Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

NGT ने यूपी को यमुना में प्रदूषण रोकने के दिए निर्देश

NGT ने कहा कि यमुना में प्रदूषण को रोकने के लिए राज्य एजेंसियों द्वारा किए गए अब तक के उपाय नाकाफी हैं।

NGT ने यूपी से यमुना में प्रदूषण रोकने को कहा। [IANS]

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव को यमुना (Yamuna River) में प्रदूषण को रोकने के लिए राज्य एजेंसियों द्वारा किए गए उपायों की निगरानी करने का निर्देश दिया है। NGT ने कहा कि अब तक उठाए गए कदम नाकाफी हैं।

यूपी (Uttar Pradesh) में पर्यावरण मानदंडों के पालन की निगरानी के लिए ट्रिब्यूनल द्वारा गठित समिति ने, जिसकी अध्यक्षता लखनऊ में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति एसवीएस राठौर कर रहे हैं,15 दिसंबर को अपनी रिपोर्ट दायर की थी।

यमुना के पानी की बिगड़ती गुणवत्ता को देखते हुए NGT ने नदी से जोड़ने वाले नालों में गन्दगी डालने से रोकने के लिए आगे की कार्रवाई की सिफारिश की।

UP, Yamuna river, environment protection, NGT, National Green Tribunal NGT ने यमुना नदी से जोड़ने वाले नालों में गन्दगी के निर्वहन को रोकने की सिफारिश की। [Twitter]



समिति ने आगे कहा कि राज्य के अधिकारियों को आवश्यक धन की उपलब्धता सुनिश्चित करनी चाहिए। मथुरा वृंदावन विकास प्राधिकरण (MVDA) को वृक्षारोपण अभियान चलाना है और अतिक्रमण हटाने के लिए भी कदम उठाना है। अक्रूर ड्रेन में डिस्चार्ज होने की आवेदक की शिकायत पर भी विचार किया जाना चाहिए।

याचिकाकर्ताओं, आचार्य दामोदर शास्त्री और विजय किशोर गोस्वामी के वकील आकाश वशिष्ठ ने कहा कि वृंदावन में कोसी शहर के पूरे औद्योगिक निर्वहन को यमुना में ले जाने वाले कोसी नाले की स्थिति को निरीक्षण समिति की रिपोर्ट में सही ढंग से प्रतिबिंबित नहीं किया गया था।

याचिकाकर्ताओं ने दावा किया, "रिपोर्ट में पाया गया है कि निरीक्षण के समय नाले में पानी नहीं था। सही स्थिति यह है कि यह हमेशा अनुपचारित अपशिष्ट और सीवेज से भरा रहता है।"

यह भी पढ़ें : मनरेगा के तहत मिलने वाले रोजगार में आयी कमी के दावों को मंत्रालय ने किया खारिज

समिति द्वारा दी गई सिफारिशों में कहा गया है कि संबंधित प्राधिकारी को यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया जा सकता है कि बायो/फाइटो उपचारात्मक कार्यों को सीमा के भीतर पानी की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए ठीक से किया जाता है, क्योंकि डाउनस्ट्रीम में पानी की गुणवत्ता अपस्ट्रीम की तुलना में खराब है। (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep Reading Show less

गूगल लॉन्च कर सकता है नया फोल्डेबल फोन जिसको कह सकते है "पिक्सल नोटपैड" (Pixabay)

सर्च ईंजन गूगल अपने पहले फ़ोल्डबल फ़ोन 'पिक्सल फोल्ड' को लॉन्च करने की योजना बना रही है। गूगल ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि इस फोल्डेबल फोन को पिक्सल नोटपैड कहा जा सकता है।
गिज्मोचाइना के रिपोर्ट के अनुसार, सिम सेटअप स्क्रीन के एनिमेशन में एक स्मार्टफोन दिखाया गया है जिसमें एक साधारण सिंगल-स्क्रीन डिजाइन नही बल्कि एक बड़ा फोल्डेबल डिस्प्ले है।

नाइन टू फाइव गूगल के अनुसार, यह डिवाइस गैलेक्सी जेड फोल्ड 3 से कम कीमत की हो सकती है। इस फोल्डेबल डिवाइस की कीमत 1,799 डॉलर हो सकती है।

Keep reading... Show less