाम बदलकर गोंड रानी के नाम पर रखा गया और इसे पुनर्विकसित किया गया था। भोपाल शहर में स्थित रानी कमलापति रेलवे स्टेशन पश्चिम मध्य रेलवे का हिस्सा है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर कमलापति करने के निर्णय के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया। चौहान ने कहा कि रानी कमलापति (Rani Kamlapati) गोंड समुदाय का गौरव और भोपाल की अंतिम हिंदू रानी थी , जिसका राज्य अफगान कमांडर दोस्त मोहम्मद ने छल से हड़प लिया था।


आदिवासी आइकन की याद में 'जनजातीय गौरव दिवस' को चिह्नित करने के लिए भोपाल में हो रहे आदिवासी सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा ,''आज का दिन भोपाल के लिए, मध्यप्रदेश के लिए और पूरे देश के लिए गौरवपूर्ण इतिहास और वैभवशाली भविष्य के संगम का दिन है। भारतीय रेलवे का भविष्य कितना आधुनिक और उज्जवल है इसका प्रतिबिंब भोपाल के इस भव्य रेलवे स्टेशन में जो भी आएगा उसे दिखाई देगा। ''

उन्होंने कहा , ''रानी कमलापति स्टेशन में भारतीय रेलवे का पहला सेंट्रल कॉनकोर्स बनाया गया है, जहां सैकड़ों यात्री एक साथ बैठकर ट्रेन का इंतजार कर सकते हैं। सभी प्लेटफॉर्म इस कॉनकोर्स से जुड़े हैं। इसलिए यात्रियों को अनावश्यक भागदौड़ करने की जरूरत नहीं होगी। ''

रानी कमलापति कौन थी?

रानी कमलापति (Rani Kamlapati) 18वीं शताब्दी में भोपाल क्षेत्र की गोंड रानी थीं। वह निज़ाम शाह की सात पत्नियों में से एक थीं। उनके पिता चौधरी कृपा-रामचंद्र थे , जो 16 वीं शताब्दी में वर्तमान के सीहोर जिले के राजा हुआ करते थे। रानी कमलापति अपनी सुंदरता और बहादुरी के लिए प्रसिद्ध थीं। रानी को धनुष , घुड़सवारी और मल्लयुद्ध का सम्पूर्ण ज्ञान था और वह अपनी सेना की सेनापति भी थी।

इतिहासकारों के अनुसार, उन्होंने सात मंजिला 'कमलापति पैलेस' का निर्माण करवाया था , जो वर्तमान में मध्य प्रदेश में संरक्षित स्मारकों में से एक के रूप में एएसआई के अधीन है। इस महल की वास्तुकला धर्मनिरपेक्ष है , जो लखौरी ईंटों से बना है और टूटे हुए खंभों पर मेहराबदार है। रानी के नाम का सम्मान करने के लिए मर्लों को कमल का आकार दिया गया है।

दरअसल रानी कमलापति के पति निजाम शाह को उनके भतीजे आलम शाह ने जहर देकर मार डाला था। आलम शाह अपने चाचा की संपत्ति हड़पना चाहता था , साथ ही उसे रानी कमलापति को पाने का भी लोभ था। अपने इसी मंसूबे को पूरा करने के लिए उसने निजाम शाह की हत्या कर दी, जिसके बाद रानी बेसहारा हो गयी। पर उन्होंने हार नहीं मानी और अपने पति की मौत का बदला लेने के लिए दोस्त मोहम्मद खान, जो कभी मुगल सेना का हिस्सा था, उससे हाथ मिला लिया। खान ने 1 लाख रुपयों के बदले में रानी कमलापति से आलम शाह को मारने का सौदा कर लिया। गोंड किंवदंतियों की माने तो रानी ने खान की कलाई पर राखी बांधी थी कि वह उनके सम्मान की रक्षा करेगा।

खान ने अपना वादा निभाया और आलम शाह को मार डाला। आलम की मृत्यु के बाद रानी कमलापति (Rani Kamlapati) ने साम्राज्य पर अपना अधिकार कर लिया। पर रानी सौदे के मुताबिक 1 लाख रुपयों का इंतजाम नहीं कर सकीं , जिसके बाद उन्हें अपने साम्राज्य का एक हिस्सा खान को देना पड़ा। रानी ने उन्हें साम्राज्य के प्रशासक के रूप में भी नामित किया था। जब कमलापति ने साम्राज्य संभाला, तब उनका पुत्र नवल शाह एक वयस्क था। खान को साम्राज्य का एक हिस्सा सौंपने के फैसले से वह खुश नहीं था। नतीजतन, नवल शाह और खान के बीच एक जंग छिड़ गई, जिसमें रानी के पुत्र नवल शाह की मृत्यु हो गई ।

यह भी पढ़ें : आजादी के गुमनाम नायक-भाई परमानन्द

1723 में बेटे की मौत से दुखी रानी कमलापति ने अपने महल की झील में कूदकर आत्महत्या कर ली थी।

हालांकि , इसका कोई लिखित रिकॉर्ड नहीं है। किन्तु गोंड जनजाति में यह कथा जोर-शोर से सुनाई जाती है।

बता दें कि गोंड जनजाति भारत के सबसे बड़े जनजातीय समूहों में से एक है। देश में इसकी आबादी लगभग 1.2 करोड़ है।

Input : Various Sources

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें।

Popular

15 जनवरी 1949 से हर वर्ष 15 जनवरी को मनाया जाता है सेना दिवस !

