Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

जानें कौन थीं रानी कमलापति ,जिनके नाम पर अब हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम रखा गया है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 नवंबर को देश के पहले अति आधुनिक रानी कमलापति रेलवे स्टेशन का भोपाल में उद्घाटन किया। यह स्टेशन पहले हबीबगंज रेलवे स्टेशन के नाम से जाना जाता था।

रानी कमलापति रेलवे स्टेशन , भोपाल [ Twitter ]

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 नवंबर को देश के पहले अति आधुनिक रानी कमलापति (Rani Kamlapati) रेलवे स्टेशन का भोपाल में उद्घाटन किया। यह स्टेशन पहले हबीबगंज रेलवे स्टेशन के नाम से जाना जाता था। हाल ही में इसका नाम बदलकर गोंड रानी के नाम पर रखा गया और इसे पुनर्विकसित किया गया था। भोपाल शहर में स्थित रानी कमलापति रेलवे स्टेशन पश्चिम मध्य रेलवे का हिस्सा है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर कमलापति करने के निर्णय के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया। चौहान ने कहा कि रानी कमलापति (Rani Kamlapati) गोंड समुदाय का गौरव और भोपाल की अंतिम हिंदू रानी थी , जिसका राज्य अफगान कमांडर दोस्त मोहम्मद ने छल से हड़प लिया था।


आदिवासी आइकन की याद में 'जनजातीय गौरव दिवस' को चिह्नित करने के लिए भोपाल में हो रहे आदिवासी सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा ,''आज का दिन भोपाल के लिए, मध्यप्रदेश के लिए और पूरे देश के लिए गौरवपूर्ण इतिहास और वैभवशाली भविष्य के संगम का दिन है। भारतीय रेलवे का भविष्य कितना आधुनिक और उज्जवल है इसका प्रतिबिंब भोपाल के इस भव्य रेलवे स्टेशन में जो भी आएगा उसे दिखाई देगा। ''

उन्होंने कहा , ''रानी कमलापति स्टेशन में भारतीय रेलवे का पहला सेंट्रल कॉनकोर्स बनाया गया है, जहां सैकड़ों यात्री एक साथ बैठकर ट्रेन का इंतजार कर सकते हैं। सभी प्लेटफॉर्म इस कॉनकोर्स से जुड़े हैं। इसलिए यात्रियों को अनावश्यक भागदौड़ करने की जरूरत नहीं होगी। ''

रानी कमलापति कौन थी?

रानी कमलापति (Rani Kamlapati) 18वीं शताब्दी में भोपाल क्षेत्र की गोंड रानी थीं। वह निज़ाम शाह की सात पत्नियों में से एक थीं। उनके पिता चौधरी कृपा-रामचंद्र थे , जो 16 वीं शताब्दी में वर्तमान के सीहोर जिले के राजा हुआ करते थे। रानी कमलापति अपनी सुंदरता और बहादुरी के लिए प्रसिद्ध थीं। रानी को धनुष , घुड़सवारी और मल्लयुद्ध का सम्पूर्ण ज्ञान था और वह अपनी सेना की सेनापति भी थी।

इतिहासकारों के अनुसार, उन्होंने सात मंजिला 'कमलापति पैलेस' का निर्माण करवाया था , जो वर्तमान में मध्य प्रदेश में संरक्षित स्मारकों में से एक के रूप में एएसआई के अधीन है। इस महल की वास्तुकला धर्मनिरपेक्ष है , जो लखौरी ईंटों से बना है और टूटे हुए खंभों पर मेहराबदार है। रानी के नाम का सम्मान करने के लिए मर्लों को कमल का आकार दिया गया है।

दरअसल रानी कमलापति के पति निजाम शाह को उनके भतीजे आलम शाह ने जहर देकर मार डाला था। आलम शाह अपने चाचा की संपत्ति हड़पना चाहता था , साथ ही उसे रानी कमलापति को पाने का भी लोभ था। अपने इसी मंसूबे को पूरा करने के लिए उसने निजाम शाह की हत्या कर दी, जिसके बाद रानी बेसहारा हो गयी। पर उन्होंने हार नहीं मानी और अपने पति की मौत का बदला लेने के लिए दोस्त मोहम्मद खान, जो कभी मुगल सेना का हिस्सा था, उससे हाथ मिला लिया। खान ने 1 लाख रुपयों के बदले में रानी कमलापति से आलम शाह को मारने का सौदा कर लिया। गोंड किंवदंतियों की माने तो रानी ने खान की कलाई पर राखी बांधी थी कि वह उनके सम्मान की रक्षा करेगा।

खान ने अपना वादा निभाया और आलम शाह को मार डाला। आलम की मृत्यु के बाद रानी कमलापति (Rani Kamlapati) ने साम्राज्य पर अपना अधिकार कर लिया। पर रानी सौदे के मुताबिक 1 लाख रुपयों का इंतजाम नहीं कर सकीं , जिसके बाद उन्हें अपने साम्राज्य का एक हिस्सा खान को देना पड़ा। रानी ने उन्हें साम्राज्य के प्रशासक के रूप में भी नामित किया था। जब कमलापति ने साम्राज्य संभाला, तब उनका पुत्र नवल शाह एक वयस्क था। खान को साम्राज्य का एक हिस्सा सौंपने के फैसले से वह खुश नहीं था। नतीजतन, नवल शाह और खान के बीच एक जंग छिड़ गई, जिसमें रानी के पुत्र नवल शाह की मृत्यु हो गई ।

यह भी पढ़ें : आजादी के गुमनाम नायक-भाई परमानन्द

1723 में बेटे की मौत से दुखी रानी कमलापति ने अपने महल की झील में कूदकर आत्महत्या कर ली थी।

