Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

किसान आंदोलन नहीं,सिख धर्म को बदनाम कर रहा है निहंगो का यह कृत!​

किसान नेता राकेश टिकैत ने लखबीर सिंह हत्या मामले पर सरकार को दोषी ठहराते हुए इसमें सरकार की साजिश करार दिया है।

निहंग सिखों ने दलित लखबीर सिंह की हत्या कर जारी किया था वीडियो (Wikimedia commons)

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीनों कृषि कानून के विरोध में दिल्ली के बॉर्डरों पर बैठे किसान हटने का नाम नहीं ले रहे हैं। इसी बीच एक ऐसी खबर आई है जो अत्यंत शर्मनाक हैं। और उससे भी शर्मनाक यह है कि हत्या करने का वीडियो बनाया गया और उसे जारी भी किया गया। आप सबको याद होगा एक समय होता था जब आईएसआईएस जैसे आतंकी संगठन हत्या करने का वीडियो बनाकर जारी करते थे और हत्या करने की जिम्मेदारी भी लेते थे इसी तरह के कृत करने की कोशिश हमारे देश भारत में हुई है। अगर इसे अभी नहीं रोका गया तो ऐसी वारदातें और बढ़ सकती हैं।

अब आपको विस्तार से पूरी घटना बताते हैं। शुक्रवार को सिंधु बॉर्डर पर 35 साल के युवक जिसका नाम लखबीर सिंह है उसका मृत शव मिला। वह एक दलित मजदूर था। लखबीर सिंह की हत्या इतनी बर्बरता से की गई थी कि उसका एक हाथ और एक पैर कटा हुआ पाया गया और सबसे जरूरी बात यह की शव संयुक्त किसान मोर्चा के मंच के पास से मिला था। जिस कारण किसान आंदोलन और किसान नेताओ का कटघरे में खड़े होना तो तय हैं।


कुछ समय बाद एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें दावा किया जा रहा था कि शख्स ने यहां पवित्र गुरु ग्रंथ साहब के पावन स्वरूप की बेअदबी करने कोशिश की जैसे ही यह बात निहंगों को पता चली तो उन्होंने शख्स को पकड़ लिया और घसीटते हुए निहंगों ने शख्स को मंच के पास ले गए जहां निहंग ने शख्स से पूछा कि उसे किसने भेजा है और कितने रुपए दिए हैं और उसके गांव का क्या नाम है? इसी बीच निहंगों ने उसका एक हाथ काट दी। और गौर करने वाली बात यह है कि निहंगो ने यह बात वीडियो में स्वीकार भी कर रहे हैं कि इस शख्स का हाथ व पैर उन्हीं ने काटे है।

शव मिलने के बाद हरियाणा पुलिस ने कार्यवाही शुरू कर दी और हरियाणा पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया है जबकि दो लोगों ने सरेंडर कर दिया है यह दोनों निहंग हैं। आश्चर्य की बात यह है कि हत्या में शामिल एक निहंग नारायण सिंह को उसके गाँव वालों ने फूलों और रुपए की मालाएँ पहनाईं और उसके समर्थन में नारे लगाए। यह क्या दर्शाता है? और किसकी मानसिकता दर्शाता है? यह आपको पता है। यह हत्या संयुक्त किसान मोर्चा के मंच के पास हुई है तो किसान आंदोलन और किसान नेताओं पर सवाल उठना चाहिए ना कि निहंगो के कारण संपूर्ण सिख धर्म पर।

इस हत्या पर किसान नेता राकेश टिकैत सरकार को दोष देते हुए आपत्तिजनक एवं बेतुका बयान दिया कि, "निहंगों ने कहा कि यह एक धार्मिक मामला है और सरकार को इसे किसानों के विरोध से नहीं जोड़ना चाहिए। हम उनसे बात कर रहे हैं। अभी हमे उनकी यहां जरूरत नहीं है। सरकार स्थिति को खराब कर सकती है। सरकार ने साजिश को अंजाम दिया।" राकेश टिकैत ने कहा कि अभी उन्हें निहंगो की जरूरत नहीं है जब जरूरत होगी तो बुला लिया जाएगा तो अब प्रश्न उठता है जब निहंगो की जरूरत नहीं थी तो संयुक्त किसान मोर्चा के मंच के पास निहंग क्या कर रहे थे? क्या इसका जवाब राकेश टिकैत देंगे यह सरकार पर ही दोषारोपण कर देंगे।

