Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

बुंदेलखंड में एक दफा फिर सुनाई देने लगी जल संरक्षण की आवाज़

बुंदेलखंड में तमाम अभियानों के बाद भी कभी एक इलाके की तस्वीर नहीं बदली। अब एक बार फिर सुनाई देने लगी है जल संरक्षण की आवाज़।

बुंदेलखंड में एक दफा फिर सुनाई देने लगी जल संरक्षण की आवाज़। (Wikimedia Commons)

बुंदेलखंड(Bundelkhand) का सूखा मिटाने के लिए कई साल से तमाम अभियानों के बावजूद इस इलाके की तस्वीर नहीं बदली है । हां, इतना जरूर है कि सरकारी बजट का वक्त करीब आते ही और विभिन्न संस्थाओं से मिलने वाले बजट की आस में जल संरक्षण(Water Conservation) के नारे सुनाई देने लगते हैं। एक बार फिर ऐसा ही कुछ शुरू हो रहा है।

बुंदेलखंड वैसे तो उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के 7- 7 जिलो, यानी कि कुल मिलाकर 14 जिलों से बनता है। यह इलाका कभी पानीदार हुआ करता था ऐसा इसलिए क्योंकि यहां तालाब, कुएं, बावड़ी और चोपरा हुआ करते थे। आज भी इन जल संरचनाओं के निशान इस क्षेत्र की समृद्धि और संपन्नता की कहानी सुनाते हैं।

वक्त गुजरने के साथ यहां की जल संरचनाएं एक एक कर जमीन में दफन होती गई। सरकारों से लेकर तमाम संस्थानों ने इस इलाके की तस्वीर बदलने के लिए करोड़ों रुपए की राशि मंजूर की, तरह तरह के अभियान भी चले, मगर यह इलाका अपनी विरासत को सहेजने में नाकाम रहा, बल्कि पानी का संकट लगातार गहराता गया।

तालाबों को जिंदा करने के नाम पर तो कभी नदियों को प्रवाहित करने के अभियान की खातिर बेहिसाब धन राशि खर्च की गई। इस धनराशि को लूटने के मामले में जहां सरकारी महकमा पीछे नहीं रहा तो वही पानी संरक्षण के पैरोकार ने हिचक नहीं दिखाई। एक बार फिर नए साल की शुरूआत के साथ जल संरक्षण के नारे सुनाई देने लगे हैं क्योंकि एक तरफ जहां मार्च से पहले विभिन्न माध्यमों के जरिए हासिल किए गए फंड को खर्च करने की होड़ मची है तो वहीं दूसरी ओर आगामी साल के बजट में हिस्सा हासिल करने के मंसूबे संजोए जा रहे हैं।

बुंदेलखंड में जल संरक्षण के लिए जन सहयोग से तालाब बनाने का अभियान चलाने वाले और इलाहाबाद विश्वविद्यालय के शोध छात्र रामबाबू तिवारी का कहना है कि बुंदेलखंड में जल संरक्षण के नाम पर लूट होती रही है और इसका बड़ा कारण प्रोजेक्टजीवी है जो जल संरचनाओं पर तो कम मगर अपने पर बजट की ज्यादा राशि खर्च कर देते हैं। उनका जोर सिर्फ प्रचार पर होता है न कि जमीनी स्तर पर काम करने में।

बुंदेलखंड के जल संकट को दूर कर समृद्धि लाने के मकसद से लगभग डेढ़ दशक पहले विशेष पैकेज मंजूर किया गया था। लगभग 7000 करोड रुपए की राशि खर्च होने के बावजूद यहां की तस्वीर में कोई बदलाव नहीं आया। इसके अलावा तालाब बचाओ से लेकर कई अभियान चले मगर तालाबों की स्थिति जस की तस रही।

स्थानीय लोगों में पानी संरक्षण को आंदोलन का रूप देने वालों के प्रति नाराजगी रहती है। इसके कारण भी हैं, क्योंकि कुछ वर्ष यहां आकर लोग काम करते हैं और बजट खत्म होते ही बोरिया बिस्तर बांध कर चल देते हैं। परिणाम स्वरुप कुछ दिन तो ऐसे लगता है जैसे यहां पानी संकट खत्म हो गया है, मगर हकीकत कुछ और रहती है।

यह भी पढ़ें- Deltacron Variant वास्तविक नहीं- वैज्ञानिक

इस क्षेत्र के जानकार चाहते हैं बीते तीन दशकों में इस इलाके में जल संरक्षण और संवर्धन के नाम पर जितनी राशि को खर्च किया गया है उसका आकलन कराया जाए, क्या वाकई में विभिन्न माध्यमों से आई राशि से जल संरक्षण के क्षेत्र में काम हुआ भी है, या कुछ और होता रहा है?


Input: IANS ; Edited By: Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep Reading Show less

गूगल लॉन्च कर सकता है नया फोल्डेबल फोन जिसको कह सकते है "पिक्सल नोटपैड" (Pixabay)

सर्च ईंजन गूगल अपने पहले फ़ोल्डबल फ़ोन 'पिक्सल फोल्ड' को लॉन्च करने की योजना बना रही है। गूगल ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि इस फोल्डेबल फोन को पिक्सल नोटपैड कहा जा सकता है।
गिज्मोचाइना के रिपोर्ट के अनुसार, सिम सेटअप स्क्रीन के एनिमेशन में एक स्मार्टफोन दिखाया गया है जिसमें एक साधारण सिंगल-स्क्रीन डिजाइन नही बल्कि एक बड़ा फोल्डेबल डिस्प्ले है।

नाइन टू फाइव गूगल के अनुसार, यह डिवाइस गैलेक्सी जेड फोल्ड 3 से कम कीमत की हो सकती है। इस फोल्डेबल डिवाइस की कीमत 1,799 डॉलर हो सकती है।

Keep reading... Show less