Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
सुरक्षा
देश

भारत ने इजात किया आतंकवाद से लड़ने का नया हथियार

इस आविष्कार का मुख्य उदेश्य कूड़ेदान में फेंके गए विस्फोटक और रदिओधर्मी सामग्री आदि का पता लगाने में सक्षम बनाकर आतंकी वारदातों को रोकना है।

जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली (सांकेतिक चित्र Pixabay)

हम अक्सर देखा है की आतंकवादी हमेशा दिल्ली या मुंबई जैसे महानगरों के भीड़भाड़ वाले इलाकों में विस्फोटक रखने के लिए डस्टबिन का इस्तेमाल करते आएं हैं लेकिन अब भारत ने आतंकियों के मंसूबो पर पानी फेरने के लिए तरीका खोज निकाला है। भारत ने अब एक ऐसे उपकरण का आविष्कार किया हैं जोकि रेडियो एक्टिव पदार्थों व विस्फोटों की तुरंत पहचान कर ऐसे आतंकी हमलों को रोक देगा। इस अविष्कार में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की भी मदद ली गई है।

दिल्ली विश्वविद्यालय और जामिया मिलिया इस्लामिया की एक फैकल्टी ने मिलकर एक ऐसा डस्टबिन इजात किया है जोकि इंसानो की तरह व्यवहार करता है और कृतिम बुद्धि होने के कारण समझदारी से काम करता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक यह डस्टबिन अर्ली वार्निंग के ज़रिये रसायनिक हमले और विस्फोटकों से सुरक्षा प्रदान करने में सक्षम है।


Delhi University Terrorism DU Professors दिल्ली यूनिवर्सिटी (Wikimedia Commons)

भारत के इस आविष्कार को ऑस्ट्रेलियाई सरकार द्वारा बौद्धिक सम्पदा के रूप में पेटेंट प्रदान किया गया है।

इस आविष्कार का मुख्य उदेश्य कूड़ेदान में फेंके गए विस्फोटक और रदिओधर्मी सामग्री आदि का पता लगाने में सक्षम बनाकर आतंकी वारदातों को रोकना है। डस्टबिन के अनार आगे हुए सेंसर किसी भी हानिकारक वस्तु की पहचान कर संकेत भेजकर सूचित करते हैं।


जामिया मिलिया इस्लामिया के फैकल्टी डॉ. मनसफ द्वारा यह आविष्कार किया गया है। इसमें डॉ. किरण चौधरी, शिवाजी कॉलेज, डीयू, डॉ आलम एसोसिएट प्रोफेसर, बिग डेटा, क्लाउड कंप्यूटिंग, और आईओटी प्रयोगशाला, कंप्यूटर विज्ञान विभाग भी इसमें शामिल रहे हैं। इस आविष्कार में और भी कई संस्थानों के शोधकर्ता शामिल थे।

बताना ज़रूरी है की यूएसए की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी ने दुनिया के शीर्ष 2 प्रतिशत वैज्ञानिकों की प्रतिष्ठित वैश्विक सूची में जामिया के 16 शोधकतार्ओं को शामिल किया है। यह सूची स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी एमिनेंट प्रोफेसर, , प्रोफेसर जॉन इओनिडिस में विशेषज्ञों द्वारा तैयार की गई है। इसे एल्सेवियर बीवी विश्वप्रसिद्ध विश्वविद्यालय ने प्रकाशित किया है।

यह भी पढ़ें- सलमान खुर्शीद ने हिन्दू धर्म में आपत्तिजनक टिप्पणी पर वकील ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत

इस लिस्ट में भारत से कुल 3352 शोधकर्ताओं जोकि वैश्विक स्तर पर देश के बहुमूल्य प्रभाव का प्रतिनिधित्व करता है। इसमें 16 शोधकर्ता जामिया मिलिया इस्लामिया से सम्बंधित है। स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी ने दो अलग-अलग सूचियां जारी की पहली प्रतिष्ठित सूची करियर-लॉन्ग डेटा पर आधारित है जिसमें 08 जामिया प्रोफेसरों ने अपनी जगह बनाई। वर्ष 2020 के प्रदर्शन की दूसरी सूची में संस्थान के 16 वैज्ञानिक हैं।

Input-IANS; Edited By-Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

केंद्रीय बल जल्द ही नक्सलियों के खिलाफ समन्वित अभियान चलाएंगे। (Wikimedia Commons )

केंद्रीय बल जल्द ही छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, झारखंड और ओडिशा में नक्सलियों के खिलाफ समन्वित अभियान चलाएंगे। सूत्रों द्वारा बुधवार को यह जानकारी दी गई। उन्होंने खुफिया सूचनाओं का हवाला देते हुए कहा कि माओवादी बारिश का मौसम खत्म होने के बाद सुरक्षा बलों पर बड़े हमले करने के लिए खुद को फिर से संगठित कर रहे हैं।

खुफिया इनपुट से यह भी पता चला है कि शीर्ष माओवादी नेतृत्व मध्य भारत में अपने कैडर के घटते पदचिह्न के बारे में चिंतित है, खासकर छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और झारखंड में, और अब इन क्षेत्रों में युवाओं को अपने कैडर में लाने की कोशिश कर रहा है, उनके झूठे कहानी के साथ लाने के लिए आगे बढ़ेंगे।

