29.81 किमी प्रतिदिन निर्माण के साथ राष्ट्रीय राजमार्ग ने बनाया रिकॉर्ड

एक दिन में औसतन 29.81 किलोमीटर प्रतिदिन की निर्माण गति से 2020-2021 के दौरान राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण पिछले पांच वर्षों में सबसे अधिक रहा है।
 | 
राष्ट्रीय राजमार्ग ने बनाया रिकॉर्ड।(Unsplash)

By: रजनीश सिंह

एक दिन में औसतन 29.81 किलोमीटर प्रतिदिन की निर्माण गति के साथ कोविड-19(COVID 19) संकट और महीनों तक लॉकडाउन(lockdown) के बावजूद 2020-2021 के दौरान राष्ट्रीय राजमार्गों(National Highways) का निर्माण पिछले पांच वर्षों में सबसे अधिक रहा है।

5 फरवरी, 2021 तक राष्ट्रीय राजमार्ग(National Highway) निर्माण की कुल लंबाई 9,242 किलोमीटर है। 2020-21 के दौरान निर्मित राष्ट्रीय राजमार्गों(National Highway) की दैनिक औसत लंबाई 29.81 किमी प्रतिदिन है, जो सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय(Ministry of Road Transport and Highways) द्वारा साझा किए गए प्रतिदिन निर्मित सड़क संबंधी आंकड़ों को इंगित करता है।

आईएएनएस द्वारा प्राप्त डेटा में उल्लेख किया गया है कि प्रतिदिन के औसतन सड़क निर्माण के लिहाज से अंतिम उच्च गति 2018-19 में प्रतिदिन दर्ज की गई थी। जब प्रतिदिन निर्माण गति 29.74 किमी थी, और कुल 10,855 किमी सड़कों का निर्माण किया गया था।

2019-20 में, राष्ट्रीय राजमार्ग(National Highways) निर्माण की गति प्रतिदिन 28.04 किमी थी, और अवधि के दौरान 10,237 किमी सड़क का निर्माण किया गया था।

राष्ट्रीय राजमार्ग(National Highways) निर्माण ने 2017-18 के दौरान 26.93 किमी प्रति दिन की गति के साथ उल्लेखनीय वृद्धि दिखाई, जबकि 2016-17 में 22.55 किमी और 2015-16 में 16.61 किमी थी। राष्ट्रीय राजमार्ग(National Highways) परियोजनाओं के तहत 2017-18 के दौरान कुल 9,829 किलोमीटर, 2016-17 में 8,231 किलोमीटर और 2015-16 में 6,061 किलोमीटर का निर्माण किया गया।

सरकार ने 2021-22 में 12,000 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग(National Highway) बनाने का लक्ष्य तय किया है।

The Director General, Road Development & Special Secretary, Shri Indresh Kumar Pandey and the Deputy Director and Professor of Civil Engineering, IIT Roorkee, Prof. Manoranjan Parida signing a Memorandum of Understanding (MoU) for continuation of MoRTH Professorial Chair focusing on research and development, teaching and training in the area of Development of Highway Infrastructure in the presence of the Secretary, Ministry of Road Transport & Highways, Shri Giridhar Aramane
सड़क परिवहन मंत्रालय के अधिकारीयों की बैठक के दौरान ली गई तस्वीर।(PIB)

सड़क परिवहन मंत्रालय((Ministry of Road Transport and Highways)) ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट (2020-21) में बताया कि पिछले पांच वर्षों में लिए गए प्रमुख नीतिगत निर्णयों से होने वाले लाभ को समेकित करने के लिए साल 2020-21 रहा, जो चल रही परियोजनाओं की निगरानी का समय था।

मंत्रालय ने 2015-16 तक जारी सभी परियोजनाओं को पूरा करने का निर्णय लिया, और राष्ट्रीय राजमार्गों(National Highway) के कम से कम 11,000 किलोमीटर के निर्माण का अब तक का सबसे बड़ा लक्ष्य रखा गया है, जबकि राष्ट्रीय राजमार्गों(National Highway) के लगभग 12,000 किलोमीटर के निर्माण की आकांक्षा है, जो 2019-20 के 10,237 किलोमीटर के मुकाबले अधिक है।

यह भी पढ़ें: वित्तवर्ष 2018-20 के दौरान हुई 3.8 लाख शेल कंपनियों की पहचान

मंत्रालय ने संसदीय पैनल को सौंपी गई डेटा रिपोर्ट में कहा कि कुल मिलाकर सड़क परियोजनाएं 6.26 लाख करोड़ रुपये से अधिक की लागत के साथ 55,000 किलोमीटर से अधिक लंबी है।

रिपोर्ट के अनुसार, 7,767 किलोमीटर लंबाई के राष्ट्रीय राजमार्गों को 2020-21 के पहले नौ महीनों में पूरा किया गया, जबकि पिछले वित्त वर्ष के दौरान इसी अवधि में 6,940 किलोमीटर था।

भारत(India) में दुनिया(World) का दूसरा सबसे बड़ा सड़क नेटवर्क है जो लगभग 62.16 लाख किमी का है। इसमें राष्ट्रीय राजमार्ग(National Highway) (1,36,440 किमी), एक्सप्रेसवे (1,76,818 किलोमीटर), राज्य राजमार्ग, प्रमुख सड़कें, अन्य जिला सड़कें और ग्रामीण सड़कें शामिल हैं। कुल 59,02,539 किमी अन्य सड़कें हैं।(आईएएनएस-SHM)