Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

रात में कर्फ्यू और दिन में लाखों लोगों की रैलियां: वरुण गांधी

वरुण गांधी ने ओमिक्रॉन के लगातार बढ़ रहे खतरे के बीच बड़ी-बड़ी रैलियों में लाखों लोगों की भीड़ जुटाकर शक्ति प्रदर्शन करने वाली राजनैतिक पार्टियों की आलोचना की।

वरुण गांधी, भाजपा सांसद [twitter]

बीजेपी सांसद वरुण गांधी (Varun Gandhi) ने देश में लगातार बढ़ रहे ओमिक्रॉन (Omicron) के खतरे के बीच रैलियां करने पर सवाल खड़ा करते हुए कहा है कि रात में कर्फ्यू लगाना और दिन में रैलियों में लाखों लोगों को बुलाना सामान्य जनता की समझ से बाहर है। इस समय ईमानदारी से प्राथमिकता तय करने की जरूरत है।

वरुण गांधी ने ट्वीट कर कहा, ''रात में कर्फ्यू लगाना और दिन में रैलियों में लाखों लोगों को बुलाना - यह सामान्य जनमानस की समझ से परे है।''

रैलियों में लाखों लोगों की भीड़ जुटाकर शक्ति प्रदर्शन करने की आलोचना करते हुए कहा कि भाजपा सांसद (Varun Gandhi) ने आगे अपने ट्वीट में लिखा , ''उत्तर प्रदेश की सीमित स्वास्थ्य व्यवस्थाओं के मद्देनजर हमें ईमानदारी से यह तय करना पड़ेगा कि हमारी प्राथमिकता भयावह ओमिक्रॉन के प्रसार को रोकना है अथवा चुनावी शक्ति प्रदर्शन।''


दरअसल, 2022 में उत्तर प्रदेश, मणिपुर, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब सहित पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव (Assembly Elections 2022) होने हैं। चुनाव को सामने देखते हुए सभी राजनैतिक पार्टियां अपने-अपने चुनाव प्रचार में लग गयीं हैं। पर देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना (Covid-19) और ओमिक्रॉन (Omicron) के खतरे को देखते हुए इन राज्यों में होने वाले विधान सभा चुनाव को टालने की मांग भी की जाने लगी है। हाल ही में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव टालने को लेकर अपील की थी।

इसपर सवाल पूछे जाने पर कुछ दिन पहले केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भाजपा मुख्यालय में मीडिया से कहा था कि किस जगह पर कौन सी राजनीतिक गतिविधि होनी चाहिए या नहीं होनी चाहिए, यह तय करने का दायित्व एक संवैधानिक संस्था ( चुनाव आयोग ) के पास है और वही इस मामले को देखेगी।

यह भी पढ़ें : सिख परंपरा भारत की भक्ति व शक्ति का एक अद्भुत संगम है: योगी

हालांकि, चुनाव आयोग ने अभी तक विधान सभा चुनाव की आधिकारिक तारीखों की घोषणा नहीं की है, लेकिन तमाम राजनीतिक दलों ने चुनावी राज्यों में अपनी ताकत झोंकनी शुरू कर दी है। सभी रैलियों और रोड शो में लाखों लोगों की भीड़ जुटाकर शक्ति प्रदर्शन करने में लगे हुए हैं। ऐसे में वरुण गांधी के इस ट्वीट ने इसे लेकर फिर से एक बड़ा सवाल खड़ा कर दिया है। (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep Reading Show less

गूगल लॉन्च कर सकता है नया फोल्डेबल फोन जिसको कह सकते है "पिक्सल नोटपैड" (Pixabay)

सर्च ईंजन गूगल अपने पहले फ़ोल्डबल फ़ोन 'पिक्सल फोल्ड' को लॉन्च करने की योजना बना रही है। गूगल ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि इस फोल्डेबल फोन को पिक्सल नोटपैड कहा जा सकता है।
गिज्मोचाइना के रिपोर्ट के अनुसार, सिम सेटअप स्क्रीन के एनिमेशन में एक स्मार्टफोन दिखाया गया है जिसमें एक साधारण सिंगल-स्क्रीन डिजाइन नही बल्कि एक बड़ा फोल्डेबल डिस्प्ले है।

नाइन टू फाइव गूगल के अनुसार, यह डिवाइस गैलेक्सी जेड फोल्ड 3 से कम कीमत की हो सकती है। इस फोल्डेबल डिवाइस की कीमत 1,799 डॉलर हो सकती है।

Keep reading... Show less