Keep Reading Show less

पूर्वोत्तर सीमा क्षेत्र बहुत संवेदनशील हैं और उनके लिए तोड़फोड़ के ऐसे प्रयासों के बारे में जानना नितांत आवश्यक है। (Unsplash)

भारत चीन सीमा पर बसे हुए गांव चिंता का विषय हैं। हैग्लोबल काउंटर टेररिज्म काउंसिल के सलाहकार बोर्ड ने एक बड़ी सूचना देते हुए बड़ा खुलासा किया है कि चीन ने भारत के साथ अपनी सीमा पर 680 'जियाओकांग' (समृद्ध या संपन्न गांव) बनाए हैं। ये गांव भारतीय ग्रामीणों को बेहतरीन चीनी जीवन की और प्रभावित करने के लिए हैं।

कृष्ण वर्मा, ग्लोबल काउंटर टेररिज्म काउंसिल के सलाहकार बोर्ड के एक सदस्य ने आईएएनएस को बताया, " ये उनकी ओर से खुफिया मुहिम और सुरक्षा अभियान है। वे लोगों को भारत विरोधी बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इसलिए हम अपने पुलिस कर्मियों को इन प्रयासों के बारे में अभ्यास दे रहे हैं और उन्हें उनकी हरकतों का मुकाबले का सामना करने के लिए सक्षम बना रहे हैं। चीनी सरकार के द्वारा लगभग 680 संपन्न गांव का निर्माण किया जा चुका है। जो चीन और भूटान की सीमाओं पर हैं। इस गांव में चीन के स्थानीय नागरिक भारतीयों को प्रभावित करते है कि चीनी सरकार बहुत अच्छी है। शुक्रवार को भारत सरकार के पूर्व विशेष सचिव वर्मा गुजरात के गांधीनगर में राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय (आरआरयू) में 16 परिवीक्षाधीन उप अधीक्षकों (डीवाईएसपी) के लिए 12 दिवसीय विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन के अवसर पर एक कार्यक्रम में थे।

Keep Reading Show less

भारत के संयुक्त राष्ट्र मिशन की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे। (IANS)

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के भारत के खिलाफ बेबुनियाद आरोप लगाए हैं, जिसके जवाब में भारत ने पाकिस्तान को आतंकवाद का संरक्षक और अल्पसंख्यकों का दमन करने वाला बताया है।

भारत के संयुक्त राष्ट्र मिशन की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे ने शुक्रवार को कहा, " पाकिस्तान इस उम्मीद में अपने बैकयार्ड में आतंकवादियों का पोषण करता है कि वे केवल उसके पड़ोसियों को नुकसान पहुंचाएंगे। हमारा क्षेत्र, वास्तव में, पूरी दुनिया को उनकी नीतियों के कारण नुकसान उठाना पड़ा है।" उन्होंने कहा, "आज, पाकिस्तान में अल्पसंख्यक, सिख, हिंदू, ईसाई, अपने अधिकारों के लगातार हनन के भय और राज्य प्रायोजित दमन में जी रहे हैं। यह एक ऐसा शासन है जहां यहूदी-विरोधीवाद को इसके नेतृत्व द्वारा सामान्य करार दिया जाता है और यहां तक कि इसे उचित भी ठहराया जाता है।"

भारत में अल्पसंख्यकों के साथ व्यवहार के बारे में खान के दावों का जवाब देते हुए, दुबे ने कहा, "बहुलवाद एक अवधारणा है जिसे पाकिस्तान के लिए समझना बहुत मुश्किल है, जो संवैधानिक रूप से अपने अल्पसंख्यकों को राज्य के उच्च पदों की आकांक्षा से रोकता है। कम से कम वे जो बोल रहे हैं उसके बारे में पहले आत्मनिरीक्षण कर सकते हैं, जो विश्व मंच पर उनका उपहास उड़ा रहा है।"

उन्होंने कहा, "पाकिस्तान के विपरीत, भारत अल्पसंख्यकों की पर्याप्त आबादी वाला एक बहुलवादी लोकतंत्र है, जो राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्य न्यायाधीशों और थल सेना प्रमुखों सहित देश में सर्वोच्च पदों पर आसीन हुए हैं। भारत एक स्वतंत्र मीडिया और एक स्वतंत्र न्यायपालिका वाला देश है, जो हमारे संविधान पर नजर रखती है और उसकी रक्षा करती है।"

पाकिस्तान 'अभी भी बांग्लादेश के लोगों के खिलाफ एक धार्मिक और सांस्कृतिक नरसंहार को अंजाम देने के हमारे क्षेत्र में घृणित रिकॉर्ड रखता है।

पाकिस्तान 'अभी भी बांग्लादेश के लोगों के खिलाफ एक धार्मिक और सांस्कृतिक नरसंहार को अंजाम देने के हमारे क्षेत्र में घृणित रिकॉर्ड रखता है। (Pixabay)

Keep reading... Show less