यह भी पढ़े: रिकॉर्ड 675 लाख हैक्टेयर मैं हुई रवि फसलों की बुवाई

अंततः यही कहा जा सकता है कि अगर ऐसी वारदातें नहीं रुकी तो देश की स्थिति सही नहीं होगी जिसके लिए सरकार को इन हत्यारों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए। और एक खास बात इन निहंग सिखों के कारण संपूर्ण सिख समाज को दोष देना भी सही नहीं है लेकिन किसान आंदोलन पर और किसान नेताओं से सवाल पूछना बिल्कुल लाजमी है।

Input: Various Source; Edited By: Lakshya Gupta

Popular

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। [Wikimedia Commons]

ओप्पो (Oppo) कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। अब एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हैंडसेट को फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है। टिपस्टर डिजिटल चैट स्टेशन के अनुसार, आगामी फोल्डेबल स्मार्टफोन का नाम फाइन्ड एन 5जी होगा। इसमें एक रोटेटिंग कैमरा मॉड्यूल भी हो सकता है जो उपयोगकर्ताओं को मुख्य सेंसर का उपयोग करके उच्च-गुणवत्ता वाली सेल्फी क्लिक करने की अनुमति देगा।

ऐसा कहा जा रहा है कि यह फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। डिवाइस में साइड-माउंटेड फिंगरप्रिंट रीडर होने की संभावना है। हुड के तहत, यह स्नैपड्रैगन 888 मोबाइल प्लेटफॉर्म द्वारा संचालित होगा।

Keep Reading Show less

विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा से निलंबित।(Wikimedia Commons)

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा(Rajya Sabha) से निलंबित(Suspended) किया गया है। अब ये 12 सांसद संपूर्ण सत्र के दौरान सदन नहीं आ पाएंगे। निलंबित सांसद कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, भाकपा, माकपा और शिवसेना से हैं। अब आप लोग सोच रहे होंगे संसद का आज पहला दिन और इन सांसदो को पहले दिन ही क्यों निष्कासित कर दिया गया?

इस मामले की शुरुआत शीतकालीन सत्र से नहीं बल्कि मानसून सत्र से होती है। दरअसल, राज्यसभा(Rajya Sabha) ने 11 अगस्त को संसद के मानसून सत्र के दौरान सदन में हंगामा करने वाले 12 सांसदों को सोमवार को संसद के पूरे शीतकालीन सत्र के लिए निलंबित कर दिया। ये वही सांसद हैं, जिन्होंने पिछले सत्र में किसान आंदोलन(Farmer Protest) अन्य कई मुद्दों को लेकर संसद के उच्च सदन(Rajya Sabha) में खूब हंगामा किया था। इन सांसदों पर कार्रवाई की मांग की गई थी जिस पर राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू को फैसला लेना था।

Keep Reading Show less

मस्क ने कर्मचारियों से टेस्ला वाहनों की डिलीवरी की लागत में कटौती करने को कहा। [Wikimedia Commons]

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क (Elon Musk) ने कर्मचारियों से आग्रह किया है कि वे चल रहे त्योहारी तिमाही में वाहनों की डिलीवरी में जल्दबाजी न करें, लेकिन लागत को कम करने पर ध्यान दें, क्योंकि वह नहीं चाहते हैं कि कंपनी 'शीघ्र शुल्क, ओवरटाइम और अस्थायी ठेकेदारों पर भारी खर्च करे ताकि कार चौथी तिमाही में पहुंचें।' टेस्ला आम तौर पर प्रत्येक तिमाही के अंत में ग्राहकों को कारों की डिलीवरी में तेजी लाई है।

सीएनबीसी द्वारा देखे गए कर्मचारियों के लिए एक ज्ञापन में, टेस्ला के सीईओ (Elon Musk) ने कहा कि ऐतिहासिक रूप से जो हुआ है वह यह है कि 'हम डिलीवरी को अधिकतम करने के लिए तिमाही के अंत में पागलों की तरह दौड़ते हैं, लेकिन फिर डिलीवरी अगली तिमाही के पहले कुछ हफ्तों में बड़े पैमाने पर गिर जाती है।'

Keep reading... Show less