हालांकि , इसका कोई लिखित रिकॉर्ड नहीं है। किन्तु गोंड जनजाति में यह कथा जोर-शोर से सुनाई जाती है।

बता दें कि गोंड जनजाति भारत के सबसे बड़े जनजातीय समूहों में से एक है। देश में इसकी आबादी लगभग 1.2 करोड़ है।

Input : Various Sources

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें।

Popular

जो लोग हो चुके है कोविड संक्रमित उनके लिए काल है ओमिक्रॉन! [File Photo]

सीएनएन(CNN) की एक रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने शोध किया है। उन्होने कहा है कि उन्हें कुछ सबूत मिले हैं कि जो लोग एक बार कोविड(Covid 19) से संक्रमित हो गए थे, उनकी बीटा(Beta) या डेल्टा वैरिएंट (delta variant)की तुलना में ओमिक्रॉन वैरिएंट(Omicron Variant) से दोबारा संक्रमित होने की संभावना अधिक है। साथ ही साथ यह भी कहा गया है कि अभी इतनी जल्दी निश्चित रूप से इस बारे में कुछ कहना तो जल्दबाजी होगी, मगर हाल ही में दूसरी बार के संक्रमण में वृद्धि ने उन्हें संकेत दिया है कि ओमिक्रॉन में लोगों को फिर से संक्रमित करने की अधिक संभावना है। दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने कहा कि

अपको बता दें, ओमिक्रॉन(Omicron Variant) की पहचान हाल ही में नवंबर महीने में की गई थी, लेकिन इसने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और अन्य वैश्विक स्वास्थ्य अधिकारियों को चिंतित कर दिया है, जिन्होंने इसके कई म्यूटेंट बनने के कारण इसे खतरनाक बताया है। इसके बारे में बताया जा रहा है कि यह अन्य वैरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक तो है ही, साथ ही इसमें प्रतिरक्षा प्रणाली से बचने की क्षमता भी है।

Keep Reading Show less

पराग अग्रवाल, ट्विटर सीईओ (Twitter)

नए ट्विटर सीईओ (Twitter CEO) पराग अग्रवाल (Parag Agrawal) ने कंपनी का पुनर्गठन शुरू कर दिया है और दो वरिष्ठ अधिकारी पहले ही पुनर्गठन योजना के हिस्से के रूप में पद छोड़ चुके हैं। द वाशिंगटन पोस्ट की एक ईमेल का हवाला देते हुए एक रिपोर्ट के अनुसार, ट्विटर के मुख्य डिजाइन अधिकारी डैंटली डेविस और इंजीनियरिंग के प्रमुख माइकल मोंटानो दोनों ने पद छोड़ दिया है। डेविस 2019 में तो मोंटानो 2011 में कंपनी में शामिल हुए थे।

शुक्रवार देर रात मीडिया रिपोर्ट्स में ट्विटर (Twitter) के एक प्रवक्ता के हवाले से कहा गया, "डैंटली का जाना हमारे संगठनात्मक मॉडल को एक ऐसे ढांचे के इर्द-गिर्द शिफ्ट करने पर केंद्रित है, जो कंपनी के एक प्रमुख उद्देश्य का समर्थन करता है।"

प्रवक्ता ने कहा, "इसमें शामिल व्यक्तियों के सम्मान में इन परिवर्तनों पर साझा करने के लिए हमारे पास और विवरण नहीं है।"

एक ईमेल में अग्रवाल (Parag Agrawal) ने लिखा था कि कंपनी ने हाल ही में महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को हासिल करने के लिए अपनी रणनीति को अपडेट किया है, और मुझे विश्वास है कि रणनीति साहसिक और सही होनी चाहिए।

इसमें कहा गया, "लेकिन हमारी महत्वपूर्ण चुनौती यह है कि हम इसके खिलाफ कैसे काम करते हैं और परिणाम देते हैं। इसी तरह हम ट्विटर को अपने ग्राहकों, शेयरधारकों और आप में से प्रत्येक के लिए सर्वश्रेष्ठ बना सकते हैं।" jn

Keep Reading Show less

यूट्यूब ऐप ने सभी वीडियो के लिए शुरू की 'लिसनिंग कंट्रोल' सुविधा। (Wikimedia Commons)

यूट्यूब (Youtube) ने कथित तौर पर एंड्रॉइड और आईओएस यूजर्स के लिए एक 'सुनने का कंट्रोल' (Listening Control) सुविधा शुरू की है। इस नई सुविधा का फायदा केवल यूट्यूब प्रीमियम ग्राहक उठा सकते हैं।

9टु5गूगल (9to5 google) की रिपोर्ट के अनुसार, लिसनिंग कंट्रोल वीडियो विंडो के नीचे की हर चीज को एक विरल शीट से बदल देता है। प्ले/पाउस, नेक्स्ट/पिछला और 10-सेकंड रिवाइंड/फॉरवर्ड मुख्य बटन हैं।

लिसनिंग कंट्रोल का उपयोग कर के, यूट्यूब ऐप उपयोगकर्ता चाहें तो नए गीतों को प्लेलिस्ट में भी सहेज सकते हैं।

यह सुविधा अब यूट्यूब (Youtube) एंड्रॉइड और आईओएस यूजर्स के लिए व्यापक रूप से उपलब्ध है और यह केवल यूट्यूब प्रीमियम यूजर्स के लिए उपलब्ध है।

Google Play Store, यूट्यूब ऐप पहले ही गूगल प्ले स्टोर पर 10 बिलियन डाउनलोड को पार कर चुकी है। [Pixabay]

Keep reading... Show less