Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

रतन टाटा को दिया जाएगा असम राज्य का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार

मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने गुरुवार को 'असम दिवस' के अवसर पर रतन टाटा को 'असम बैभव पुरस्कार' से सम्मानित करने की घोषणा की है।

रतन टाटा को दिया जाएगा 'असम बैभव अवार्ड'। [Wikimedia Commons]

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) ने गुरुवार को 'असम दिवस' के अवसर पर राज्य के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार 'असम बैभव पुरस्कार'(Assam Baibhav Award) से उद्योगपति रतन टाटा (Ratan Tata) को सम्मानित करने की घोषणा की है। सरमा ने राष्ट्रीय राजधानी में मीडियाकर्मियों से कहा कि रतन टाटा ने असम में कैंसर के इलाज में बहुत बड़ा योगदान दिया है।

मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, "यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि असम सरकार ने टाटा ट्रस्ट के अध्यक्ष रतन टाटा (Ratan Tata) को असम में कैंसर की देखभाल को आगे बढ़ाने में उनके असाधारण योगदान के लिए अपना सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, असम बैभव से सम्मानित करने का फैसला लिया है।''


असम सरकार के एक अधिकारी ने कहा कि टाटा(Tata) ट्रस्ट के न्यासी बोर्ड ने पहले राज्य सरकार को सूचित किया था कि उन्होंने राज्य और जिला स्तर पर 3-स्तरीय कैंसर देखभाल ग्रिड स्थापित करने के लिए 540 करोड़ रुपये की मंजूरी दी है।

यह भी पढ़ें : 2021 में यूट्यूब पर गेमिंग और कॉमेडी वीडियो ने किया राज

असम दिवस 2 दिसंबर को स्वर्गदेव चाओलुंग सुकफा के शासन (पहले अहोम राजा और असम के वास्तुकारों में से एक) को मनाने के लिए मनाया जाता है। (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)

मेटा(Meta) के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है। एनगैजेट की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने कहा कि यूजर्स के फीड और स्टोरीज में पोस्ट करने के तरीके को सशक्त करने वाला एल्गोरिदम अब ऐसे कंटेंट को प्राथमिकता देगा, जिसमें 'बदमाशी, अभद्र भाषा या हिंसा भड़काने वाली सामग्री हो सकती है।'

इंस्टाग्राम के नियम पहले से ही इस प्रकार की अधिकांश सामग्री को प्रतिबंधित करते हैं, जबकि परिवर्तन सीमा रेखा पोस्ट या कंटेंट को प्रभावित कर सकता है जो अभी तक ऐप के मॉडरेटर तक नहीं पहुंची है। कंपनी ने एक अपडेट में बताया, "यह समझने के लिए कि क्या कोई चीज हमारे नियमों को तोड़ सकती है, हम चीजों को देखेंगे जैसे कि कैप्शन एक कैप्शन के समान है जो पहले हमारे नियमों को तोड़ता था।"

Keep Reading Show less

सरकार ने यह करके बिल्कुल सही कदम उठाया है, अमर जवान ज्योति अस्थाई थी: जेबीएस यादव (Wikimedia Commons)

दिल्ली इंडिया गेट पर जलने वाली अमर जवान ज्योति का नेशनल वॉर मेमोरियल में विलय हो गया, सरकार के इस फैसले को डेप्युटी चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ से 2005 में रिटायर्ड हुए लेफ्टिनेंट जनरल जेबीएस यादव ने इसे बिल्कुल सही ठहराया है। दरअसल इंडिया गेट पर पिछले 50 साल से अमर जवान ज्योति जल रही है। वहीं 25 फरवरी, 2019 को नेशनल वॉर मेमोरियल में अमर जवान ज्योति प्रज्वलित की गई थी।

साल 1971 का भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान सिलीगुड़ी कॉरिडोर पर हिंदुस्तानी सेना को कमांड कर रहे, लेफ्टिनेंट जनरल जेबीएस यादव ने आईएएनएस को बताया कि, सरकार ने यह करके बिल्कुल सही कदम उठाया है, अमर जवान ज्योति अस्थाई थी। उस वक्त हमारे पास नेशनल वॉर मेमोरियल नहीं था और अंग्रेजों का बना हुआ था। फिर इसमें बदलाव करके अमर जवान ज्योति लगाई गई थी।

Keep Reading Show less

नेताजी भारतीय लोगों के दिलों में थे, हैं और आगे भी रहेंगे। ( Wikimedia Commons )

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती समारोह पराक्रम दिवस के अंग के तौर पर आयोजित एक वेबिनार में जर्मनी से शामिल हुईं नेताजी सुभाष चंद्र बोस की बेटी डॉ. अनीता बोस फाफ ने कहा कि नेताजी के पास भारत की वित्तीय और आर्थिक मजबूती के लिए एक विजन था और भारत को आजादी मिलने से पहले ही उन्होंने एक योजना आयोग का गठन कर लिया था।

जर्मनी से इस वेबिनार को संबोधित करते हुए डॉ. अनीता बोस फाफ ने कहा कि नेताजी भारतीय लोगों के दिलों में थे, हैं और आगे भी रहेंगे। उन्होंने कहा कि हालांकि उनके पिता एक धर्मनिष्ठ हिंदू थे लेकिन उनके मन में सभी धर्मों के लिए सम्मान था। उनके पिता ने एक ऐसे भारत की कल्पना की थी जहां सभी धर्म के लोग शांतिपूर्वक सह-अस्तित्व में रहते हों। उन्होंने कहा कि नेताजी लैंगिक समानता के हिमायती थे। उनका दृष्टिकोण एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण करना था जहां पुरुषों और महिलाओं को न केवल समान अधिकार हों, बल्कि वे समान कर्तव्यों का पालन भी कर सकें।

Keep reading... Show less