Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

बढ़ती सर्दी के बीच लखनऊ में देखने को मिल रहे दुर्लभ प्रवासी पक्षी

इसी के साथ ट्रांस-हिमालयी क्षेत्र से आने वाली प्रवासी बतख, सुर्ख शेल्डक, ब्लैक हुडेड ओरिओल और उत्तरी साइबेरिया के प्रवासी पक्षी, उत्तरी पिंटेल कुछ अन्य दुर्लभ पक्षी हैं, जिन्हें यहां देखा गया।

उत्तर प्रदेश में बढ़ती सर्दी के बीच कई दुर्लभ प्रवासी पक्षी देखने को मिले हैं। (Wikimedia Commons)

उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) में जैसे-जैसे दिन बीत रहे हैं वैसे-वैसे राज्य में दुर्लभ प्रवासी पक्षी(Rare Migratory Birds) देखने को मिल रहे हैं। राजधानी लखनऊ(Lucknow) में सोमवार को कई दुर्लभ पक्षी देखने को मिले। पक्षी देखने वालों का कहना है कि भारतीय पित्त(Indian Pitta) (इसके पंखों में 9 रंगों के लिए इसे 'नवरंग' भी कहा जाता है)। इसी के साथ ट्रांस-हिमालयी क्षेत्र से आने वाली प्रवासी बतख, सुर्ख शेल्डक (Tulip Shelduck), ब्लैक हुडेड ओरिओल(Black Hooded Oriole) और उत्तरी साइबेरिया के प्रवासी पक्षी, उत्तरी पिंटेल (Northern Pintail) कुछ अन्य दुर्लभ पक्षी हैं, जिन्हें यहां देखा गया।

बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी के पूर्व निदेशक और एक उत्साही पक्षी निरीक्षक असद आर रहमानी के मुताबिक, "लखनऊ में पक्षियों द्वारा पसंद किए जाने वाले कई गांव हैं जो पारिस्थितिक तंत्र के स्वास्थ्य के सबसे महत्वपूर्ण संकेतक हैं। वे प्रकृति के स्वास्थ्य को स्थिर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे पर्यावरण प्रणाली के जैव संकेतक के रूप में जाने जाते हैं।"

विभिन्न शहरों के पक्षियों पर सात किताबें लिखने वाले आईएएस अधिकारी संजय कुमार ने कहा कि किसी शहर में पक्षियों की विविधता होने पता चलता है कि वह स्थान कितना सुरक्षित है।

कुमार ने नीरज श्रीवास्तव के साथ मिलकर 'बर्डस ऑफ लखनऊ' नामक पुस्तक लिखी है, जो शहर में पाए जाने वाले 250 से ज्यादा प्रकार के पक्षियों का एक दस्तावेज है।

श्रीवास्तव ने कहा, "पक्षी जीवन का अभिन्न अंग हैं। वे हमें प्रकृति का सम्मान करने का मौका देते हैं जो कई बार प्यार का प्रतिफल देती है।"

लखनऊ में लगभग 200 पक्षी देखने वालों के एक समूह ने कुकरैल जंगल को पक्षी देखने के लिए सबसे पसंदीदा स्थल बताया है।


यह भी पढ़ें- बिहार सरकार अब बायोचार का उपयोग कर बढ़ाएगी मिट्टी की उर्वरक क्षमता

आईआईएम-लखनऊ परिसर, संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआईएमएस) परिसर, राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान, रिमोट सेंसिंग एप्लीकेशन सेंटर , रेजीडेंसी परिसर, छावनी और लखनऊ के आसपास वेटलैंड वाले इलाके पक्षियों के लिए अन्य गंतव्य हैं।

Input-IANS; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep Reading Show less

गूगल लॉन्च कर सकता है नया फोल्डेबल फोन जिसको कह सकते है "पिक्सल नोटपैड" (Pixabay)

सर्च ईंजन गूगल अपने पहले फ़ोल्डबल फ़ोन 'पिक्सल फोल्ड' को लॉन्च करने की योजना बना रही है। गूगल ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि इस फोल्डेबल फोन को पिक्सल नोटपैड कहा जा सकता है।
गिज्मोचाइना के रिपोर्ट के अनुसार, सिम सेटअप स्क्रीन के एनिमेशन में एक स्मार्टफोन दिखाया गया है जिसमें एक साधारण सिंगल-स्क्रीन डिजाइन नही बल्कि एक बड़ा फोल्डेबल डिस्प्ले है।

नाइन टू फाइव गूगल के अनुसार, यह डिवाइस गैलेक्सी जेड फोल्ड 3 से कम कीमत की हो सकती है। इस फोल्डेबल डिवाइस की कीमत 1,799 डॉलर हो सकती है।

Keep reading... Show less