15 जनवरी को हर वर्ष सेना दिवस(Indian Army Day) के रूप में मनाया जाता है। आज वो शुभ दिन है, आज भारतीय सेना को उनके जज्बे, त्याग, बलिदान को सलाम करने का दिन है। आज के दिन भारतीय सेना दिवस पर दिल्ली के परेड ग्राउंड पर सेना दिवस परेड का आयोजन होता है। भारतीय सेना के लिए मनाए जाने वाले तमाम कार्यक्रमो में से भारतीय सेना का यह परेड सबसे महत्वपूर्ण एवं सबसे बड़ा कार्यक्रम माना जाता है। जनरल ऑफिसर कमांडिंग, हेडक्वार्टर दिल्ली की अगुवाई में परेड निकाली जाती है। आर्मी चीफ सलामी लेते हुए परेड का निरीक्षण करते हैं!

भारतीय सेना दिवस पर (INDIAN ARMY) ने भी आज ट्विटर के माध्यम से सेना दिवस के अवसर पर बधाई देते हुए कहा कि " विविध सुरक्षा चुनौतियों का सामना करने के लिए भारतीय सेना भविष्य के साथ आगे बढ़ रहा है।"

Keep Reading Show less

जेनेवा स्थित विश्व स्वास्थ्य संगठन का मुख्यालय (Wikimedia Commons)

विश्व स्वास्थ्य संगठन(World Health Organization) ने कोरोनावायरस रोग के लिए दो नए उपचारों को मंजूरी दी है क्योंकि ओमाइक्रोन(Omicron) मामलों ने दुनिया भर में स्वास्थ्य सेवा प्रणाली पर दबाव डाला है। डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों ने गठिया की दवा बारिसिटिनिब और सिंथेटिक एंटीबॉडी उपचार सोट्रोविमैब की सिफारिश की ताकि गंभीर बीमारी और कोविड -19 से मौत को रोका जा सके।

विशेषज्ञों ने गंभीर या गंभीर कोविड रोगियों के इलाज के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के संयोजन में इंटरल्यूकिन -6 (IL-6) रिसेप्टर ब्लॉकर्स के विकल्प के रूप में Baricitinib के उपयोग की जोरदार सिफारिश की। उन्होंने सुझाव दिया कि गंभीर कोविड रोगियों में कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के साथ बारिसिटिनिब के उपयोग से जीवित रहने की दर बेहतर हुई और वेंटिलेटर की आवश्यकता कम हो गई।

Keep Reading Show less

आईआईटी रूड़की (Wikimedia Commons)

प्रो. प्रणिता पी सारंगी, बायोसाइंसेज और बायोइंजीनियरिंग विभाग, आईआईटी रुड़की(IIT Roorkee) के नेतृत्व में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की के शोधकर्ताओं ने गंभीर संक्रमण और सेप्सिस(Sepsis) के परिणामों पर विशिष्ट प्रतिरक्षा सेल मार्करों की भूमिका दिखाई है। जैव प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार से बायोकेयर महिला वैज्ञानिक अनुदान और अभिनव युवा जैव प्रौद्योगिकीविद् पुरस्कार अनुदान द्वारा वित्त पोषित इस अध्ययन ने सेप्सिस से संबंधित जटिलताओं पर प्रतिरक्षा सेल मार्करों की भूमिका में महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रदान की है।

न्यूट्रोफिल, मोनोसाइट्स और मैक्रोफेज श्वेत रक्त कोशिकाएं हैं जो मृत कोशिकाओं और बैक्टीरिया और अन्य रोगजनकों जैसे विदेशी निकायों के मैला ढोने वालों के रूप में कार्य करती हैं। वे रोग पैदा करने वाले बाहरी पदार्थ को साफ करने के लिए रक्त से संक्रमण की जगह पर चले जाते हैं। हालांकि, अनियंत्रित और गंभीर संक्रमण में, जिसे आमतौर पर 'सेप्सिस' कहा जाता है, इन प्रतिरक्षा कोशिकाओं की असामान्य सक्रियता और स्थानीयकरण होता है। नतीजतन, ये कोशिकाएं समूह बनाती हैं, शरीर के चारों ओर घूमती हैं, और फेफड़े, गुर्दे और यकृत जैसे महत्वपूर्ण अंगों में जमा हो जाती हैं, जिससे बहु-अंग विफलता या मृत्यु भी हो सकती है।

Keep reading... Show less